ताज़ा खबर
 

जरूरी चीजों की लिस्ट से केंद्र सरकार ने मास्क, हैंड सैनिटाइजर हटाया; कांग्रेस ने किया विरोध, जनता पर क्या असर?

शुक्रवार को पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कुछ सिलिसिलेवार ट्वीट्स में इसके साथ ही आरोप लगाया कि यह सरकार की मल्टी नेशनल कंपनियों (MNCs) के साथ मिली-भगत है, जिसके जरिए उन्हें फायदा पहुंचाया जा रहा है।

Mask, Sanitizer, BJP, Congressतस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः Freepik)

Congress ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली NDA सरकार को मास्क और हैंड सैनिटाइजर आदि को जरूरी चीजों की लिस्ट से हटाने को लेकर निशाने पर लिया है। शुक्रवार को पार्टी प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कुछ सिलिसिलेवार ट्वीट्स में इसके साथ ही आरोप लगाया कि यह सरकार की मल्टी नेशनल कंपनियों (MNCs) के साथ मिली-भगत है, जिसके जरिए उन्हें फायदा पहुंचाया जा रहा है।
सुरजेवाला के मुताबिक, “पीएम ने कहा- ‘आपदा में अवसर’। BJP सरकार का एमएनसी/कंपनियों के साथ फायदा पाने का ‘अवपित्र मेल-जोल’ अब बेनकाब हो चुका है। सरकार फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजरर्स को आवश्यक वस्तुओं की सूची से बाहर कर चुकी है। अब मास्क/हैंड सैनिटाइजर किसी भी एमआरपी (अधिकतम थोक मूल्य) पर बेचे जा सकते हैं!

बकौल कांग्रेसी नेता, “16 जून को बीजेपी सरकार ने कहा था- लॉकडाउन में ढील दी गई है, इसलिए हैंड सैनिटाइजर की मांग में बढ़ोतरी हो सकती है और इन्हें दिसबंर 2020 तक EC Act के तहत कवर होना चाहिए। इन चीजों का लगातार उपलब्ध रहना काफी अहम है वह भी उचित कीमतों पर।”

अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा- अगर 16 जून को 30 दिसंबर 2020 तक के लिए सैनिटाइजर आवश्यक वस्तुओं में थे, तब आखिर 15 दिनों में क्या बदल गया? सरकार आखिर क्यों लोगों से इन चीजों के लिए अधिक दाम वसूलना चाहती है? कोरोना वायरस से लड़ने के लिए आखिर इन चीजों पर क्यों कोई दाम की सीमा नहीं तय की जाती है? क्या COVID-19 पर जंग खत्म हो चुकी है?

दरअसल, 13 मार्च को केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय की ओर से फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर को आवश्यक वस्तुओं की श्रेणी में 100 दिन के लिए रखने का ऐलान हुआ था। ऐसा इसलिए किया गया था, ताकि कोरोना संकट के दौरान इन चीजों की किल्लत न हो और इस महामारी से मजबूती से निपटा जा सके।

मंत्रालय में सचिव लीना नंदन ने मंगलवार को बताया था- देश में फेस मास्क और हैंड सैनिटाइजर की पर्याप्त सप्लाई है और इसी को ध्यान में रखते हुए अब इन दोनों चीजों को एसेनशियल कमोडिटीज एक्ट, 1955 से बाहर किया जाता है। ये दोनों आइटम्स 30 जून तक जरूरी वस्तु घोषित किए गए थे।

इन दोनों आइटम्स का आवश्यक वस्तुओं की सूची से हटने के मसले पर कुछ जानकारों का मानना है कि इससे मास्क और हैंड सैनिटाइजर की कालाबाजारी बढ़ेगी, जिससे यह लोगों को पहले के मुकाबले महंगा पड़ेगा।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 ‘ऑनलाइन एग्जाम भेदभावपूर्ण’, पूर्व UGC अध्यक्ष सुखदेव थोराट की आयोग को चिट्ठी- कोरोना संकट में परीक्षा लेना जोखिम भरा
2 चटक रंग की टाई पहनकर वर्चुअल कोर्ट में पेश हुए वकील, CJI ने लगा दी क्लास- डिनर पार्टी में आए हैं क्या?
3 सुशांत सिंह राजपूत केस में बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने पुलिसिया जांच पर उठाए सवाल, वकील से पूछा- क्या यह सीबीआई जांच के लायक केस
ये पढ़ा क्या?
X