ताज़ा खबर
 

COVID-19 मरीज को अस्पताल से कब दी जाती है छुट्टी? जानें प्रोटोकॉल

Corona Virus in India: कोरोना वायरस के मरीजों को अस्पताल से छुट्टी मिलने की प्रक्रिया क्या है और कब इन्हें अस्पताल से छुट्टी मिलती है। जानिए इस खबर में।

Corona Virus, Corona Virus in Indiaकोरोना वायरस के मरीजों की निजी अस्पताल में इलाज की खर्च सीमा तय हो। (एक्सप्रेस फोटो)

कोरोना वायरस के संक्रमण से पूरी दुनिया परेशान है। इस वायरस के चलते जहां हजारों की संख्या में लोग अपनी जान गंवा चुके हैं तो वहीं इससे ज्यादा संख्या में लोग ठीक भी हुए हैं। भारत की बात करें तो देश में कोरोना के कुल मामले 6761 हो गए हैं । इस संक्रमण से देश में अब तक 516 लोग ठीक भी हो चुके हैं जबकि 206 लोगों की मौत हो गई है। इस  खबर में हम आपको बता रहे हैं कि कोरोना संक्रमित लोगों के ठीक हो जाने के बाद इन्हें अस्पताल से छुट्टी देने की प्रक्रिया क्या है।

गुरुवार को चीन ने COVID-19 रोगियों को छुट्टी देने के लिए एक नया परीक्षण प्रोटोकॉल जारी किया, जिसमें डॉक्टरों द्वारा पुन: परीक्षण, डॉक्टरों के पास  नियमित जांच के लिए जाना और स्वास्थ्य निगरानी शामिल हैं। यह कदम चीन ने वुहान में लॉकडाउन हटाए जाने के बाद उठाया है जो कोरोना वायरस के संक्रमण का केंद्र रहा है।

भारत में क्या है प्रक्रिया:  नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (एनसीडीसी) के अनुसार, यदि संदिग्ध मामलों के रिजल्ट नेगेटिव आते हैं तो ऐसे मरीजों पर 14 दिनों तक नजर रखी जाती है। इसके अलावा रेडियोग्राफिक क्लीयरेंस, सांस संबंधी टेस्ट अगर 24 घंटे के अंदर नेगेटिव आता है तो ऐसे में मरीज को छुट्टी दी जाती है।

इटली: कोरोना वायरस की चपेट में बुरी तरह से कैद इटली में मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज करने की प्रक्रिया यह है कि 24 घंटों के अंतराल में कोरोना वायरस के दो नेगेटिव टेस्ट आने के बाद उन्हें डिस्चार्ज किया जाता है। इलाज के दौरान जो लोग सात दिन के अंदर यानी जल्दी ठीक हो जाते हैं। ऐसे लोगों को सात दिन के अंतराल पर एक बार फिर से टेस्ट कराने की सलाह दी जाती है। वहीं क्वेरंटाइन किए गए लोगों को अगर 14 दिन बाद टेस्ट नेगेटिव पाया जाता है तो  इन्हें कोरोना मुक्त माना जाता है।

सिंगापुर: यहां  रोगियों को छुट्टी तब दी जाती है अगर मरीज के 24 घंटे के अंदर दो सांस संबंधी टेस्ट नेगेटिव आता है। और अगर बीमारी की शुरुआत के दिन से कम से कम छह दिन हो गए हैं और टेस्ट नेगेटिव है तो ऐसे में उन्हें डिस्चार्ज कर दिया जाता है। हालांकि उन्हें डॉक्टर्स के फॉलोअप के मुताबिक जांच के लिए आने को कहा जा सकता है।

Coronavirus से जुड़ी जानकारी के लिए यहां क्लिक करें: कोरोना वायरस से बचना है तो इन 5 फूड्स से तुरंत कर लें तौबा | जानिये- किसे मास्क लगाने की जरूरत नहीं और किसे लगाना ही चाहिए |इन तरीकों से संक्रमण से बचाएं | क्या गर्मी बढ़ते ही खत्म हो जाएगा कोरोना वायरस?

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 COVID-19 से अब गली-मोहल्लों में छिड़ रही जंग! मानेसर में मजदूरों को घर में घुस स्थानीयों ने लाठी-डंडों से पीटा, एक का सिर फटा ‘
2 Corona Virus: पंजाब कैबिनेट का फैसला, राज्य में 1 मई तक लागू रहेगा लॉकडाउन
3 ‘अपनी जरूरतों का ध्यान रखकर ही दूसरे देशों को दे रहे हाइड्रोऑक्सीक्लोरोक्विन, हमारे पास इस दवाई की जरूरत से तीन गुना ज्यादा मात्रा’: स्वास्थ्य मंत्रालय