ताज़ा खबर
 

आपदा में अवसर तलाश रही कांग्रेस? सुप्रिया श्रीनेत बोलीं- मूर्खतापूर्ण, सरकार नहीं मानती अपने ही अधिकारियों की बात

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि 24 अप्रैल से ही विदेशों से सामान आना शुरू हो गया था लेकिन सरकार ने उन सामानों के आवंटन के लिए 2 मई को नीति तैयार की। जिसकी वजह से 24 अप्रैल से लेकर 2 मई के बीच करीब 23000 हजार मौतें हो गई।

सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि आज से छह हफ्ते पहले सरकार के वैज्ञानिकों और रिसर्चरों ने आगाह किया था कि कोरोना का डबल म्युटेंट आने की वजह से संक्रमण तेजी से फ़ैल रहा है लेकिन सरकार ने इसे स्वीकार नहीं किया। (एक्सप्रेस फोटो: अनिल शर्मा)

देशभर में कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं. कोरोना के बढ़ते संक्रमण के आगे आज हर कोई बेबस है। तेजी से फैलते संक्रमण की वजह से आज देश की स्वास्थ्य व्यवस्था भी चरमरा गई है। अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की कमी की वजह से कई मरीज बेवक्त दम तोड़ रहे हैं। कोरोना के बढ़ते संक्रमण के मुद्दे पर आयोजित एक टीवी डिबेट शो में जब कांग्रेस प्रवक्ता से यह सवाल पूछा गया कि क्या आपदा के समय भी कांग्रेस पार्टी अपना राजनीतिक भविष्य तलाश रही है। तो कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने सवाल को मूर्खतापूर्ण बताते हुए केंद्र सरकार पर हमला बोलना शुरू कर दिया।

आजतक न्यूज चैनल पर आयोजित टीवी डिबेट शो में एंकर चित्रा त्रिपाठी ने कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत से सवाल पूछते हुए कहा कि बीजेपी यह आरोप लगा रही है कि इस आपदा के समय भी कांग्रेस पार्टी अपना राजनीतिक भविष्य तलाश रही है। इसपर जवाब देते हुए कांग्रेस प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि मुझे मुर्खतापूर्ण बातों का जवाब इसलिए नहीं देना है क्योंकि आज लड़ाई कोरोना से है। लेकिन यहां बात कांग्रेस के वैक्सीन की जा रही है। पता नहीं किस दंभ और अहंकार में ये बातें की जा रही है। 

आगे सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने सरकार को एक सकारात्मक ख़त लिखा था। राहुल गांधी ने भी एक ख़त लिखा लेकिन पता नहीं सरकार में बैठे कितने लोगों को यह समझ में आता है। साथ ही सुप्रिया ने कहा कि आज से छह हफ्ते पहले सरकार के वैज्ञानिकों और रिसर्चरों ने यह आगाह किया था कि कोरोना का डबल म्युटेंट आने की वजह से संक्रमण तेजी से फ़ैल रहा है और सरकार ने यह स्वीकार नहीं किया। लेकिन बाद में सरकार को इस बात को स्वीकार करना पड़ा।

इसके आगे सुप्रिया श्रीनेत ने कहा कि सरकार ने संसद की कमिटी, कई वैज्ञानिकों और स्वास्थ्य सलाहकारों की बातों को जानबूझ कर अनसुना किया। सुप्रिया ने कहा कि 24 अप्रैल से ही विदेशों से सामान आना शुरू हो गया था लेकिन सरकार ने उन सामानों के आवंटन के लिए 2 मई को नीति तैयार की। जिसकी वजह से 24 अप्रैल से लेकर 2 मई के बीच करीब 23000 हजार मौतें हो गई और इसका जिम्मेदार कौन है।

 

देश में कोरोना के एक दिन में रिकॉर्ड 4,14,188 नये मामले सामने आने के बाद कोरोना वायरस संक्रमण के कुल मामले 2,14,91,598 हो गए जबकि देश में 36 लाख से अधिक मरीज अब भी इस बीमारी की चपेट में हैं। वहीं पिछले 24 घंटे में 3,915 लोगों की मौत होने के बाद मृतक संख्या 2,34,083 हो गई है।  

Next Stories
1 दिल्ली को मिली ऑक्सिजन तो चहके CMD रेडिक्स, बोले-कोरोना बड़ा दुश्मन, मनमुटाव छोड़ चलो इसी पर तानें बंदूक
2 एक्टर ने भाजपा नेता तेजस्वी सूर्या को बताया आतंकी कसाब से भी खतरनाक, बाद में डिलीट कर दिया ट्वीट
3 सेकंड्स में आएंगे कोरोना जांच के नतीजे, अंबानी की कंपनी इजराइल से लाएगी एक्सपर्ट्स, भारत में टेस्टिंग किट्स बनवाएगी रिलायंस
ये पढ़ा क्या?
X