ताज़ा खबर
 

हम सुधारवादी हैं, विद्रोही नहीं, पार्टी में असंतोष पर बोले गुलाम नबी आजाद, कहा-5 स्टार होटलों से नहीं लड़े जाते चुनाव… यह कल्चर बदलना होगा

बिहार और बाकि राज्यों में उप चुनाव की हार पर आजाद ने कहा कि कांग्रेस के नेता आम लोगों से पूरी तरह से कटे हुए हैं। कांग्रेस नेताओं को कम से कम चुनावों के दौरान 5 स्टार कल्चर को छोड़ देना चाहिए।

congress, ghulam nabi azad, sonia gandhi, rahul gandhiगुलाम नबी आजाद। (फाइल फोटोः इंडियन एक्सप्रेस)

कांग्रेस में नेतृत्व को लेकर असंतोष के बीच गुलाम नबी आजाद ने एक बार फिर पार्टी की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल खड़े किए हैं। एक इंटरव्यू के दौरान संगठनात्मक बदलाव के लिए पत्र लिखने वाले 23 नेताओं में शामिल आजाद ने कहा कि वे ‘‘सुधारवादी के रूप मुद्दे उठा रहे हैं, न कि विद्रोही के रूप में।’’

कांग्रेस नेता ने कहा कि बिहार और बाकि राज्यों में उप चुनाव की हार का दोष पार्टी के शीर्ष नेतृत्व को नहीं दिया जा सकता। उन्होंने कहा कि हार की वजह यह रही कि कांग्रेस के नेता आम लोगों से पूरी तरह से कटे हुए हैं। कांग्रेस नेताओं को कम से कम चुनावों के दौरान 5 स्टार कल्चर को छोड़ देना चाहिए। आजाद ने कहा कि हमारे नेता आजकल टिकट मिलते ही नेता 5 स्टार होटल में कमरा बुक करा लेता है। नेताओं को पता होना चाहिए कि ऐसे चुनाव नहीं जीता जा सकता है।

नेता कच्ची सड़क वाली जगह में जाने से परहेज करते हैं। उन्होंने कहा कि जब तक यह कल्चर हम नहीं बदलेंगे तब तक स्थिति में बदलाव नहीं होगा। पार्टी के बगावत के सवाल पर आजाद ने कहा कि यहां कोई बगावत नहीं है। उन्होंने कहा कि बगावत वह होती है जिसमें कहा जाता है इसके हटाओ। बगावत में बादशाह का वजीर सेना के साथ मिलकर बगावत कर देता। बादशाह को जान से मार दे या हरा दे, उसे बगावत कहते हैं।

उन्होंने कहा कि हम जो कर रहे हैं वह सुधार है। यहां बादशाह अगर ठीक नहीं कर रहा है तो वजीर कह रहा है साहब आप यह ठीक नहीं कर रहे हो। विरोधी के पास यह दांव है,उससे मात मिल सकती है। असली वजीर वह होगा जो बादशाह को हकीकत बताएगा कि इसमें तो आपकी जान भी जा सकती है।

संगठन में बदलाव पर उन्होंने कहा कि जिला, ब्लॉक और राज्य स्तर पर लोगों और कांग्रेस नेताओं के बीच बहुत बड़ा फासला है। जनता से पार्टी का जुड़ाव एक सतत प्रक्रिया होनी चाहिए, न कि केवल चुनाव के दौरान। उन्होंने कहा, ‘‘हमें पीसीसी, डीसीसी और बीसीसी को निर्वाचित करना चाहिए, और इस संबंध में पार्टी के लिए एक कार्यक्रम बहुत जरूरी है।

बिहार चुनावों में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद पहली बार बात करते हुए आजाद ने कहा कि नेताओं को राज्य के नेताओं के साथ राज्य का दौरा करना चाहिए। उन्हें केवल पांच सितारा होटलों में नहीं रहना चाहिए और वापस लौटना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘प्रत्येक नेता को प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र का ज्ञान होना चाहिए। केवल दिल्ली से जाना और पांच सितारा होटलों में रहना और दो-तीन दिन बाद दिल्ली लौटना पैसे की बर्बादी के अलावा और कुछ नहीं है।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 भाजपा मुसलमानों नहीं हिंदुओं को कर ही टार्गेट, ओवैसी की पार्टी के प्रवक्ता ने भाजपा पर किया हमला, बताई वजह
2 आतंकी कश्मीर में आ जाते हैं, चीन पैंगॉन्ग में घुस जाता है… क्या देश में भारत दर्शन चल रहा है? माजिद हैदरी ने पूछा सवाल तो सुधांशु त्रिवेदी ने दिया जवाब
3 भाजपा ने शुरू की मिशन 2024 की तैयारी, 120 दिन में जेपी नड्डा करेंगे हर राज्य का दौरा