ताज़ा खबर
 

‘हमने पांच हफ्ते गंवा दिए’, कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने वालों ने केंद्र सरकार पर लगाए गंभीर आरोप

कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने वालों ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इन लोगों का कहना है कि सरकार ने इस महामारी से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने की अनुमति देर से दी जिसके चलते देश ने पांच हफ्ते गंवा दिए।

Author Edited By सिद्धार्थ राय नई दिल्ली | Published on: April 4, 2020 3:07 PM
पीपीई किट बनाने वालों ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप।

देश में कोरोना का संक्रमण तेजी से बढ़ता जा रहा है। देश भर के सभी डॉक्टर और पैरामेडिक्स लोगों के इलाज़ में लगे हुए हैं। लेकिन कोरोना वायरस से बचाव में जुटी टीम के लिए एन-95 मास्क, पर्सनल प्रोटेक्टिव किट और सैनिटाइजर की किल्लत हो रही है। मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए किट और मास्क की और ज्यादा जरूरत है। इसी बीच कोरोना से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने वालों ने केंद्र सरकार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। इन लोगों का कहना है कि सरकार ने इस महामारी से लड़ने के लिए जरूरी मेडिकल उपकरण बनाने की अनुमति देर से दी जिसके चलते देश ने पांच हफ्ते गंवा दिए।

ऐसे समय में जब स्वास्थ्यकर्मी व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई किट) की कमी के बारे में बार-बार चिंता जता रहे हैं, ऐसे में सरकार पर सवाल खड़े हो रहे हैं कि क्या मोदी सरकार ने स्वास्थ्य संकट के इस पहलू को सही तरीके से संभाला है? क्विंट की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रिवेंटिव वियर मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (PWMAI) के अध्यक्ष संजीव ने बताया कि पीपीई की कमी की मुख्य वजह इसको लेकर सरकार की लेट प्रतिक्रिया है।

Coronavirus in India LIVE Updates: यहां पढ़ें कोरोना वायरस से जुड़ी सभी लाइव अपडेट

संजीव और पीपीई के अन्य निर्माताओं का कहना है कि उन्होंने फरवरी में स्वास्थ्य मंत्रालय से संपर्क किया था और सरकार से पीपीई किट को स्टॉक करने का आग्रह किया था। लेकिन तब स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना था कि इस मामले में उन्हें केंद्र से कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। संजीव ने कहा कि हमें 21 मार्च तक सरकार की तरफ से कोई मेल नहीं मिला। अगर सरकार ने 21 फरवरी तक मेल का जवाब या विनिर्देश प्रदान किये होते तो अबतक पीपीई किट की हम पर्याप्त व्यवस्था कर पाते। संजीव ने आगे कहा “लगभग 5 से 8 मार्च के बीच राज्य सरकारों, सेना के अस्पतालों, रेलवे अस्पतालों से टेंडर आना शुरू हुए।

बता दें कोरोना वायरस के इलाज में लगे स्टाफ के लिए एसएन मेडिकल कॉलेज में रोजाना 50-60 पर्सनल प्रोटेक्टिव किट और 70-80 एन-95 मास्क की जरूरत है। ऐसे में अभी कॉलेज के पास लगभग 100 पीपीई किट और 70-80 एन-95 मास्क का ही स्टाक है। ऐसे में मरीज बढ़ने पर इनकी कमी खलेगी। देश में कोरोना के कुल मामले बढ़कर 2902 हो गई है। जिनमें से 2650 एक्टिव केस हैं और 183 लोग इस बीमारी से उबर चुके हैं। 68 लोगों की इस बीमारी से मौत हो चुकी है। हालांकि मीडिया रिपोर्ट्स में यह आंकड़ा 3082 बताया जा रहा है और 86 लोगों की मौत हुई है।

जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस? । इन वेबसाइट और ऐप्स से पाएं कोरोना वायरस के सटीक आंकड़ों की जानकारी, दुनिया और भारत के हर राज्य की मिलेगी डिटेल । कोरोना संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात और मरकज की कैसे हुई शुरुआत, जान‍िए

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 लॉकडाउन को अंगूठा दिखा रथयात्रा में पहुंचे लोग, पुलिस ने किया मना तो बरसाए पत्थर, कई पुलिसवाले घायल
2 पीएम मोदी की बत्ती बंद अपील पर पॉवर कंपनियों में हड़कंप, ग्रिड फेल होने का खतरा मंडराया, बिजली कंपनियों को भेजी गई एडवायजरी
3 नरेंद्र मोदी ने पोस्‍ट की अटल जी की कव‍िता, गौरव बल्‍लभ ने पूछा- आप जो इतने दिये जलवा रहे हो क्या चूक है जिसको छुपा रहे हो