लोग ढूंढ रहे हैं दवाई और बेड, मोदी रैलियों में जाकर हंस रहे, बोलीं प्रियंका गांधी- ISI से बात कर सकती है सरकार, पर विपक्ष से नहीं

प्रियंका वाड्रा ने कहा, "हर जगह से ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं कि समझ में ही नहीं आ रहा कि ये सरकार क्या कर रही है? शमशान घाटों पर इतनी भीड़ लगी है, लोग कूपन लेकर खड़े हैं। हम इस स्थिति में सोच रहे हैं कि हम क्या करें।"

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | Updated: April 21, 2021 12:21 PM
Priyanka Gandhi, Bible, Thrissur, Congress, Prime Minister, Narendra Modi, nuns, BJP, Uttar Pradesh, Kerala, LDF, Palakkad, jansattaकांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर जमकर हमला बोला। (file)

भारत में कोरोनावायरस के बढ़ते केसों के बीच कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्र की भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने भाजपा नेताओं की चुनावी रैलियों का मुद्दा उठाते हुए कहा, “आप आज भी चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं। रैलियों में हंस रहे हैं। सब तरफ से लोगों के रोने की रिपोर्ट आ रही है। लोग मदद की गुहार लगा रहे हैं। लेकिन आप बड़ी-बड़ी रैलियों में जाकर हंस रहे हैं। हंस कैसे सकते हैं। समझ में ही नहीं आ रहा कि ये सरकार क्या कर रही है?”

प्रियंका ने पीएम मोदी की पाकिस्तान से बात करने की कोशिशों पर तंज कसते हुए कहा, “ये सरकार दुबई में ISI से बात कर सकती है, विपक्ष के नेताओं से बात नहीं कर सकती? मैं नहीं मानती कि आज विपक्ष का एक भी नेता ऐसा है जो इन्हें पॉजिटिव और रचनात्मक तरीके से सुझाव नहीं दे रहा है।”

प्रियंका ने देश में चिकित्सा व्यवस्थाओं में कमी का मुद्दा उठाते हुए कहा, “आज देशभर से रिपोर्ट आ रही हैं कि बेड, ऑक्सीजन, रेमडेसिविर, वेंटिलेटर की कमी है। पहली वेव और दूसरी वेव के बीच हमारे पास तैयारी करने के कई महीने थे। भारत की ऑक्सीजन प्रोडक्शन कैपेसिटी दुनिया में सबसे बड़ी है, ऑक्सीजन को ट्रांसपोर्ट करने की सुविधा नहीं बनाई गई। कितनी बड़ी त्रासदी है कि देश में ऑक्सीजन उपलब्ध है लेकिन जहां पहुंचना चाहिए वहां पहुंच नहीं पा रहा है।”

प्रियंका ने आगे कहा, “पिछले 6 महीने में 1.1 मिलियन रेमडेसिविर इंजेक्शन का निर्यात हुआ है और आज हमारे पास इंजेक्शन की कमी है।” प्रियंका ने वैक्सीन लगाने की धीमी रफ्तार पर तंज कसते हुए कहा, “सरकार ने जनवरी से मार्च महीने में कोरोनावायरस की 6 करोड़ वैक्सीन निर्यात की और इसी समय में 3-4 करोड़ भारतीयों को वैक्सीन दी। आपने भारतीयों को प्राथमिकता क्यों नहीं दी?”

‘जितने भी संसाधन हैं, कोरोना से लड़ाई में लगाएं’: हर जगह से ऐसी रिपोर्ट आ रही हैं कि समझ में ही नहीं आ रहा कि ये सरकार क्या कर रही है? शमशान घाटों पर इतनी भीड़ लगी है, लोग कूपन लेकर खड़े हैं। हम इस स्थिति में सोच रहे हैं कि हम क्या करें। जो सरकार को करना चाहिए था, वो सरकार नहीं कर रही है। मैं सकारात्मक तरीके से कह रही हूं कि भगवान के लिए सरकार कुछ करे। उनके पास जितने संसाधन हैं उन्हें वो कोरोना की लड़ाई में लगाएं। अगर केंद्र सरकार अपना मन बनाए तो अभी भी ऑक्सीजन की सुविधा बनाई जा सकती है।

Next Stories
1 अर्नब गोस्वामी बोले- देसी वैक्सीन को खराब बता रहे विरोधी, प्राणायाम करने लगे रामदेव, कहा- डीएनए में डिफेक्ट, बताने लगे पतंजलि की दवाई
2 कोरोना पीड़ितों को लूटने में लगे अस्पताल: इंजेक्शन के नाम पर दे रहे थे पानी, एक ने पैसे लेकर कहा- होम आइसोलेशन में जाइए, दूसरे ने रेमडेसेविर के पैसे लिए और सुना दी मौत की खबर
3 कोरोना पर जीत बोलकर मोदी सरकार ने दिया धोखा, बोले प्रशांत किशोर, कहा- हालात ठीक होते ही भक्त सेना के साथ क्रेडिट लेने आ जाएंगे
यह पढ़ा क्या?
X