ताज़ा खबर
 

कर्नाटक फतह पर खिलखिलाए राहुल गांधी, बोले- पीएम मोदी भ्रष्टाचारी, 2019 में भी देंगे जवाब

राहुल ने कहा कि आज सभी ने देखा कि विधानसभा में भाजपा के विधायक राष्ट्रगान से पहले उठकर चले गए। यह इस बात का प्रमाण है कि वो किसी संस्था की इज्जत नहीं करते।

राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं और खुद भ्रष्टाचारी हैं। (फोटो- ANI)

कर्नाटक विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पर मतदान से पहले ही मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा के इस्तीफे के ऐलान के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आज (19 मई को) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा और आरएसएस पर जमकर निशाना साधा और कहा कि भाजपा को पराजित करने लिए हम सभी विपक्षी दलों के साथ मिलकर काम करेंगे। राहुल ने संवाददाताओं से कहा कि बेहतर होगा कि राज्यपाल वजुभाई वाला इस्तीफा दें लेकिन मुद्दा उनके इस्तीफे से बड़ा है। मुद्दा यह है कि आज भाजपा और आरएसएस हर संस्था पर आक्रमण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि देश की संवैधानिक संस्थाओं को भाजपा और आरएसएस के हमले से बचाने और भाजपा को पराजित करने के लिए विपक्षी दलों के साथ मिलकर काम करेंगे।

राहुल ने यह भी आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहे हैं और खुद भ्रष्टाचारी हैं। कर्नाटक में विधायकों को खरीदने की कोशिश की गई। खरीद-फरोख्त के वीडियो सामने हैं। उन्होंने कहा कि आज सभी ने देखा कि विधानसभा में भाजपा के विधायक राष्ट्रगान से पहले उठकर चले गए। यह इस बात का प्रमाण है कि वो किसी संस्था की इज्जत नहीं करते। इसी सोच के खिलाफ हम लड़ रहे हैं। प्रधानमंत्री मोदी, ”हत्या के आरोपी” अमित शाह और आरएसएस को किसी संस्था की परवाह नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने गोवा, मणिपुर, कर्नाटक हर जगह जनादेश का अपमान किया।

राहुल ने कहा, “कर्नाटक की जनता, नेताओं और श्री देवगौड़ा को बधाई देता हूँ। उम्मीद है कि भाजपा और आरएसएस को सबक मिलेगा कि वे लोकतांत्रिक संस्थाओं का अपमान नहीं करेंगे।” इससे पहले पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ”ऑपरेशन कमल” विफल रहा। सुरजेवाला ने ट्वीट किया, ”ऑपरेशन कमल विफल रहा। येदियुरप्पा दो दिन के मुख्यमंत्री रहे जैसे कि देश ने पूर्वानुमान लगाया था। उन्होंने सात दिनों के मुख्यमंत्री का अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया।” उन्होंने कहा, ”लोकतंत्र जीता, संविधान जीता।” दरअसल, उच्चतम न्यायालय के आदेश के अनुसार येदियुरप्पा को आज शाम चार बजे सदन में बहुमत साबित करना था, लेकिन उससे पहले ही उन्होंने इस्तीफे की घोषणा कर दी।

गौरतलब है कि राज्य में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है । प्रदेश की 224 सदस्यीय विधानसभा में 222 सीटों पर हुए चुनाव में भाजपा को 104, कांग्रेस को 78 और जेडीएस+ को 38 सीटें मिली हैं। बहुमत के लिए जादुई आंकड़ा 111 है क्योंकि कुमारस्वामी दो सीटों से चुनाव जीते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 कांग्रेस नेता ने कुत्‍ते से की कर्नाटक के राज्‍यपाल की तुलना, बोले- वफादारी का कीर्तिमान स्‍थापित किया
2 Karnataka Floor Test Updates: सुप्रीम कोर्ट से कांग्रेस को दोहरा झटका, बोपैय्या बने रहेंगे प्रोटेम स्पीकर
3 कर्नाटक शक्ति परीक्षण: बीजेपी के सामने हैं ये 4 विकल्प, वर्ना येदियुरप्पा को देना होगा इस्तीफा