ताज़ा खबर
 

कांग्रेस के मुस्लिम नेता का विवादित बयान- मासिक धर्म में अपवित्र हो जाती हैं महिलाएं, किसी भी पूजाघर में ना जाएं

केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अंतरिम अध्यक्ष बनाए जाने के बाद उन्होंने यह बात एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कही

कांग्रेस नेता एमएम हसन (Photo Source: ANI)

कांग्रेस के एक मुस्लिम नेता ने पूजा स्थलों पर महिलाओं के प्रवेश को लेकर विवादित बयान दिया है। कांग्रेस नेता एमएम हसन ने कहा है कि मासिक धर्म अपवित्र होता है और महिलाओं को उन दिनों में किसी भी पूजा या इबादत की जगह पर नहीं जाना चाहिए। केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अंतरिम अध्यक्ष बनाए जाने के बाद उन्होंने यह बात एक सार्वजनिक कार्यक्रम में कही। उन्होंने कहा, “मासिक धर्म में महिलाएं अपवित्र हो जाती हैं और उन्हें माहवारी के दिनों में मंदिर में प्रवेश नहीं करना चाहिए। इसके पीछे भी वैज्ञानिक वजह है कि क्यों उन्हें प्रवेश नहीं करना चाहिए। इसका कोई और मतलब ना निकाला जाए।”

मुस्लिम महिलाओं को उदाहरण देते हुए हसन ने कहा, “उन दिनों में मुस्लिम महिलाएं भी रोजा नहीं रखती हैं। मेरा मानना है कि जब महिलाओं का शरीर अपवित्र हो तो उन्हें मंदिर, मस्जिद या चर्च नहीं जाना चाहिए। कई छात्रों ने कांग्रेस नेता के इस बयान की आलोचना की। हालांकि हसन अपने बयान पर बने रहे।

गौरतलब है कि राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी के दवाब के कारण कांग्रेस हाई कमान ने एमएम हसन को केपीसीसी का अस्थयी तौर पर प्रेसिडेंट बनाया है। चांडी ने हासन को अपने नॉमिनी के तौर पर पेश किया था। इससे पहले एमएम हसन केरल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष थे। नियमित पीसीसी अध्यक्ष की नियुक्ति तक वही प्रदेश कांग्रेस का प्रभार देखेंगे। वी.एम. सुधीरन के इस्तीफे के बाद से यह पद खाली पड़ा हुआ था। उन्होंने खराब स्वास्थ्य होने के चलते इसी महीने इस्तीफा दिया था।

बता दें कि मंदिर में महिलाओं के प्रवेश का मुद्दा अलग-अलग कारणों से कई बार चर्चा में रहा है। नवंबर 2015 में महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के शिंगणापुर शनि मंदिर में एक महिला ने प्रवेश कर मंदिर में महिलाओं का प्रवेश निषेध करने वाली सदियों पुरानी प्रथा को तोड़ दिया था। महिला के कदम की कई महिला एवं सामाजिक संगठनों सहित विभिन्न क्षेत्र के लोगों ने प्रशंसा की थी।

महाराष्ट्र: धूम-धाम से मनाया जा रहा है मराठी नववर्ष गुड़ी पड़वा

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App