ताज़ा खबर
 

कोरोना वैक्सीन पर Pfizer का ट्रायल पूरा, एफडीए से अप्रूवल के लिए जल्द आवेदन करेगी कंपनी

वर्तमान अनुमान के आधार पर कंपनियों को उम्मीद है कि वे वैश्विक स्तर पर 2020 तक टीके की पांच करोड़ खुराक का उत्पादन कर लेंगी और 2021 के अंत तक यह उत्पादन 130 करोड़ खुराक तक पहुंच सकता है।

Serum Institute of India (SII), Indian Council of Medical Research (ICMR)Coronavirus Vaccine के लिए दुनिया भर के मुल्कों में रिसर्च और ट्रायल पर काम जोरों पर है। (फोटोः एजेंसी)

विश्व की अग्रणी दवा निर्माता कंपनियों फाइजर और बायो-एनटेक ने बुधवार को कहा कि उनका कोविड-19 टीका तीसरे चरण के परीक्षण के अंतिम विश्लेषण में 95 प्रतिशत तक प्रभावी पाया गया है।  यह 65 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों पर भी कारगर है।

इसी के साथ ये कंपनियां अमेरिकी नियामक से आपातकालीन मंजूरी लेने के लिए आवेदन कर सकती हैं। अमेरिकी फार्मा कंपनी और उसकी जर्मन सहयोगी बायो-एनटेक ने कहा कि उन्होंने कोविड-19 के एमआरएनए आधारित संभावित टीके ‘बीएनटी 162बी2’ के तीसरे चरण का अध्ययन पूरा कर लिया है जिसमें उन्हें सभी प्रकार के आरंभिक प्रभाव देखने को मिले हैं। वर्तमान अनुमान के आधार पर कंपनियों को उम्मीद है कि वे वैश्विक स्तर पर 2020 तक टीके की पांच करोड़ खुराक का उत्पादन कर लेंगी।

कंपनी का 2021 के अंत तक यह उत्पादन 130 करोड़ खुराक तक पहुंच सकता है। इससे दो दिन पहले मॉडर्ना कंपनी ने घोषणा की थी उसके द्वारा बनाया जा रहा टीका 94.5 प्रतिशत तक प्रभावी है। फाइजर और बायो-एनटेक के अनुसार आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि संभावित टीका उन प्रतिभागियों में 95 प्रतिशत तक प्रभावी है जिन्हें कोरोना वायरस संक्रमण नहीं हुआ।

संभावित टीके का प्रभाव उन लोगों में भी देखा गया जो संक्रमण के शिकार हुए थे। प्रतिभागियों को दूसरी खुराक देने के सात दिन बाद परीक्षण किया गया। कंपनियों ने कहा कि पहला विश्लेषण कोविड-19 के 170 मामलों पर आधारित था जिनमें से संक्रमण के 162 मामले ‘प्लेसिबो’ समूह के थे और आठ ‘बीएनटी 162बी2’ समूह के थे।

उन्होंने कहा कि सभी आयु, लिंग और नस्ल के लोगों पर संभावित टीका कारगर सिद्ध हुआ तथा 65 साल से ऊपर के लोगों पर यह 94 प्रतिशत तक प्रभावी पाया गया। फाइजर के अध्यक्ष और मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ अल्बर्ट बुर्ला ने कहा, “इस अध्ययन के नतीजों से आठ महीने की यात्रा में एक महत्वपूर्ण पड़ाव आया है।

हम इस घातक महामारी का अंत करने के लिए टीके के निर्माण में लगे हैं। हम विज्ञान की गति से चल रहे हैं और अब तक एकत्र किए गए सभी आंकड़ों को विश्व भर के नियामकों से साझा कर रहे हैं।” उन्होंने कहा, “प्रतिदिन दुनिया में सैकड़ों लोग संक्रमित हो रहे हैं और हमें तत्काल एक प्रभावी टीके की आवश्यकता है।”

फाइजर और बायो-एनटेक जल्दी ही अमेरिका के खाद्य एवं औषधि प्रशासन (एफडीए) को टीके की मंजूरी के लिए प्रस्ताव भेजेंगे।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 गुपकार अलायंस को बताया विदेशी ताक़तों से सांठगाँठ करने वाला गैंग, पर कारगिल में NC के साथ सत्ता सुख भोग रही बीजेपी
2 नौकरी गई तो बेटी के दूध के लिए नहीं थे पैसे, भेजना पड़ा मायके, पति भी थे बेरोजगार, जानें लॉकडाउन में बेबस हुए पांच परिवारों की दास्तां
3 Agusta Westland Scam: पर्सनल ट्रेनर को बना डाला शेयरहोल्डर, जानें हेलीकॉप्टर सौदे में किस तरह दी गई रिश्वत
यह पढ़ा क्या?
X