ताज़ा खबर
 

जनसत्ता विशेष: जम्मू और कश्मीर में बंदी से थमी जिंदगी की रफ्तार

कोरोना विषाणु की लगातार बढ़ती रफ्तार पर काबू पाने के लिए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर प्रशासन हर तरह से सावधानी बरतने के साथ-साथ लोगों को जागरूक करने के लिए भी कई कदम उठा रहा है। सरकार की ओर से लगाई पूर्ण बंदी के कारण प्रदेश के बाजारों में सन्नाटा है।

Author Published on: March 25, 2020 1:34 AM
5 अगस्त 2019 को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटा दिया गया था।

तमन्ना अख्तर
कोरोना विषाणु की लगातार बढ़ती रफ्तार पर काबू पाने के लिए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर प्रशासन हर तरह से सावधानी बरतने के साथ-साथ लोगों को जागरूक करने के लिए भी कई कदम उठा रहा है। सरकार की ओर से लगाई पूर्ण बंदी के कारण प्रदेश के उधमपुर जिले में जहां बाजारों में सन्नाटा है, वहीं लोग तेज रफ्तार जिंदगी से थोड़ा थम कर अपने परिवार के साथ समय बिताते हुए नजर आए।

हालांकि, जिले में अबतक कोरोना विषाणु का कोई मामला नहीं मिला है लेकिन उपायुक्त डॉ. पीयूष सिंगला ने एहतियातन जिले में 22 मार्च से पूर्ण बंदी लगा दी थी। हालात की गंभीरता को देखते हुए यह जरूरी है पर इससे लोगों की रोजमर्रा की जिंदगी भी प्रभावित हो रही है।

स्थानीय निवासी शमी खान की बेटी शहनाज की शादी अगले महीने 20 तारीख को तय है। बकौल शमी खान, यह उनके घर की पहली शादी है। लिहाजा वे इसे बड़े जोश-ओ खरोश से करना चाहते थे। लेकिन शादी की तैयारियां शुरू करने से पहले ही बाजार बंद हो गए।

इक्का-दुक्का दवा के दुकानों में बैठे दुकानदार और उनका सहारा बन रहे कुत्तों की आवाज ही सुनसान सड़कों पर गूंज रही है।शहनाज की बुआ शमा के मन में भी इस महामारी का डर बैठ गया है। हर साल की तरह वे इस साल भी सर्दियों के दिनों में अपने दोनों बच्चों के साथ पहलगाम (कश्मीर) से यहां छुट्टियां काटने आई हुई हैं। पहले शादी के कारण उन्होंने घर जाने की तारीख टाली लेकिन अब रास्ते ही बंद हो गए हैं।

उन्होंने बताया कि पहले तो धारा 370 हटाने के कारण कश्मीर के स्कूल बंद हुए थे और अब इस बीमारी ने स्कूलों की छुट्टियां बढ़ा दी हैं। उन्होंने बताया, ‘मेरी बेटी पहली कक्षा में पढ़ती है। साल पूरा होने को है और वह स्कूल ही नहीं गई। वहां शिक्षा के हालात पहले ही बुरे थे और बढ़ती छुट्टियों के कारण बेटी पता नहीं कब स्कूल जा पाएगी।’

वे कहती हैं कि हालात ऐसे ही रहे तो शायद घर में शादी की तारीख भी बदलनी पड़ेगी। उन्होंने कहा, लोगों के मन में बीमारी का ऐसा खौफ है। ऐसे मे कौन आएगा इतने दूर से शादी में। और तो और सरकार ने ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने से मना किया है। ऐसे में सावधानी तो हमें ही बरतनी पड़ेगी।

उधर, जम्मू की उपायुक्त सुषमा चौहान ने 22 मार्च से 31 मार्च तक जिले में धारा 144 के आदेश जारी किए हुए है। उन्होंंने कहा कि इसके तहत एकसाथ तीन से ज्यादा बाहर निकलने वालों पर सख्ती बरती जाएगी जिसमे एक साल तक जेल की सजा का प्रावधान भी शामिल है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जनसत्ता विशेष: कोई दिनभर देखता रहा टीवी तो किसी ने खेला शतरंज
2 जनसत्ता विशेष: बंदी में कर्फ्यू जैसे हालात, सभी शहरों में सन्नाटा
3 जनसत्ता विशेष: राष्ट्रीय राजधानी ने कभी नहीं देखे ऐसे हालात