ताज़ा खबर
 

सामने आया कोरोना विषाणु का ‘चेहरा’

चीन के शेनजेन विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं ने जारी की कोरोना विषाणु की तसवीरें। दक्षिण चीन के ‘शेनजेन नेशनल क्लिनिकल मेडिकल रिसर्च सेंटर’ और ‘सदर्न यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी’ की संयुक्त टीम ने ‘फ्रोजेन इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप ऐनालिसिस’ तकनीक की मदद से ली तसवीरें। अब कोरोना की दवाएं और टीका विकसित करने की कवायद शुरू होने की उम्मीद।

वैज्ञानिक अब भी इस बात की खोज करने में लगे हैं कि आखिर ये कोरोना विषाणु लोगों में फैल कैसे रहा है।

दुनियाभर में 3500 से ज्यादा लोगों की मौत के जिम्मेदार खतरनाक कोरोना विषाणु की पहली असल तस्वीर सामने आ चुकी है। यह दिलचस्प है। चीन के वैज्ञानिकों की एक टीम को विषाणु की असल संरचना की तस्वीर खोज निकाली है। इसे बड़ी कामियाबी के तौर पर देखा जा रहा है। संरचना के सामने आने के बाद उसके विश्लेषण को दिशा मिल पाएगी। वैज्ञानिकों ने विषाणु को निष्क्रिय करने के बाद उसकी तस्वीर निकाली है। इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप विश्लेषण तकनीक की मदद से उसका असली चेहरा सामने लाया गया है।

इस अहम कामयाबी को ‘शेनजेन नेशनल क्लिनिकल मेडिकल रिसर्च सेंटर’ और ‘सदर्न यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी’ की संयुक्त टीम ने हासिल किया है। इससे विषाणु की पहचान, उसके विश्लेषण और जरूरी शोध महत्त्वपूर्ण रास्ता साफ हो सकता है। विषाणु की तस्वीरें शेनझेन थर्ड हॉस्पिटल ने जारी की है।

शोध करने वाली टीम के सदस्य प्रोफेसर लियू चुआंग ने कहा कि विषाणु की उपस्थिति जो हम देखते हैं, वह बिल्कुल वैसा ही है जैसा कि प्रकृति में होता है। कोरोना विषाणु ने इंसान के शरीर की जिस कोशिका पर हमला किया था, वैज्ञानिकों ने उसकी भी तस्वीरें कैद कर ली हैं। शेनझेन थर्ड हॉस्पिटल के सचिव लियू लेई का कहना है कि इस खोज से कोरोना विषाणु की दवाओं और टीकों के विकास में काफी मदद मिलेगी। साथ ही विषाणु की तस्वीरों से उनके जीवन-चक्र को भी समझा जा सकता है। घातक कोरोना विषाणु दुनिया के लिए नया है। इसलिए अभी तक यह नहीं पता था कि उसकी संरचना कैसी है, वह दिखता कैसा है। दुनिया भर के वैज्ञानिक इस पर रिसर्च कर रहे हैं। चीन के सरकारी अखबार डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण चीन के शेनजेन में शोधकर्ताओं ने फ्रोजेन इलेक्ट्रॉन माइक्रोसोप ऐनालिसिस तकनीक का इस्तेमाल किया। इस तकनीक के जरिए विषाणु के जैविक नमूने को सुरक्षित किया गया, जिससे यह पता चलता है कि जब यह विषाणु जिंदा था तो किस स्थिति में और कैसा था। यह सबसे विश्वसनीय नतीजा बताया जा रहा है।

शोध टीम के सदस्य और एसोसिएट प्रोफेसर लिउ चुआंग ने बताया, ‘विषाणु की जिस संरचना को हमने देखा वह बिल्कुल वैसा ही है, जैसा जिंदा होने पर विषाणु होता।’ टीम ने इसके साथ-साथ विषाणु से संक्रमित होने वाली कोशिका की स्थिति को भी तस्वीरों में कैद करने में कामयाबी हासिल की है। लिउ चुआंग ने बताया कि शोधकर्ताओं ने 27 जनवरी को एक मरीज के भीतर से कोरोना विषाणु को अलग किया और तकनीक के जरिए बहुत ही तेजी से जीनोम सिक्वेंसिंग और उसकी पहचान के काम को पूरा किया।

शोधकर्ताओं के मुताबिक, कोरोना विषाणु का संबंध विषाणु के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है। इस विषाणु को पहले कभी नहीं देखा गया है। इस विषाणु का संक्रमण दिसंबर में शुरू हुआ था। कोरोना विषाणु, विषाणुओं के एक बहुत बड़े परिवार का हिस्सा है, लेकिन इनमें से सिर्फ छह विषाणु ही ऐसे हैं जो इंसानों को संक्रमित कर सकते हैं। नोवेल कोरोना विषाणु यानी ये नया विषाणु पहली बार सामने आया है जो इंसान को संक्रमित कर रहा है।

इसके लिए अब तक ना तो कोई वैक्सीन है और ना बन सकी है। अनुसंधानकर्ता इस बारे में शोध कर रहे हैं। दवा निर्माता कंपनियां भी इस बीमारी का इलाज खोजने और इससे बचाव के लिए टीका बनाने में जुटी हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना को लेकर सतर्क है और इसका इलाज खोजने की हर संभव कोशिश कर रहा है।

वैज्ञानिक अब भी इस बात की खोज करने में लगे हैं कि आखिर ये कोरोना विषाणु लोगों में फैल कैसे रहा है। बुजुर्गों में मौत के आंकड़े ज्यादा देखने को मिल रहे हैं।

इसके अलावा वैसे लोग जिन्हें पहले से किसी तरह की कोई बीमारी है या फिर वैसे लोग जो लंबे समय से बीमार हैं उनमें भी इस बीमारी या इंफेक्शन होने का खतरा अधिक है।

इस बीच, थाईलैंड के एक डॉक्टरों के समूह ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना विषाणु का इलाज खोज लिया है और इसके लिए उन्होंने कोरोना विषाणु के एक मरीज को डब्ल्यूएचओ के इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाओं का एक मिश्रण दिया था। डॉक्टरों की मानें तो दवा देने के 48 घंटे के अंदर उस मरीज में सकारात्मक रिकवरी देखने को मिली।

 

Next Stories
1 कोरोना की उत्पत्ति के केंद्र को लेकर मचा राजनीतिक रार
2 मध्य प्रदेश कैबिनेट के 16 मंत्रियों ने सौंपा CM कमलनाथ को इस्तीफा, समर्थकों का दावा- बेंगलुरू जाने वाले लौटेंगे INC में
3 VIDEO: पैनलिस्ट ने शो में BJP के संबित पात्रा को दंगाई बता कहा- आपने दंगे का नया आयाम बनाया; दिया जवाब- शाहरुख, ताहिर दूध के धुले हैं?
ये  पढ़ा क्या?
X