ताज़ा खबर
 

हिमाचल प्रदेश: 69 राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण पर खतरा मंडराया

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि वह खुद दिल्ली जाकर प्रदेश के लिए घोषित राष्ट्रीय राजमार्गों के मसले पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलकर विचार विमर्श करेंगे।

Author Updated: September 23, 2020 3:50 AM
हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्ग निर्माण में आई बाधा।

ओमप्रकाश ठाकुर

पैंसठ हजार करोड़ के निवेश से 69 राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण का सपना दिखाकर राजनीतिक फसल काटने के बाद अब केंद्र सरकार पीछे हट गई है। राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ ही फोरलेन बनाने की भी घोषणा हुई। इनमें से पहाड़ी प्रदेश हिमाचल के हार्ट लाइन शिमला से मटौर तक 223 किलोमीटर लंबा फोरलेन भी शामिल है। केंद्र सरकार ने दस हजार करोड़ की इस फोरलेन परिजयोजन से भी हाथ खींच लिए है। साथ ही डीपीआर समेत इसे लोक निर्माण विभाग को लौटा दिया। दस सितंबर को इस बावत राज्य सरकार को चिट्ठी भी लिख दी गई है। ये फोरलेन राजधानी शिमला को प्रदेश के 12 में से 9 जिलों को जोड़ता हैं।

2014 के लोकसभा चुनावों से पहले केंद्रीय भूतल व सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने इस छोटे से पहाड़ी प्रदेश के लिए 65 हजार करोड़ रुपए के निवेश के साथ 69 राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण की घोषणाएं की थीं। इन घोषणाओं से प्रदेश जनता भी और भाजपा भी गदगद थी। 2014 में भाजपा ने प्रदेश की चारों लोकसभा सीटें जीत ली।

केंद्र में भाजपा के सरकार में आने के बाद 2016 में इन राष्ट्रीय राजमार्गों को सैद्धातिंक मंजूरी भी प्रदान कर दी गई। दिसंबर 2017 में प्रदेश में विधानसभा के चुनाव थे। इन चुनावों के दौरान प्रदेश भाजपा से लेकर केंद्र सरकार के मंत्रियों ने प्रदेश की कांग्रेस सरकार को बुरी तरह से घेरा। प्रदेश की कांग्रेस सरकार पर इल्जाम लगाया कि वह इन राष्ट्रीय राजमार्गों की डीपीआर केंद्र को नहीं भेज रही है। कांग्रेस सरकार प्रदेश के विकास में रोड़ा अटका रही है। भाजपा प्रदेश के विधानसभा चुनावों को भी जीत गई और प्रदेश में सरकार बना ली।

जुलाई 2018 में केंद्र सरकार ने 58 राष्ट्रीय राजमार्गों की डीपीआर तैयार करने के लिए मंजूरी दे दी। प्रदेश भाजपा ने प्रदेश की विधानसभा में और बाहर खूब भूनाया। 2019 के लोकसभा चुनावों व उसके बाद हुए उपचुनावों में भाजपा नेता इन राष्ट्रीय राजमार्गों की सूचियां लेकर जनता के बीच गए। प्रदेश के लिए घोषित इन 69 राष्ट्रीय राजमार्गों में कुछ की लंबाई तो दस किलोमीटर है।

यानि प्रदेश में दस किलोमीटर का भी राष्ट्रीय राजमार्ग होता। पूरे देश में केवल हिमाचल ही एक ऐसा राज्य था जिसके लिए इतने राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित किए गए थे। 2014 तक प्रदेश में नौ ही राष्ट्रीय राजमार्ग थे। ऐसे में भाजपा ने 2019 के लोकसभा चुनवों में चारों सीटें जीती साथ ही उप चुनावों में भी जीत हासिल की।

अब चुनावों का दौर खत्म हो चुका है। कोरोना महामारी से देश ही नहीं प्रदेश की आर्थिक व्यवस्था भी डांवाडोल हो चुकी है। ऐसे में प्रदेश में निवेश की सबसे ज्यादा दरकार है और केंद्र सरकार ने दस सितंबर को जयराम सरकार को चिट्ठी भेज दी 223 किलोमीटर लंबा शिमला-मटौर फोरलेन को रद्द कर दिया जाता है और साथ ही इसकी डीपीआर लोक निर्माण विभाग को लौटा दी। चिट्ठी में सथ ही लिखा गया कि इस राजमार्ग का रखरखाव लोक निर्माण खुद करे।

इसके अलावा केंद्रीय भूतल एवं सड़क मंत्रालय ने देश में लाभदायक और अलाभदाय राष्ट्रीय राजमार्गों (वायवल एंड अनवायवल) की एक सूची जारी कर रखी है उसमें प्रदेश का एक भी राष्ट्रीय राजमार्ग लाभदायक राजमार्गों की सूची में नहीं है। ऐसे में इन तमाम 69 राष्ट्रीय राजमार्गों पर खतरा मंडराया हुआ है।

राष्ट्रीय राजमार्गों और फोरलेन का ये मामला 18 सितंबर को प्रदेश विधानसभा के मानसून सत्र में विधानसभा में उठा। मुख्यमंत्री ठाकुर ने जवाब में कहा कि उन्?होंने इस मसले को केंद्रीय भूतल एवं सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी से उठाया है। उनके दखल के बाद फोरलेन के रखरखाव का काम एनएचएआइ के पास ही रहेगा।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि वह खुद दिल्ली जाकर प्रदेश के लिए घोषित राष्ट्रीय राजमार्गों के मसले पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी से मिलकर विचार विमर्श करेंगे। जो भी हो प्रदेश के घोषित इन राजमार्गों पर खतरा तो मंडराया ही हुआ है साथ ही भाजपा की साख पर भी खतरा मंडरा गया है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 कोरोना की भेंट चढ़ा हरिद्वार कुंभ
2 पांच साल में पीएम की विदेश यात्रा पर खर्च हुए 517 करोड़ रुपये, नरेंद्र मोदी ने की 58 देशों की यात्रा
3 आपके कार्यकर्ता के पास मिला 1200 किलो ड्रग्स, इफरा जान ने भाजपा प्रवक्ता की कर दी बोलती बंद; देखें वीडियो
ये पढ़ा क्या?
X