ताज़ा खबर
 

‘क्यों व्यर्थ की चिंता करती हो, बस दीया जलाओ’ प्रियंका गांधी ने बिजली सप्लाई पर जताई चिंता तो हो गईं ट्रोल

पीएम ने देश के लोगों से रविवार की रात 9 बजे घर की लाइट बंद करके दरवाजे या बालकनी में खड़े होकर टॉर्च या फिर मोमबत्ती जलाने का आग्रह किया है। पीएम के इस आह्वान से पावर ग्रिड पर फेल होने और ब्लैकआउट का खतरा मंडराने लगा है। इसको लेकर कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने पीएम पर निशाना साधा है और एक ट्वीट किया है।

कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा। (PTI5_21_2016_000043A)

कोरोनावायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को 21 दिनों के लिए लॉकडाउन कर दिया था। पीएम मोदी शुक्रवार की सुबह 9 बजे देश के नाम वीडियो मैसेज के जरिए संदेश साझा किया। पीएम मोदी ने वीडियो मैसेज के जरिए कहा, देश एक होकर कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ सकता है। पीएम ने देश के लोगों से रविवार की रात 9 बजे घर की लाइट बंद करके दरवाजे या बालकनी में खड़े होकर टॉर्च या फिर मोमबत्ती जलाने का आग्रह किया है। पीएम के इस आह्वान से पावर ग्रिड पर फेल होने और ब्लैकआउट का खतरा मंडराने लगा है। इसको लेकर कांग्रेस महासचिव और उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने पीएम पर निशाना साधा है और एक ट्वीट किया है।

प्रियंका ने जैसे ही इसे लेकर ट्वीट किया यूजर्स ने उन्हें ट्रोल करना शुरू कर दिया। प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया है, “जब देश कोरोना के खिलाफ युद्ध में एकजुटता का इजहार कर रहा है, आशा है कि केंद्र सरकार द्वारा पॉवर ग्रिडस एवं इंजीनियरों की चिंताओं का भी ध्यान रखा जा रहा है। ताकि संकटकाल में और जरूरत के समय बिजली आपूर्ति में कोई बाधा न हो।”
India Coronavirus LIVE News Updates: यहां देखे कोरोना वायरस से जुड़े सभी लाइव अपडेट

प्रियंका के इस ट्वीट पर एक यूजर ने लिखा “तू घर मे रह अपनी देखभाल कर, इटली वालो को ढूंढ रहा है कॅरोना।बाकी देश मोदी जैसे नेता के साथ है।” वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा “अरे पिंकी क्यो तुम व्यर्थ चिंता कर रही हो मोदी जी ने सारे ग्रिडों को दुरुस्त करवा दिया है। तुम बस दीया जलाओ।” एक यूजर ने लिखा “मैडम इतनी ज्ञान की बातें कुरान से सीखी है क्या आपने, अरे मैडम जी लाइट बंद करने के लिए बोला है, फ्रिज एसी बंद करने के लिए नहीं बोला है, आसमानी किताब पढ़ कर आसमानी ज्ञान प्राप्त कर लिया है आपने।”

बता दें मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 9 मिनट तक लाइट बंद होने के कारण बिजली की मांग 15000 मेगावाट कम हो जाएगी। यह फ्रीक्वेंसी को प्रभावित करेगी। इस स्थिति में कैलिब्रेशन के प्रबंधन की जरूरत होगी और इसके लिए केवल एक दिन का समय है। पावर ग्रिड को ब्लैकआउट जैसी स्थिति में फ्रीक्वेंसी को मैनेज करने की जरूरत है।

उधर पीएम मोदी की इस अपील से पावर ग्रिड के प्रबंधकों की चिंता बढ़ गई है। वे इस दौरान ग्रिड की स्थिरता सुनिश्चित करने की तैयारी में जुट गए हैं। ग्रिड के एकीकृत संचालन के लिए जिम्मेदार पावर सिस्टम ऑपरेशन कॉरपोरेशन (पीओएसओसीओ) यह सुनिश्चित करने के लिए काम कर रहा है कि ग्रिड के संभावित ठप होने के कारण ग्रिड पर कोई दबाव नहीं आए और देश भर में बिजली ठप न हो।

Next Stories
1 पीएम की बत्ती बुझाओ अपील से चरमरा सकती है बिजली वितरण व्यवस्था, जानें- यूपी, गुजरात समेत अन्य राज्यों की क्या है तैयारी?
2 ‘हमने पांच हफ्ते गंवा दिए’, कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने वालों ने केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप
3 लॉकडाउन को अंगूठा दिखा रथयात्रा में पहुंचे लोग, पुलिस ने किया मना तो बरसाए पत्थर, कई पुलिसवाले घायल
ये पढ़ा क्या ?
X