ताज़ा खबर
 

कोरोनाः 4 सूबों में वैक्सीन पर ‘मॉक ड्रिल’, डिलिवरी, कोल्ड चेन से लेकर साइड इफेक्ट्स पर रहेगा ध्यान, जानें क्या है तैयारी

अगले हफ्ते से देश के चार राज्यों में कोरोना वैक्सीन का ड्राइ रन शुरू होने जा रहा है। इसमें पंजाब, गुजरात, आंध्र प्रदेश और असम का नाम है।

coronavirus, coronavirus vaccine, india coronavirus vaccine

पूरी दुनिया को लंबे समय से कोरोना वैक्सीन का इंतजार रहा। भारत में अभी इसका टीका जनता के लिए उपलब्ध नहीं हो पाया है लेकिन जल्द ही टीकाकरण की उम्मीद है। अगले हफ्ते से टीकाकरण की ‘मॉक ड्रिल’ शुरू होने जा रही है। यह एक्सरसाइड आंध्र प्रदेश, गुजरात, पंजाब और असम के कई जिलों में शुरू की जाएगी। यह 28 और 29 दिसंबर को होगी।

दुनिया में अमेरिका और ब्रिटेन समेत कई देशों में कोरोना टीका लगना शुरू हो गया है। भारत भी वैक्सिनेशन की मंजूरी देने से कुछ कदम ही दूर है। डमी टेस्ट के बाद जल्द ही इसे मंजूरी दी जा सकती है। भारत दुनियाभर में सबसे ज्यादा प्रभावित होने वाले देशों में से एक है। यहां लगभग एक करोड़ की आबादी कोरोना से संक्रमित हो चुकी है। हालांकि पिछले कुछ दिनों से रोजाना आने वाले नए केसों में काफी गिरावट देखी गई है।

वैक्सिनेशन का जब ड्राइ रन शुरू होगा तो सभी स्टेप पर नजदीकी निगरानी की जाएगी। इसपर केंद्र सरकार नजर रखेगी। सभी जिलों को 100 लोगों को लगाने के लिए टीका उपलब्ध करवाया जाएगा। डिपो से वैक्सिनेशन साइट तक पहुंचने में इसके तापमान को रेकॉर्ड किया जाएगा। अडवांस में ही उस व्यक्ति का नाम वैक्सिनेटर को मेसेज कर दिया जाएगा जिसे वैक्सीन लगनी है। टीका लगने के बाद शख्स को 30 मिनट तक वहीं रहना होगा।

इस कार्यक्रम में लगभग 2,360 लोग भाग ले रहे हैं जिसमें नैशनल लेवल की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसमें कोल्ड चेन और टीकाकरण अधिकारी भी शामिल होंगे। बहुत सारे लोगों को पहले ही ट्रेनिंग दी जा चुकी है। लेकिन इस कार्यक्रम के माध्यम से पता चलेगा कि उनको दी गई ट्रेनिंग आखिर कितनी उपयोगी है और पूरा काम किस तरह से करना है। केंद्र सरकार इस ड्राइ पर पर नजर रखेगी।

सूत्रों का कहना है कि इसका उद्देश्य वैक्सीन डिलिवरी आईटी प्लैटफॉर्म कोविन को चेक करना भी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘हर राज्य ने दो जिलों का चुनाव किया है। जिले में पांच जगहों पर पहले मॉक ड्रिल शुरू होगी। ये जगहें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र या जिला अस्पताल होंगी। मॉक ड्रिल के अगले दिन कोविन डिजिटल प्लैटफॉर्म पर सेशल होगा जिसमें 100 लोग शामिल होंगे। एक पांच सदस्यों की वैक्सिनेशन टीम बनाई जाएगी।’

तीसरे चरण में 100 लोगों के पास आईटी प्लैटफॉर्म से मेसेज आएगा। इसके तहत बताया जाएगा कि आपको किस शख्स को वैक्सिनेट करना है और इसका समय क्या होगा। सूत्रों ने बताया कि जिले में 100 लोगों को वैक्सीन लगाई जाएगी और उसे 30 मिनट तक इंतजार करना होगा ताकि देखा जा सके कि इसका कोई गलत प्रभाव तो नहीं पड़ रहा है। राज्यों ने वैक्सीनेशन की ट्रेनिंग दी है।

Next Stories
1 किसान आंदोलनः इधर PM ने खातों में पहुंचाई ‘सम्मान निधि’, उधर बोले अन्नदाता- ‘नहीं हैं बिकाऊ’
2 SBI में है खाता तो ध्‍यान दें, मोबाइल रज‍िस्‍टर्ड कराए ब‍िना अभी नहीं ले सकेंगे यह सुव‍िधा
3 समर्थन मूल्य पर विपक्ष मचा रहा हल्ला, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने विरोधी दलों पर बोला हमला
ये पढ़ा क्या?
X