ताज़ा खबर
 

कोरोना टीकाकरण की कवायद: एक खुराक के 250 रुपए ले सकेंगे निजी अस्पताल

देश में एक मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण करने की तैयारी चल रही है।

Author नई दिल्ली | Updated: February 28, 2021 4:34 AM
Coronavirus, COVID-19 Vaccineदिल्ली में कोरोनावायरस की वैक्सीन लगवाती महिला। ( सोर्स – एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि निजी अस्पताल कोविड-19 टीके की प्रति खुराक के लिए 250 रुपए तक का शुल्क ले सकते हैं। देश में एक मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारियों से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोगों का टीकाकरण करने की तैयारी चल रही है। मंत्रालय ने टीकाकरण में शामिल किए जाने वाले 45 से 59 वर्ष की आयु के लोगों में 20 गंभीर बीमारियों के बारे में भी बताया। इनमें ह्रदय की बीमारी, कोरोनरी धमनी रोग, सीटी / एमआरआई-स्ट्रोक, 10 साल से अधिक समय से मधुमेह, उच्च रक्तचाप, गुर्दे की बीमारी आदि शामिल हैं। कोविड-19 टीका सरकारी अस्पतालों में मुफ्त दिया जाएगा, जबकि निजी अस्पतालों में लोगों को इसके लिए भुगतान करना होगा।

एक आधिकारिक सूत्र ने बताया, ‘टीके के लिए अधिकतम शुल्क 250 रुपए लिया जाएगा, जिसमें 150 रुपए टीके की कीमत और 100 रुपए सेवा शुल्क है। यह व्यवस्था अगले आदेशों तक लागू रहेगी।’ इन सभी सूचनाओं को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से टीकाकरण पर राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य सचिवों और मिशन निदेशकों (राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन) के साथ बातचीत के दौरान साझा किया। मंत्रालय ने कहा, ‘आयुष्मान भारत-पीएमजेएवाई के तहत लगभग 10,000 निजी अस्पतालों, सीजीएचएस के तहत सूचीबद्ध 600 से अधिक अस्पतालों और राज्य सरकारों की स्वास्थ्य बीमा योजनाओं के तहत अन्य निजी अस्पताल कोविड टीकाकरण केंद्रों (सीवीसी) के रूप में शामिल हो सकते हैं।’

उसने कहा, ‘राज्य सरकारों के स्वास्थ्य विभागों ने पहले ही इन निजी अस्पतालों के साथ बातचीत शुरू कर दी है ताकि उन्हें सीवीसी के रूप में इस अभियान में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।’ इन सभी निजी अस्पतालों की एक सूची स्वास्थ्य मंत्रालय और राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण की वेबसाइट पर अपलोड की गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा था कि ‘आन-साइट’ पंजीकरण कराने की सुविधा उपलब्ध होगी, ताकि योग्य लाभार्थी अपनी पसंद के टीकाकरण केंद्र पर जाकर अपना पंजीकरण कराएं और टीका लगवाएं।

टीके के लाभार्थी को-विन 2.0 पोर्टल डाउनलोड कर और आरोग्य सेतु आदि मोबाइल ऐप के जरिए पहले भी अपना पंजीकरण करा सकते हैं। मंत्रालय ने कहा था कि लाभार्थी अपनी पसंद के कोविड-19 टीकाकरण केंद्र (सीवीसी) को चुन सकते हैं और टीका लगवाने के लिए अपना समय निर्धारित करवा सकते हैं। कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ था।

मंत्रालय ने कहा था कि सभी लाभार्थियों को तस्वीर युक्त पहचान पत्र—आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र—आदि लेकर टीकाकरण केंद्र जाना होगा। वहीं, किसी बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक उम्र के लाभार्थी को बीमारी से संबद्ध प्रमाणपत्र भी साथ लाना होगा, जिस पर पंजीकृत चिकित्सक के हस्ताक्षर होने चाहिए।

केंद्र के परामर्श के मद्देनजर गुजरात सरकार ने राज्य के निजी अस्पतालों में कोविड टीके की कीमत 250 रखने की घोषणा कर दी है। योग्य व्यक्तिएक मार्च से शुरू हो रहे दूसरे चरण के टीकाकरण अभियान के दौरान 522 निर्धारित निजी अस्पतालों में 250 रुपए भुगतान कर टीके की एक खुराक ले सकते हैं। राज्य सरकार ने शनिवार को यह घोषणा की।

उप मुख्यमंत्री व राज्य के स्वास्थ्य विभाग का भी प्रभार संभाल रहे नितिन पटेल ने कहा कि 60 वर्ष से अधिक आयु के व्यक्तिऔर पहले से किसी अन्य बीमारी से ग्रसित 45 वर्ष से अधिक आयु के लोग राज्य में 2,000 से अधिक सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क टीका लगवा सकते हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आरोग्य योजना और राज्य सरकार की ‘मा वात्सल्य योजना’ के तहत सूचीबद्ध किए गए निजी अस्पतालों में प्रति खुराक 250 रुपए भुगतान कर टीका लगवाया जा सकता है। पटेल ने कहा कि राज्य सरकार, इन योजनाओं के तहत सूचीबद्ध सरकारी और निजी अस्पतालों को टीके की आपूर्ति करेगी। उन्होंने यह भी कहा कि कोविड-19 के टीके फिलहाल खुले बाजार में उपलब्ध नहीं होंगे।

Next Stories
1 ब्राजील का उपग्रह आज अंतरिक्ष में ले जाएगा भारत, प्रक्षेपण का सीधा प्रसारण इसरो की वेबसाइट, यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर चैनलों पर देखा जा सकेगा
2 दिल्ली: पांच सीटों पर निगम उपचुनाव की तैयारियां पूरी, आज मतदान
3 पाकिस्तान को फिर विंग कमांडर अभिनंदन की याद, जारी कर दिया ‘फर्जी’ वीडियो, लगाए 16 कट
ये पढ़ा क्या?
X