ताज़ा खबर
 

CAA लागू करने से राज्य नहीं कर सकते इनकार, होगी मुश्किल, पार्टी लाइन से अलग बोले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल

सीएए के विरोध में राष्ट्रव्यापी आंदोलन को ‘‘नेता’’ और ‘‘भारत के लोगों’’ के बीच लड़ाई करार देते हुए 71 वर्षीय नेता ने कहा कि भगवान का शुक्र है कि देश के ‘‘छात्र, गरीब और मध्य वर्ग’’ आंदोलन को आगे ले जा रहे हैं, न कि कोई राजनीतिक दल

Author कोझिकोड | Updated: January 19, 2020 7:51 AM
पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल। (फाइल फोटो)

पूर्व केंद्रीय कानून मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने शनिवार (18 जनवरी) को कहा कि संसद से पारित हो चुके नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) को लागू करने से कोई राज्य किसी भी तरह से इनकार नहीं कर सकता और ऐसा करना असंवैधानिक होगा। सिब्बल का यह बयान पार्टी लाइन से हटकर है। उन्होंने तब यह बयान दिया है जब देशभर में उनकी पार्टी CAA का विरोध कर रही है।

पूर्व कानून एवं न्याय मंत्री ने केरल साहित्य उत्सव के तीसरे दिन कहा, ‘‘जब सीएए पारित हो चुका है तो कोई भी राज्य यह नहीं कह सकता कि मैं उसे लागू नहीं करूँगा। यह संभव नहीं है और असंवैधानिक है। आप उसका विरोध कर सकते हैं, विधानसभा में प्रस्ताव पारित कर सकते हैं और केंद्र सरकार से (कानून) वापस लेने की मांग कर सकते हैं। लेकिन संवैधानिक रूप से यह कहना कि मैं इसे लागू नहीं करूँगा, अधिक समस्याएं पैदा कर सकता है।’’

केरल सरकार ने इस सप्ताह की शुरुआत में सीएए के खिलाफ उच्चतम न्यायालय का रुख किया था। केरल, राजस्थान, मध्यप्रदेश, पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र सहित कई राज्यों ने सीएए के साथ ही राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) और राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) का विरोध किया है। वरिष्ठ वकील और कांग्रेस नेता ने समझाया कि जब राज्य यह कहते हैं कि वह सीएए को लागू नहीं करेंगे तो उनका क्या मंतव्य होता है और वह ऐसा कैसे करेंगे। उन्होंने कहा कि राज्यों का कहना है कि वे राज्य के अधिकारियों को भारत संघ के साथ सहयोग नहीं करने देंगे।

उन्होंने कहा, ‘‘एनआरसी, एनपीआर पर आधारित है और एनपीआर को स्थानीय रजिस्ट्रार लागू करेंगे। अब गणना जिस समुदाय में होनी है वहां से स्थानीय रजिस्ट्रार नियुक्त किए जाने हैं और वे राज्य स्तर के अधिकारी होंगे।’’ सिब्बल ने कहा कि व्यावहारिक तौर पर ऐसा कैसे संभव है, यह उन्हें नहीं पता लेकिन संवैधानिक रूप से किसी राज्य सरकार द्वारा यह कहना बहुत कठिन है कि वह संसद द्वारा पारित कानून लागू नहीं करेगी।

सीएए के विरोध में राष्ट्रव्यापी आंदोलन को ‘‘नेता’’ और ‘‘भारत के लोगों’’ के बीच लड़ाई करार देते हुए 71 वर्षीय नेता ने कहा कि भगवान का शुक्र है कि देश के ‘‘छात्र, गरीब और मध्य वर्ग’’ आंदोलन को आगे ले जा रहे हैं, न कि कोई राजनीतिक दल।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 एक फरवरी को फांसी पर अब भी अनिश्चितता बरकरार
2 Delhi Election 2020: भाजपा ने दिल्ली चुनाव के लिए बनाया बड़ा प्लान, वरिष्ठ मंत्रियों से लेकर टॉप 100 नेताओं के लिए रोस्टर तैयार
3 यूपी के मुख्यमंत्री के करीबी नेता समाजवादी पार्टी में शामिल, कहा- योगी सरकार की उल्टी गिनती शुरू
ये पढ़ा क्या?
X