ताज़ा खबर
 

खुफ‍िया अलर्ट- नेपाल से 40-50 संद‍िग्‍ध मुसलमान कोरोना मरीजों के आने की खबर, जाल‍िम मुख‍िया रच रहा साज‍िश

डीएम ने लिखा है, "वह नेपाल-भारत से हथियार की अवैध सप्लाई और FICN की तस्करी में भी शामिल है। साथ ही 40 से 50 कोरोना संदिग्ध भारतीय मुसलमान को भारत में आने की सूचना दी गई है।"

कुछ दिनों पहले ही दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात का कार्यक्रम आयोजित हुआ था। (फोटो-PTI)

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन जारी है। इस बीच देशभर के कई शहरों के कई इलाकों को सील किया जा चुका है, ताकि महामारी का सामुदायिक संक्रमण न हो। इस बीच पड़ोसी देश नेपाल से भारत में कोरोना वायरस फैलाने की साजिश का पता चला है। बिहार के पश्चिम चंपारण के जिलाधिकारी कुंदन कुमार ने एसएसबी के हवाले से प्राप्त जानकारी के आधार पर जिले के पुलिस अधीक्षक को खत लिखकर इस साजिश के प्रति आगाह किया है।

अपनी चिट्ठी में जिलाधिकारी ने लिखा है कि जालिम मुखिया जो ग्राम-जगरनाथपुर, पोस्ट- जानकी टोला, थाना-सेरवा, जिला- पारसा का निवासी है, भारत में कोरोना महामारी फैलाने की योजना बना रहा है। डीएम ने लिखा है, “वह नेपाल-भारत से हथियार की अवैध सप्लाई और FICN की तस्करी में भी शामिल है। साथ ही 40 से 50 कोरोना संदिग्ध भारतीय मुसलमान को भारत में आने की सूचना दी गई है।”

डीएम ने यह पत्र 7 अप्रैल को लिखा है। डीएम ने चिट्ठी में एसपी से भारत-नेपाल सीमा पर उचित सतर्कता बरतने और संदिग्ध गतिविधियों पर कड़ाई से निगरानी करने का अनुरोध किया है।

इस बारे में जब बिहार के अतिरिक्त गृह सचिव आमिर सुबहानी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि एसएसबी ने ने यह नहीं कहा है कि लोग घुसपैठ कर चुके हैं बल्कि ऐसा होने की आशंका जताई गई है। उन्होंने कहा कि इस सूचना पर हमने स्थानीय पुलिस को अलर्ट कर दिया है और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर चौकसी बरती जी रही है।

 

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 सर्वे: तीन हफ्तों में 90% मजदूरों का छिना रोजगार, 94 फीसदी नहीं किसी सरकारी राहत योजना के हकदार, 17% के पास तो बैंक अकाउंट भी नहीं!
2 12 घंटे में रिकॉर्ड 30 मौतें!, दिल्ली, महाराष्ट्र समेत पांच राज्य कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित, जानें- पीड़ितों और मौत का आंकड़ा