ताज़ा खबर
 

एंकर एश्वर्य के आरोप पर बोले कांग्रेस के उदित राज- बीजेपी चाहे सत्ता में रहे या विपक्ष, संसद नहीं चल पाती, किया जेटली का जिक्र

कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा कि हम विपक्ष में रहते हैं तो संसद नहीं चल पाती है। बीजेपी जब विपक्ष में थी तब भी संसद नहीं चल पाती थी। इस परंपरा की शुरुआत भाजपा ने ही की थी।

मानसून सत्र का पहला दिन ही हंगामे की भेंट चढ़ गया। विपक्ष के हंगामे के चलते संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। (फोटो – पीटीआई)

मानसून सत्र के पहले दिन संसद के दोनों सदनों में जमकर हंगामा हुआ। विपक्षी सांसदों ने कोरोना, महंगाई और कृषि कानून सहित कई मुद्दों पर जमकर विरोध प्रदर्शन किया। जिसके बाद दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। इसी मुद्दे को लेकर रिपब्लिक टीवी पर आयोजित डिबेट शो के दौरान एंकर ऐश्वर्य के आरोप पर कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा कि बीजेपी चाहे सत्ता में रहे या विपक्ष में लेकिन संसद नहीं चल पाती है।

रिपब्लिक टीवी पर आयोजित टीवी डिबेट के दौरान जब एंकर ऐश्वर्य ने कहा कि विपक्ष की वजह से संसद नहीं चल पाया तो इसके जवाब में कांग्रेस नेता उदित राज ने कहा कि 25 साल से संसद नहीं चल पा रही है। हम विपक्ष में रहते हैं तो संसद नहीं चल पाती है। बीजेपी जब विपक्ष में थी तब भी संसद नहीं चल पाती थी। इस परंपरा की शुरुआत भाजपा ने ही की थी। उदित राज ने इस दौरान दिवंगत भाजपा नेता अरुण जेटली का जिक्र करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि फ्लोर मैनेज करने का काम सत्ता पक्ष करती है।

आगे उदित राज ने कहा कि पहले भाजपा वाले पूरा का पूरा सत्र बर्बाद कर देते थे। आज फ्लोर मैनेज करने का काम बीजेपी का था, जिसमें वह असफल हो गई है। भाजपा वालों का तर्क उन्हीं के ऊपर लागू हो रहा है। पहले भाजपा वाले पूरा का पूरा सत्र बर्बाद कर देते थे और कोई चर्चा नहीं होती थी। तब सुषमा स्वराज और अरुण जेटली कहा करते थे कि फ्लोर चलाने का काम सत्ता पक्ष का है। इसलिए आज फ्लोर चलाने का काम नरेंद्र मोदी का है।

सोमवार से संसद का मानसून सत्र शुरू हुआ। मानसून सत्र का पहला दिन ही हंगामे की भेंट चढ़ गया। विपक्ष के हंगामे के चलते संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही मंगलवार सुबह 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। संसद के दोनों सदनों में कार्यवाही शुरू होते ही कोरोना, महंगाई, किसान आंदोलन, पत्रकारों-नेताओं की जासूसी के मुद्दे को लेकर हंगामा शुरू हो गया। इस दौरान सांसदों ने “नरेंद्र मोदी जवाब दो”, “जवाब तुमको देना होगा” जैसे नारे भी लगाए।

जिसके बाद लोकसभा और राज्यसभा को 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। 2 बजे के बाद जब सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्ष सांसदों ने एक बार फिर से हंगामा शुरू कर दिया। जिसके बाद लोकसभा को 3.30 बजे और राज्यसभा को 3.00 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया। हालांकि बाद में जब फिर से कार्यवाही शुरू हुई तो विपक्षी सांसदों ने फिर से हंगामा शुरू कर दिया। जिसके बाद दोनों सदनों को मंगलवार 11 बजे तक के लिए स्थगित कर दिया गया।

Next Stories
1 एक भी शिकायत नहीं, पर फिर भी हरियाणा लव जिहाद के खिलाफ कानून बनाने में जुटा
2 अफगानिस्तान : बिगड़ते हालात में क्या है भारत की रणनीति
3 PK ने 5 बार बदला हैंडसेट, पर फिर भी होती रही जासूसी, 2018 से हो रहे थे साइबर हमले
ये पढ़ा क्या?
X