ताज़ा खबर
 

कार्यकर्ता देख लेंगे कि कैसे आप लोग फ्री घूमते हैं- खत लिखने पर कांग्रेसी मंत्री की चव्हाण, देवड़ा और वासनिक को खुली धमकी

दरअसल, सोनिया को पत्र लिख 'पूर्णकालिक पार्टी अध्यक्ष' चुनने की मांग करने वालों में ये तीन नेता भी थे। इन तीनों ने भी उस पत्र पर हस्ताक्षर किए थे, जिसके विरोध में केदार की यह टिप्पणी आई है।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता मुंबई/नई दिल्ली | Updated: August 24, 2020 4:07 PM
Sunil Kedarमहाराष्ट्र में कांग्रेस के मंत्री सुनील केदार। (फाइल फोटो)

सोनिया गांधी को खत लिखने को लेकर महाराष्ट्र में Congress के मंत्री सुनील छत्रपाल केदार ने तीन पार्टी नेताओं को धमकाया है। उन्होंने पृथ्वीराज चव्हाण, मिलिंद देवड़ा और मुकुल वासनिक से साफ-साफ कहा है कि वे माफी मांगें। अन्यथा पार्टी कार्यकर्ता उन्हें देख लेंगे कि वे कैसे आजाद घूमते हैं।

रविवार रात उन्होंने ट्वीट किया, “मैं अध्यक्ष के तौर पर सोनिया गांधी का तहे दिल से समर्थन करता हूं। मुकुल वासनिक, पृथ्वीराज चव्हाण और मिलिंद देवड़ा ने गांधी परिवार के नेतृत्व पर सवाल उठाए, यह शर्मनाक है। इन नेताओं को अपने कृत्य के लिए तुरंत माफी मांगनी चाहिए। अन्यथा कांग्रेस कार्यकर्ता देखेंगे कि वे राज्य में कैसे स्वतंत्र रूप से चलते हैं।”

उन्होंने आगे कहा, “कांग्रेस पार्टी भाजपा सरकार को तभी लड़ाई दे सकती है जब पार्टी के पास गांधी के तौर पर प्रमुख हों। सोनिया गांधी के नेतृत्व के पीछे मजबूती से खड़े होने का यह हाई टाइम है।दरअसल, सोनिया को पत्र लिख ‘पूर्णकालिक पार्टी अध्यक्ष’ चुनने की मांग करने वालों में ये तीन नेता भी थे। इन तीनों ने भी उस पत्र पर हस्ताक्षर किए थे, जिसके विरोध में केदार की यह टिप्पणी आई है।

केदार नागपुर से दूसरी पीढ़ी के कांग्रेसी नेता हैं। उनके पिता छत्रपाल केदार महाराष्ट्र में कांग्रेस के पूर्व मंत्री भी थे। सुनील केदार फिलहाल ने Shiv Sena, Nationalist Congress Party (NCP) और Congress के गठबंधन Maha Vikas Aghadi सरकार में डेयरी, पशुपालन, युवा कल्याण और खेल के विभागों का काम-काज देखते हैं।

सोनिया ने पद छोड़ने की पेशकश की, कहा- ढूंढना शुरू करें नया चीफः कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सोमवार को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में पद छोड़ने की पेशकश की और कहा कि सीडब्ल्यूसी नया अध्यक्ष चुनने के लिए प्रक्रिया आरंभ करे।

सूत्रों के अनुसार, सीडब्ल्यूसी की बैठक आरंभ होने के बाद सोनिया ने कहा कि वह अंतरिम अध्यक्ष का पद छोड़ना चाहती हैं और उन्होंने संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को विस्तृत जवाब भेजा है।

एक सूत्र ने कहा कि इसके बाद पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कुछ अन्य नेताओं ने उनसे आग्रह किया कि वह पद पर बनी रहें। सूत्रों का कहना है कि सोनिया गांधी ने गुलाम नबी आजाद और पत्र लिखने वाले कुछ नेताओं एवं उनकी ओर से उठाए गए मुद्दों का हवाला दिया।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी पार्टी में नेतृत्व के मुद्दे पर सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले नेताओं पर निशाना साधा और कहा कि जब पार्टी राजस्थान एवं मध्य प्रदेश में विरोधी ताकतों से लड़ रही थी और सोनिया गांधी अस्वस्थ थीं तो उस समय ऐसा पत्र क्यों लिखा गया।

बता दें कि सीडब्ल्यूसी की बैठक से एक दिन पहले रविवार को पार्टी में उस वक्त नया सियासी तूफान आ गया जब पूर्णकालिक एवं जमीनी स्तर पर सक्रिय अध्यक्ष बनाने और संगठन में ऊपर से लेकर नीचे तक बदलाव की मांग को लेकर सोनिया गांधी को 23 वरिष्ठ नेताओं की ओर से पत्र लिखे जाने की जानकारी सामने आई।

हालांकि, इस पत्र की खबर सामने आने के साथ ही पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पार्टी के कई अन्य वरिष्ठ एवं युवा नेताओं ने सोनिया और राहुल गांधी के नेतृत्व में भरोसा जताया और इस बात पर जोर दिया कि गांधी परिवार ही पार्टी को एकजुट रख सकता है। (भाषा इनपुट्स के साथ)

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 NEET/JEE परीक्षाओं के विरोध में भूख हड़ताल पर उतरे 4000 छात्र, ममता ने परीक्षा टालने को लेकर केंद्र को लिखा पत्र
2 प्रशांत भूषण का माफी मांगने से फिर इनकार, कहा- यह खुद की अवमानना जैसे होगा
3 आपका मुवक्किल गरीब तो नहीं दिखता, उनसे कहें शर्ट पहन कर स्क्रीन पर आएंं, वर्चुअल सुनवाई के दौरान बोले सुप्रीम कोर्ट जज
ये पढ़ा क्या?
X