ममता की पार्टी के गोवा जाने पर कांग्रेस ने कसा तंज, कहा- कहीं ये आग पर पानी डालने की कवायद तो नहीं

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने तृणमूल कांग्रेस से कहा, चुनाव पर्यटन नहीं है, जहां आप दो महीने या पांच महीने के लिए गोवा जाते हैं और फिर लौटते हैं।

Goa, TMC, Congress
मीडिया से बात करते हुए कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला। (इंडियन एक्सप्रेस फाइल फोटो)

इस सप्ताह के अंत में ममता बनर्जी के गोवा दौरे के साथ ही आगामी विधानसभा चुनाव के लिए तृणमूल कांग्रेस एक आक्रामक चुनाव अभियान शुरू करने के लिए तैयार है। मंगलवार को कांग्रेस ने तृणमूल कांग्रेस पर निशाना साधते हुए उसे आत्मनिरीक्षण करने के लिए कहा और पूछा कि क्या वह भाजपा को मजबूत कर रही है। कहा कि यह आग पर पानी डालना है या गोवा में अपने लिए जगह बनाने की कोशिश है। पार्टी ने टीएमसी को याद दिलाई कि चुनाव “पर्यटन करना” नहीं है।

अधीर रंजन चौधरी जैसे वरिष्ठ कांग्रेस नेता गोवा पर ध्यान केंद्रित करने के लिए तृणमूल कांग्रेस की आलोचना की है। मंगलवार को पार्टी ने आधिकारिक तौर पर टीएमसी के कदम पर सवाल उठाया।

कांग्रेस सूचना विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला कहा कि ‘हर पार्टी को चुनाव लड़ने का अधिकार है। गोवा में टीएमसी ने पिछला विधानसभा चुनाव भी लड़ा था, लेकिन उसके बाद पांच साल तक उन्होंने क्या किया? चुनाव कोई पर्यटन करना नहीं है जहां आप एक चुनाव लड़ते हैं और फिर आप चले जाते हैं और फिर से पांच साल बाद प्रकट होते हैं।”

कहा, “चुनाव कोई पर्यटन करना नहीं है जहां आप दो महीने या पांच महीने के लिए गोवा जाते हैं… और फिर वापस लौट जाते हैं। मैं स्वतंत्र रूप से चुनाव लड़ने के उनके अधिकार का सम्मान करता हूं और समझता हूं। क्योंकि यह लोकतांत्रिक राजनीति की सुंदरता है। उन्हें यह समझने की जरूरत है कि वे क्यों लड़ रहे हैं, वे किससे लड़ रहे हैं और किसके लिए लड़ रहे हैं?”

उन्होंने कहा, “कांग्रेस गोवा, पारदर्शिता, जवाबदेही, गोवा के लोगों और गोवा के लोगों के अधिकारों के लिए लड़ रही है। अन्य राजनीतिक दल किसके लिए लड़ रहे हैं? भाजपा उस तरह के भ्रष्टाचार के लिए लड़ रही है जो हमने देखा है, लेकिन अन्य राजनीतिक दलों को भी आत्मनिरीक्षण करने की जरूरत है… .।” कहा कि “यह सवाल मैं उन्हें तय करने के लिए छोड़ दूंगा।”

सुरजेवाला ने कहा कि जबकि कुछ अन्य विपक्षी दल दबाव में टूट गए, कांग्रेस “एकमात्र राजनीतिक दल” है जो पिछले सात वर्षों से भाजपा और नरेंद्र मोदी सरकार की नीतियों से लड़ रही है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने भाजपा से “अकेले दम पर, बिना झुके, बिना रुके और बिना एक कदम भी पीछे हटे, कई व्यक्तिगत बलिदानों की कीमत पर, सत्ताधारी सरकार द्वारा लापरवाही और अन्यायपूर्ण तरीके से सताए जाने के बावजूद” लड़ाई लड़ी है।

सुरजेवाला ने कहा कि “हमारे रिकॉर्ड अपने आप बोलते हैं। विपक्षी दल, जब भी उन्हें ईडी का नोटिस मिलता है, जब भी उनके नेताओं को ईडी कार्यालयों या सीबीआई कार्यालयों में बुलाया जाता है, तो मैं सहमत हूं… यह भी एक उत्पीड़न योजना का हिस्सा है… . मैं उन्हें दोष नहीं देता। जरूरी नहीं कि हर किसी में सच के लिए खड़े होने की हिम्मत हो, चाहे कुछ भी हो जाए।”

उन्होंने कहा कि कांग्रेस छोटे विपक्षी दलों के साथ सहानुभूति रखती है। “हम उन छोटे विपक्षी दलों का समर्थन करेंगे, भले ही वे हमारा विरोध करें। क्योंकि यह हमारा कर्तव्य है कि हम हर उस व्यक्ति के साथ खड़े हों, जिसे गलत तरीके से प्रताड़ित किया जा रहा है।”

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट