कांग्रेस ने 84 के दंगों में संघ की भूमिका पर उठाए सवाल तो बीजेपी प्रवक्ता सुकन्या मामले की याद दिलाने लगे

न्यूज चैनल आज तक के शो दंगल में बहस हुई, जिसमें कांग्रेस प्रवक्ता आलोक शर्मा और बीजेपी प्रवक्ता प्रेम शुक्ला आपस में भिड़ गए।

CM YOGI
लखीमपुर में हुई हिंसा के बाद विपक्ष लगातार योगी सरकार को घेर रहा है। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

लखीमपुर में हुई हिंसा का मामला देशभर में चर्चा का विषय बना हुआ है। ऐसे में विपक्ष लगातार योगी सरकार को घेर रहा है। कांग्रेस ने इस मुद्दे को लेकर काफी माहौल बना लिया है और वह लगातार योगी सरकार पर निशाना साध रही है।

न्यूज चैनल आज तक के शो दंगल में इसी मुद्दे को लेकर बहस हुई, जिसमें कांग्रेस प्रवक्ता आलोक शर्मा और बीजेपी प्रवक्ता प्रेम शुक्ला आपस में भिड़ गए। इस बीच शो की एंकर चित्रा त्रिपाठी दोनों को शांत कराते हुए नजर आईं।

कांग्रेस प्रवक्ता आलोक शर्मा ने कहा कि 84 के दंगों में कितने आरएसएस के लोग जेल में गए थे, उसकी लिस्ट मेरे पास है। आप जख्मों को कुरेदकर अपनी जिम्मेदारी से नहीं भाग सकते। हमने 84 के दंगों के लिए सिर झुकाकर मांफी मांगी क्योंकि हमारा शासन था, लेकिन आज एक ट्वीट करने के लिए प्रधानमंत्री महोदय की ऊंगलियां नहीं चल रही हैं।

आलोक शर्मा ने कहा कि तमाम केस हुए हैं, जिनमें 15 दिन का टाइम दिया जाता है और सबूतों को नष्ट किया जाता है। ये वही योगी सरकार है, जिसमें 100 से ज्याद SIT बनीं लेकिन एक का भी जवाब नहीं आया। तमाम पुलिसवाले बरी हो गए।

ये रहा डिबेट का वीडियो-

उन्होंने कहा कि जब हरियाणा के सीएम ये कहेंगे कि लठ्ठ लेकर खड़े हो जाओ, तो देश में यही होगा। लखीमपुर मामले पर उन्होंने कहा कि तमाम मीडिया चैनलों ने दिखाया कि वे उपद्रवी किसान नहीं थे बल्कि ये कोल्ड ब्लडेड मर्डर था।

वहीं इस मुद्दे पर बीजेपी प्रवक्ता प्रेम शुक्ला ने कहा कि हमने यूपी में न्याय का राज कायम किया है और प्रियंका वाड्रा के मित्र मुख्तार अंसारी को जेल भेजा है।

इस दौरान बार-बार शो की एंकर बीजेपी के प्रवक्ता से ये कहती रहीं कि विपक्ष, मंत्री का इस्तीफा मांग रहा है, लेकिन इस पर बीजेपी प्रवक्ता कुछ नहीं बोले। बल्कि वो सुकन्या मामले की याद दिलाने लगे और राहुल गांधी पर निशाना साधने लगे।

बता दें कि इससे पहले बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा का एक बयान सामने आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि राहुल और प्रियंका गांधी लखीमपुर हिंसा पर वोट की खेती कर रहे हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट