ताज़ा खबर
 

कोरोनाः जलती चिताओं का फोटो शेयर कर बोले आचार्य- कृपा करें परमात्मा, धरती के भगवान हैं ‘क्वारंटीन’

बुधवार शाम को भैंसाकुंड स्थित श्मशान घाट में कई सारी चिताओं के एक साथ जलते हुए का वीडियो सामने आने के बाद सरकार की काफी किरकिरी हो गई थी।

lucknow, bhaisa kund, viral photoकांग्रेस समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णन ने लखनऊ के भैंसाकुंड श्मशान घाट का फोटो ट्वीट करते हुए लिखा कि परमात्मा कृपा करें, क्योंकि धरती के भगवान क्वारंटीन हो गए हैं। (फोटो – ट्विटर/AcharyaPramodk)

उत्तरप्रदेश में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। उत्तरप्रदेश की राजधानी लखनऊ की स्थिति दिन प्रतिदिन बिगड़ती जा रही है। इस बीच बुधवार को सोशल मीडिया पर लखनऊ के भैंसाकुंड स्थित श्मशान घाट का वीडियो और फोटो वायरल हुआ। वायरल वीडियो और फोटो में एक साथ कई चिताएं जलती हुई देखी जा रही थी। जिसके बाद लोगों की तरह तरह की प्रतिक्रिया देखने को मिली। कांग्रेस समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णन ने लखनऊ के भैंसाकुंड स्थित श्मशान का फोटो शेयर करते हुए लिखा कि परमात्मा कृपा करें, क्योंकि धरती के भगवान क्वारंटीन हो गए हैं

दरअसल उत्‍तर प्रदेश स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार बुधवार को लखनऊ में 24 घंटे के अंदर 5433 लोग कोरोना की चपेट में आ गए थे। साथ ही 14 लोगों की मौत इस महामारी की वजह से हो गई। जिसके बाद लखनऊ के भैंसाकुंड श्‍मशान घाट का वीडियो और फोटो काफी वायरल हुआ था। वायरल वीडियो और फोटो में कई सारी चिताएं एक साथ जलती हुई दिखाई दे रही थी। कांग्रेस समर्थक आचार्य प्रमोद कृष्णन ने श्‍मशान की फोटो ट्वीट करते हुए लिखा कि ये लखनऊ में जलती हुई चिताओं की तस्वीर है। हे “परमात्मा” कृपा करो, क्योंकि धरती के भगवान तो “क्वारंटीन”हो गये हैं।

बुधवार शाम को भैंसाकुंड स्थित श्मशान घाट में कई सारी चिताओं के एक साथ जलते हुए का वीडियो सामने आने के बाद सरकार की काफी किरकिरी हो गई थी। लोगों ने लखनऊ के श्मशान घाट का वीडियो सामने आने के बाद सरकार पर कई तरह के सवाल उठाए थे। कई लोगों ने यह भी आरोप लगाया था कि उत्तरप्रदेश सरकार कोरोना से हो रही मौतों का आंकड़ा छिपा रही है। चौतरफा आलोचनाओं से घिरी यूपी सरकार ने स्वास्थ्य व्यवस्था को ठीक करने के बजाए श्मशान घाट की ही घेराबंदी कर दी। हालांकि लखनऊ के नगर आयुक्त का कहना है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए श्मशान के कुछ हिस्सों में घेराबंदी की गई है।

बता दें कि लखनऊ में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। कोरोना संक्रमित अस्पताल में बेड, ऑक्सीजन सिलिंडर और एम्बुलेंस उपलब्ध ना हो पाने की वजह से दम तोड़ रहे हैं। इतना ही नहीं मृतकों के अंतिम संस्कार के लिए 6 से 8 घंटे का इंतजार करना पड़ रहा है। विद्युत शवदाह गृह होने के बावजूद भी लखनऊ में कई दर्जन अंतिम संस्कार लकड़ी के सहारे किए जा रहे हैं। 

बता दें कि लखनऊ में में पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 5,177 मामले सामने आए हैं। वहीं करीब 26 लोगों की मौत इस महामारी की वजह से हो गई। लखनऊ में अभी कोरोना वायरस के कुल 35,865मामले अभी भी सक्रिय हैं।

Next Stories
1 हवा में तेजी से फैलता है कोरोना वायरस, पुख्ता सबूतों के साथ लैंसेट ने किया दावा
2 UP Weekend Lockdown: समूचे सूबे में हर रविवार को लॉकडाउन, मास्क न पहनने पर 1 हजार जुर्माना
3 7th Pay Commission: डीए की बहाली कैसे बदलेगी केंद्रीय कर्मचारियों के लिए पे मैट्रिक्स? समझें
यह पढ़ा क्या?
X