ताज़ा खबर
 

कांग्रेस बोली- रोहिंग्या मुस्लिमों के आतंकियों से संबंध होने के सबूत दे मोदी सरकार

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह बात केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के रोहिंग्याओं के बारे में दिये गये बयान की प्रतिक्रिया में कही।

बुजुर्ग महिला को गोद में उठाकर लाता एक रोहिंग्या मुस्लिम युवक।(Photo Source: REUTERS)

कांग्रेस ने आज कहा कि केन्द्र के पास रोहिंग्या मुसलमानों के आईएसआईए या अन्य आतंकवादियों से संबंध होने के बारे में यदि कोई सबूत हैं तो उन्हें सार्वजनिक करना चाहिए तथा इस समुदाय के सदस्यों को देश से निर्वासित करने के बजाय उन पर भारतीय कानून के तहत कार्रवाई करनी चाहिए। बहरहाल पार्टी ने यह भी कहा कि किसी के खिलाफ गलत आरोप नहीं लगाये जाने चाहिए। बता दें कि तीन दिन पहले सरकार ने उच्चतम न्यायालय में कहा था कि कुछ रोहिंग्या पाकिस्तान की आईएसआई तथा आईएसआईएस जैसे आतंकी समूहों का हिस्सा हैं तथा उनकी देश में उपस्थिति से भारत की सुरक्षा को गंभीर खतरा पहुंचेगा।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने यह बात केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह के रोहिंग्याओं के बारे में दिये गये बयान की प्रतिक्रिया में कही। सिंह ने कहा कि रोहिंग्या गैर कानूनी घुसपैठिये हैं न कि ऐसे शरणार्थी जिन्होंने भारत में शरण पाने के लिए आवेदन किया है। उन्होंने यह भी कहा कि जब म्यांमार उन्हें वापस लेने को तैयार है तो कुछ लोग उनके निर्वासन पर आपत्ति क्यों कर रहे हैं।

सुरजेवाल ने कहा, ‘‘सरकार के पास किसी समुदाय या व्यक्ति के आईएसआईएस से संबंध होने के जो भी सबूत हैं, उन्हें सार्वजनिक किया जाना चाहिए। यदि किसी व्यक्ति के आईएसआईएस से संबंध हैं तो उसके खिलाफ कानून के तहत कार्रवाई होनी चाहिए। निर्वासन पर्याप्त नहीं होगा।’’ उन्होंने कहा कि जब राष्ट्रीय सुरक्षा की बात आये तो सरकार को जो सही है वह करना चाहिए। उन्होंने ध्यान दिलाया कि यह मामला उच्चतम न्यायालय के समक्ष विचाराधीन है और सर्वोच्च न्यायालय इस सिलसिले में सही निर्णय करेगा।

इस बीच, कलकत्ता उच्च न्यायालय के दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन के बारे में आये निर्णय पर सुरेजवाला ने कहा कि किसी को भी पवित्र माह या नवरात्र अथवा किसी अन्य समुदाय के धार्मिक आयोजनों का ध्रुवीकरण करने की इजाजत दी जानी चाहिए। उच्च न्यायालय का आज निर्णय आया है कि मोहर्रम सहित किसी भी दिन में बारह बजे तक प्रतिमाओं का विसर्जन किया जा सकता है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल की कमल हासन से चेन्नई में आज मुलाकात के बारे में पूछे जाने पर सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा कि आप प्रमुख दिल्ली को छोड़कर अब नये राजनीतिक धरातल की तलाश कर रहे हैं। उन्हें किसी से भी मुलाकात करने का पूरा लोकतांत्रिक अधिकार है।

उन्होंने यह भी कहा कि अन्य राज्यों में केजरीवाल का प्रदर्शन इस बात पर तय होगा कि उनकी सरकार ने दिल्ली में क्या काम किया। ‘‘दिल्ली में लोग अपनी परेशानियों के बारे में बात कर रहे हैं।’’ रोहिंग्या शरणार्थियों के बारे में केन्द्र सरकार उच्चतम न्यायालय में दो परस्पर विरोधी हलफनामे दायर किये हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App