कोरोनाः विश्व में हर रोज आने वाले 6 में से 1 केस भारत में, फिर भी कुंभ में जुटी भारी भीड़!

आज हरिद्वार कुंभ में सोमवती अमावस्या का दूसरा शाही स्नान हुआ। महाकुंभ के दूसरे शाही स्नान में सबसे पहले निरंजनी अखाड़े के साधुओं ने हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गंगा नदी में शाही स्नान किया। सभी अखाड़ो को आधा-आधा घंटा स्नान का समय दिया गया है।

corona, covid-19, kumbh melaहरिद्वार के कुंभ मेले में नियमों को ताक पर रखकर स्नान करते श्रद्धालु (फोटोः ट्वविटर@anidigital)

कोरोना जिस तरह से अपना कहर बरपा रहा है उसमें चिंता होना लाजिमी है। लेकिन जिस तरह का माहौल इस समय दिख रहा है वो और ज्यादा चौंकाने वाला है। विश्व में हर रोज आने वाले 6 में से 1 केस भारत का है। लेकिन कुंभ की बात करें या फिर चुनावी रैलियों की उसे देखकर लगता है कि हालात और बदतर होने वाले हैं। यानी कोरोना मरीजों की तादाद में इजाफा ही होने जा रहा है।

उधर, आज हरिद्वार कुंभ में सोमवती अमावस्या का दूसरा शाही स्नान हुआ। महाकुंभ में भाग लेने के लिए हरिद्वार पहुंचे पूर्व नेपाल नरेश राजा ज्ञानेंद्र बीर बिक्रम शाह ने भी जूना अखाड़े के साथ गंगा स्नान किया। महाकुंभ के दूसरे शाही स्नान में सबसे पहले निरंजनी अखाड़े के साधुओं ने हरिद्वार में हर की पौड़ी पर गंगा नदी में शाही स्नान किया। सभी अखाड़ो को आधा-आधा घंटा स्नान का समय दिया गया है। मालवीय घाट भी आज रात तक साधु संतों के शाही स्नान के लिए आरक्षित रहेगा।

शाही स्नान के लिए जाते साधु, संतों पर उत्तराखंड सरकार ने हेलीकॉप्टर से पुष्पवर्षा करवाई। महाकुंभ मेला प्रशासन ने दावा किया है कि सुबह 10 बजे तक तकरीबन 18 लाख श्रद्धालुओं ने स्नान कर लिया है। डीजी अशोक कुमार ने बताया कि पूरे मेला क्षेत्र में सुचारू व्यवस्था में स्नान चल रहा है। उन्होंने बताया कि अबतक तीन अखाड़ों से जुड़े साधु-संत शाही स्नान कर चुके हैं जबकि अन्य घाटों पर आम श्रद्धालु स्नान कर रहे हैं। सुबह सात बजे मेला प्रशासन ने मुख्य स्नान घाट हर की पैड़ी ब्रहमकुंड को पूरा खाली करा लिया था जिससे पूरे दिन यहां सभी 13 अखाड़ों से जुड़े साधु संत शाही स्नान कर सकें।

राजनीतिक विश्लेषक शेखर गुप्ता की पोस्ट को देखा जाए तो साफ हो जाता है कि कुंभ मेला और चुनावी रैलियां किस कदर भारी पड़ने जा रही हैं। उनका मानना है कि अभी 12 लाख एक्टिव केस हैं। रोजाना आने वाले केसों की तादाद दो लाख के नजदीक पहुंचने को है। ऐसे में इस तरह की हीलाहवाली खतरनाक है। इससे वायरस गांवों के साथ छोटे कस्बों में पहुंच जाएगा।

उनका मानना है कि पहली लहर में इसी वजह से लॉकडाउन लगाना पड़ा था। अब हम इसे फिर से आमंत्रण दे रहे हैं। बीते 24 घंटों की बात करें तो 904 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हुई। बीते साल के 18 अक्टूबर के बाद से भारत में यह सर्वाधिक मौतों का आंकड़ा है। डेटा बताता है कि बीते 24 घंटों के दौरान 1 लाख 68 हजार 912 केस सामने आए।

कोरोना मरीजों की तादाद के मामले में भारत ने फिलहाल ब्राजील को पीछे छोड़ दिया है। अब वह केवल अमेरिका से इस मामले में पीछे है। अमेरिका में कोरोना मरीजों की तादाद तकरीबन 3 करोड़ 12 लाख है। जबकि भारत में इनकी संख्या 1 करोड़ 35 लाख पहुंच चुकी है। एक्सपर्ट्स का मानना है कि कुंभ जैसे आयोजन स्थिति को और ज्यादा विकराल ही करेंगे।

उधर, उत्तराखंड के हरिद्वार में तकरीबन 10 लाख लोग शिरकत कर रहे हैं। हालांकि, प्रशासन ने बाहर से आने वाले लोगों के लिए आरटी-पीसीआर टेस्ट को अनिवार्य कर दिया है लेकिन पुलिस के एक अधिकारी संजय गुंजयाल का कहना है कि लोगों से लगातार आग्रह किया जा रहा है कि वो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें। लेकिन कुछ लोग ही मास्क के प्रति संजीदगी दिखा रहे हैं।

भारत में अभी तक 10 करोड़ लोगों को वैक्सीन दी जा चुकी है। तादाद के लिहाज से देखा जाए तो यह संतोषजनक है। इस मामले में केवल अमेरिका और चीन ही भारत से आगे हैं। लेकिन आबादी के अनुपात के हिसाब से यह ऊंट के मुंह में जीरे की तरह से है। हालात को देखते हुए सरकार ने रेसडेसिवियर के निर्यात पर रोक लगा दी है। मरीजों की जान बचाने का अभी यही एक तरीका है।

Next Stories
1 कोरोनाः भारत आएगा 1 और टीका, रूस की Sputnik V के इमरजेंसी इस्तेमाल को DCGI की मंजूरी; Dr Reddy’s करेगी लॉन्च
2 दीदी, गुस्सा निकालना है, तो मैं यहां हूं न…दे लो जी भर के गालियां- बोले PM
3 सुप्रीम कोर्ट: 26 आयतों को कुरान से हटाने की मांग वाली याचिका खारिज, याचिकाकर्ता पर लगाया गया जुर्माना
आज का राशिफल
X