बढ़ते कोरोना के बीच कम पड़ने लगे संसाधन! मुंबई के अस्पताल में ऑक्सीजन की कमी से 7 संक्रमितों की मौत

मुंबई के नालासोपारा के विनायक अस्पताल में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से 7 कोविड मरीजों की मौत हो गई। नाराज परिवार के सदस्यों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया है।

Corona, Mumbai, Covid-19विनायक अस्पताल में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से 7 कोविड मरीजों की मौत हो गई (फोटो- ANI)

देश में जारी कोरोना संकट के बीच मरीजों के इलाज के लिए जरूरी दवा और ऑक्सीजन की कमी देखने को मिल रही है।  मुंबई के नालासोपारा के विनायक अस्पताल में कथित रूप से ऑक्सीजन की कमी की वजह से 7 कोविड मरीजों की मौत हो गई। नाराज परिवार के सदस्यों ने अस्पताल के बाहर प्रदर्शन किया है।

हालांकि अस्पताल के डॉक्टरों के द्वारा आरोपों से इनकार किया गया है। अस्पताल के एक डॉक्टर ने कहा कि क्षेत्र में केवल यही एक अस्पताल है जहां गंभीर रोगियों को भी भर्ती किया जाता है। उन रोगियों की मृत्यु या तो उनकी उम्र या अन्य कारणों से हुई है। मृतकों के परिजनों ने कहा है कि प्रशासन ने उन्हें ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के बारे में सूचित नहीं किया था। मरीजों की मौत के बाद परिवार के सदस्य अस्पताल के बाहर जमा हो गए उन लोगों ने मौत के लिए अस्पताल प्रशासन को जिम्मेदार बताया। उत्तेजित लोगों को कंट्रोल करने के लिए पुलिस को हस्तकक्षेप करना पड़ा।

मध्यप्रदेश में भी ऑक्सीजन की कमी: कोरोना संकट से परेशान मध्यप्रदेश के कई अस्पतालों में भी ऑक्सीजन की कमी का मामला सामने आया है। कई जगहों पर मरीजों के परिजनों को सिलेंडर लाने के लिए कहा जा रहा है। मध्यप्रदेश में ऑक्सीजन की कमी से पांच मरीजों की मौत की खबर है।

लखनऊ में भी हालत बदतर: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी कोरोना की रफ्तार बढ़ती जा रही है। लोगों की हो रही मौत के बाद श्मशानों में कतारें लंबी हो गयी है। एक आंकड़े के अनुसार कोरोना संक्रमण के कारण हो रहे मौत के आंकड़े पिछले कुछ दिनों 300 प्रतिशत तक बढ़ गए हैं।

लगातार तीसरे दिन आए डेढ़ लाख से ज्यादा मामले: भारत में मंगलवार को लगातार तीसरे दिन मंगलवार को लगातार डेढ़ लाख से ज्यादा मामले सामने आए। पिछले 24 घंटे में 1,61,736 नए कोरोना केस सामने आए हैं। इस दौरान 879 लोगों की मौत हुई है।

Next Stories
1 यूपीः ओवैसी की AIMIM के पोस्टर पर नरसिंहानंद सरस्वती और वसीम रिजवी के सिर कलम करते दिखाया गया, लिखा- एक ही सजा, सिर तन से जुदा; FIR दर्ज
2 सुशील चंद्रा नए CEC, कुर्सी संभालते ही टेबल पर मिलेगी नरेंद्र मोदी के खिलाफ केस की फाइल
3 COVID-19 के खिलाफ कैसे काम करती है Sputnik V और है कितनी प्रभावशाली? जानें
ये पढ़ा क्या?
X