ताज़ा खबर
 

संवाद: भ्रम पर क्या है डब्लूएचओ की सलाह

कोरोना वायरस की दहशत इस कदर बढ़ी है कि सावधानियों के बीच ऐसी कई अफवाहें हैं, जो फैल रही हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने ऐसी ही बातों की सूची बनाई है, जो भ्रम हैं, लेकिन दुनिया भर में वायरल हो रहे हैं। ऐसे मिथकों को लेकर डब्लूएचओ ने सलाह जारी की है।

जनसत्ता संवादकोरोना की हर स्तर पर कड़ी जांच हो रही है।

तापमान के बढ़ने से कोरोना विषाणु का प्रभाव कम होगा
किसी भी वैज्ञानिक या संस्थान ने पुष्टि नहीं की है। अगले एक-दो महीने में तापमान में वृद्धि होने पर ही इसकी पुष्टि हो पाएगी कि कोरोना के विषाणु गर्मी से कितने प्रभावित होते हैं।

कोरोना विषाणु को हेंड ड्रायर से मारा जा सकता है
कोरोना विषाणु को हेंड ड्रायर से नहीं मारा जा सकता है। हाथों को अल्कोहल मिश्रित साबुन के घोल या हैंड वॉश से धोने एवं अच्छी तरह से पोंछने या सुखा लेने की सलाह दी गई है।

कोरोना के विषाणुओं को खत्म कर सकते हैं…
अल्ट्रावायलेट लाइट स्टरलाइजर का प्रयोग नहीं करना चाहिए। अल्ट्रावायलेट विकिरण से त्वचा जल सकती है।

संक्रमित लोगों का पता लगाने में तापीय परीक्षण उपयोगी है
तापीय परीक्षण से उन लोगों का पता लगाया जा सकता है जो कोरोनो के संक्रमण के कारण बुखार से पीड़ित हैं। हालांकि, इससे उन लोगों का पता नहीं लगाया जा सकता जो कोरोना से संक्रमित तो हैं लेकिन उन्हें बुखार नहीं है। कोरोना के संक्रमित व्यक्ति में बुखार का लक्षण दो से 10 दिन बाद दिखाई देता है।

अल्कोहल या क्लोरीन का छिड़काव …
शरीर पर अल्कोहल या क्लोरीन के छिड़काव से आपके अंदर पहले से मौजूद कोरोना वायरस नहीं मरेंगे। अल्कोहल और क्लोरीन दोनों ही फर्श को कीटाणुरहित बनाने में उपयोगी हो सकते हैं, लेकिन कोरोना को लेकर ये प्रभावी नहीं हैं।

चीन से आने वाले पत्र या पार्सल से खतरा
चीन से आने वाले पत्र या कोई पार्सल को प्राप्त करने से कोरोना विषाणु को फैलने का कोई खतरा नहीं है। यह विषाणु वस्तुओं पर ज्यादा समय तक जीवित नहीं रहता।

पालतू जानवर भी फैला सकते हैं संक्रमण
अभी तक इस बात का कोई सबूत नहीं है कि पालतू जानवर जैसे कुत्ता या बिल्ली से कोरोना संक्रमण फैला हो। हालांकि पालतू जानवरों के संपर्क के बाद अपने हाथों को साबुन और पानी से जरूर धोएं।

निमोनिया के टीके कोरोना वायरस से बचा सकते हैं!
निमोनिया के टीके जैसे न्यूमोकोकल वैक्सीन और हीमोफिलस इन्फ्लुएंजा टाइप बी (एचआइबी) वैक्सीन से कोरोना वायरस नहीं मरते हैं, ना ही ये टीके प्रभावित होने से बचा सकते हैं। कोरोना वायरस इतना नया और अलग है कि इसे विशेष तौर पर इसी बीमारी के लिए बनाए गए टीके से ही रोका जा सकता है।

गर्म मौसम और नमी में नहीं फैलता कोरोना
गर्म मौसम में कोरोना नहीं फैलता या नमी बनाए रखने के लिए बार-बार गुनगुने पानी से नहाना चाहिए। कोरोना विषाणु कहीं भी, किसी भी क्षेत्र फैल सकता है। गर्म और नम मौसम में भी। कोरोना संक्रमण का पर्यावरण या जलवायु से कोई संबंध नहीं है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 संवाद: कहर ढा रहे कोरोना को कैसे देंगे मात
2 संवाद: कोरोना- दुनिया से कौन सा सच छुपा रहा है चीन
3 1998 में Congress ने भी पूर्व CJI रंगनाथ मिश्रा को भेजा था राज्यसभा, 1984 के दंगों में दी थी क्लीन चिट
IPL 2020 LIVE
X