ताज़ा खबर
 

इंदौर में अचानक बढ़ गए जनाजों की संख्या, प्रशासन का दावा- कोरोना से मरे सिर्फ 16, पर सात दिन में कब्रिस्तान पहुंचे 145 जनाजे, जानें-क्यों?

Corona Virus: इस मामले पर स्थानीय पत्रकार का कहना है कि स्थानीय हास्पिटलों की मनमानी चल रही है। अस्पताल मनमनी कर रहे हैं वो मरीजों को लेने से ही मना कर देते हैं और उन्हें दूसरे अस्पतालों के लिए रेफर कर देते हैं।

इंदौर में जनाजों की संख्या अचानक बढ़ गई है। (फोटो-सोशल मीडिया)

कोरोना वायरस के मामले देशभर में दिन ब दिन बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में मध्य प्रदेश के इंदौर में ऐसा मामला सामने आया है जो चौंंकाने वाला है। दरअसल, इंदौर में कब्रिस्तान में हाल ही में जनाजों की संख्या बढ़ गई है जबकि प्रशासन का दावा है कि इंदौर में कोरोना से अभी तक कुल 16 लोगों की ही मौत हुई है। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि हफ्ते भर में इंदौर के कुछ इलाकों में जनाजों की संख्या कैसे बढ़ गई।

एबीपी न्यूज की एक रिपोर्ट में यह बात सामने आई है कि सात दिन में इंदौर के 4 कब्रिस्तान में 145 जनाजे पहुंचे हैं। जबकि इंदौर में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 173 है। इससे पहले मार्च के महीने में इंदौर के कब्रिस्तान में 130 जनाजे ही पहुंचे थे। इससे सवाल यह उठ रहा है कि क्या इंदौर में कोरोना वायरस के संक्रमण के मामले आधे-अधूरे ही बताए और दिखाए जा रहे हैं।

इंदौर के लुनियापुरा इलाके के कब्रिस्तान के कर्माचारी रफीक शाह बताते हैं कि पहले  महीने में 25-30 जनाजे ही आते थे। अब सात दिन में पचास जनाजे आए हैं। बाढ़गंगा इलाके के कब्रिस्तान में भी कुछ ऐसी ही तस्वीर सामने आई है। यहां के कर्मचारी बताते हैं कि  पहले एक महीने में 2-3  जनाजे आते थे लेकिन अब इस 7 दिन में 14 जनाजे आए हैं। हिंदू मुक्ति धाम  शव स्थल  की पड़ताल की गई तो वहां ऐसा मामला सामने नहीं आया। वहां के कर्मचारी बताते हैं कि  शवों की संख्या सामान्य है।

Coronavirus in India LIVE Updates

इस मामले  पर स्थानीय पत्रकार का कहना है कि स्थानीय हास्पिटलों की मनमानी चल रही है। अस्पताल मनमनी कर रहे हैं वो मरीजों को लेने से ही मना कर देते हैं और उन्हें दूसरे अस्पतालों के लिए रेफर कर देते हैं। जबकि प्रशासन का कहना है कि तीन किलोमीटर के दायरे में आने अस्पतालों को मरीजों का इलाज करना होगा जब उनसे मामला नहीं संभलेगा तो दूसरे अस्पताल के लिए उन्हें भेज दिया जाएगा। लेकिन अस्पताल उल्टा कर रहे हैं वह पहले कहते हैं कि बड़े अस्पताल जाइए और वहां से रेफर करा कर लाइए। पत्रकार का कहना है कि दो मरीजों की मौत ही इस चक्कर में हो गई वो चार अस्पताल भटकते रहे और इलाज के अभाव में दम तोड़ दिया।

ऐसे में सवाल ये है कि क्या इंदौर में स्वास्थ्य सेवाएं ना  मिलने के चलते मरीज दम तोड़ रहे हैं। क्या मुस्लिम परिवार कोरोना के मामले छिपा रहा है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App। जनसत्‍ता टेलीग्राम पर भी है, जुड़ने के ल‍िए क्‍ल‍िक करें।

Next Stories
1 डोनाल्ड ट्रम्प के थैंक्यू पर पीएम मोदी का ट्वीट, बोले- मुश्किल वक्त ही लाता है दोस्तों को करीब
2 corona Virus: लॉकडाउन में ऑनलाइन कोर्स कर रहे बीजेपी महासच‍िव राम माधव