ताज़ा खबर
 

संसद सत्र: शपथ लेकर दस्तखत करना भूल गए राहुल गांधी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और बाकी नेताओं ने दिलाया याद

शपथ के बाद जब राहुल लौटने लगे तो ट्रेजरी बेचों पर बैठे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और बाकी नेताओं ने इशारे में उन्हें बताया। इसके बाद संसद के एक अधिकारी ने भी ध्यान दिलाया, जिसके बाद राहुल ने लौटकर रजिस्टर पर साइन किया।

Author नई दिल्ली | June 18, 2019 7:35 AM
राहुल गांधी संसद में। फोटो: इंडियन एक्सप्रेस

केरल के वायनाड से निर्वाचित हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने सोमवार को लोकसभा की सदस्यता की शपथ ली। उन्होंने निचले सदन की सदस्यता की शपथ अंग्रेजी में ली। राहुल गांधी सोमवार को शुरू हुए संसद सत्र में सुबह नहीं पहुंचे, जिसके बाद बीजेपी ने उनकी आलोचना की। राहुल दोपहर में शपथ लेने पहुंचे थे। हालांकि, चार बार के सांसद राहुल गांधी शपथ लेने के बाद पार्लियामेंट के रजिस्टर में दस्तखत करना भूल गए। रजिस्टर पर दस्तखत करना संसदीय प्रक्रिया का हिस्सा होता है।

शपथ के बाद जब राहुल लौटने लगे तो ट्रेजरी बेचों पर बैठे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और बाकी नेताओं ने इशारे में उन्हें बताया। इसके बाद संसद के एक अधिकारी ने भी ध्यान दिलाया, जिसके बाद राहुल ने लौटकर रजिस्टर पर साइन किया।

इससे पहले, कांग्रेस अध्यक्ष लंच ब्रेक के बाद सदन में आए और उनके पहुंचने पर उनकी पार्टी एवं सहयोगी दलों के सदस्यों ने मेजें थपथपाकर उनका अभिनंदन किया। शपथ ग्रहण करने से पहले उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘‘लोकसभा के सदस्य के तौर पर यह मेरा लगातार चौथा कार्यकाल है। वायनाड का प्रतिनिधित्व करते हुए मैं संसद में अपनी नई पारी शुरू कर रहा हूं। मैं भारत के संविधान के प्रति सच्ची श्रद्धा और निष्ठा रखूंगा।’’ गांधी अपने चिरपरिचित लिबास सफेद कुर्ता और पायजामा पहनकर सदन आये थे। वह सदन में आगे की पंक्ति में अपनी मां और रायबरेली से दोबारा निर्वाचित हुईं सोनिया गांधी के साथ बैठे हुए थे।

शपथ लेने के लिए जब गांधी का नाम पुकारा गया तो सोनिया सहित कांग्रेस नेताओं एवं सदस्यों ने मेजें थपथपाकर उनका स्वागत किया। बता दें कि सोलहवीं लोकसभा में राहुल गांधी विपक्ष के लिए निर्धारित पहली पंक्ति में नहीं बैठकर दूसरी पंक्ति में बैठते थे। गौरतलब है कि गांधी इस बार अमेठी के अलावा वायनाड से भी लोकसभा चुनाव लड़े थे। उनकी परंपरागत सीट रही अमेठी से इस बार उन्हें भाजपा की स्मृति ईरानी से हार का सामना करना पड़ा। गांधी लगातार चौथी बार लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए हैं। वह 2004, 2009 और 2014 में अमेठी से निर्वाचित हुए थे। इस बार वह वायनाड से चुनाव जीते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App