ताज़ा खबर
 

PMLA में नपे डीके शिवकुमार, ED ने किया अरेस्ट; कांग्रेस बोली- यह ‘आर्थिक आपातकाल’, नरेंद्र मोदी सरकार डाल रही पर्दा

कर्नाटक में तत्कालीन एचडी कुमारस्वामी की सरकार में डी.के शिवकुमार कबीना मंत्री थे और उन्हें कांग्रेस चीफ सोनिया गांधी का करीबी माना जाता है।

कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार। फाइल फोटोः इंडियन एक्सप्रेस

कांग्रेसी नेता और कर्नाटक के पूर्व कबीना मंत्री डी.के.शिवकुमार प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत नपे हैं। मंगलवार (तीन सितंबर, 2019) शाम लगतार पांचवें दिन पूछताछ के बाद उन्हें प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने अरेस्ट कर लिया। हालांकि, शिवकुमार ने इस गिरफ्तारी के पीछे बीजेपी को जिम्मेदार ठहराया और इसे राजनीति और बदले की भावना से प्रेरित बताया।

गिरफ्तारी के थोड़ी देर बाद उनके टि्वटर हैंडल से लिखा गया, “मैं बीजेपी के मित्रों को मुझे गिरफ्तार कराने के उनके मिशन में सफल होने के लिए बधाई देता हूं। आयकर विभाग और ईडी के मामले राजनीति से प्रेरित हैं और बीजेपी द्वारा बदले की राजनीति का शिकार बनाया गया हूं।” शिवकुमार की गिरफ्तारी के बाद दिल्ली स्थित ईडी दफ्तर के बाहर रात को उनके समर्थकों की भारी भीड़ जुटी और उनके खिलाफ कार्रवाई को लेकर हंगामा काटने लगी।

इससे पहले, दिन में कर्नाटक में कई राजनेताओं ने ईडी द्वारा शिवकुमार से लगातार पूछताछ को मुद्दा बनाया और बीजेपी पर तुच्छ राजनीति का आरोप लगाया। पूर्व सीएम एचडी कुमारस्वामी (जेडीएस) और सिद्धारमैया (कांग्रेस) ने शिवकुमार के खिलाफ इस कार्रवाई की कड़ी निंदा की और केंद्र द्वारा इसे बदले की भावना से उठाया गया कदम करार दिया।

शिवकुमार की गिरफ्तारी ”आर्थिक आपातकाल” पर पर्दा डालने की कोशिश- कांग्रेसः कांग्रेस ने डीके शिवकुमार की गिरफ्तारी पर मंगलवार को नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधा। पार्टी ने आरोप लगाया कि सरकार की विफलताओं और ”आर्थिक आपातकाल” पर पर्दा डालने की कोशिश के तहत यह करवाई हुई है। मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला के मुताबिक, शिवकुमार निर्दोष थे और निर्दोष हैं और पार्टी अदालत और जनता के समक्ष इसका सबूत देगी। हमारे नेता के खिलाफ बदले की भावना से कार्रवाई की जा रही है।

सुरजेवाला आगे बोले- अर्थव्यवस्था औंधे मुंह गिर गई है। जीडीपी विकास दर पांच फीसदी लुढ़क गई है। हर क्षेत्र बेरोजगारी की चपेट में है। इन सबसे ध्यान भटकाने के लिए भाजपा सरकार आए दिन कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ झूठे मुकदमे दर्ज दर्ज करा रही है। आर्थिक आपातकाल का जो माहौल है, उस पर पर्दा डालने के लिए यह सब किया जा रहा है, लेकिन भाजपा सरकार इससे बच नहीं सकती।

क्या है मामला?: दरअसल, ईडी ने सितंबर 2018 में आयकर विभाग द्वारा दाखिल की गई चार्जशीट के आधार पर कांग्रेसी नेता और अन्य आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग के तहत मामला दर्ज किया था। आरोप है कि इन सभी ने टैक्स चोरी की और ये सभी करोड़ों रुपए के हवाला कारोबार के लेन-देन में शामिल हैं।

सात करोड़ रुपए के इस मनी लॉन्ड्रिंग मामले में जारी किए समन को चुनौती देते हुए सात बार विधायक रहे शिवकुमार ने कर्नाटक हाईकोर्ट में रिट याचिका दी थी। हालांकि, पिछले गुरुवार देर रात बेंगलुरू और दिल्ली से ईडी अधिकारी उनके पास ताजा समन लेकर पहुंचे थे, जिसके बाद उनकी यह याचिका खारिज कर दी गई थी। बेंगलुरू छोड़ने से पहले शिवकुमार ने इसे अपने खिलाफ साजिश करार दिया था।

Who is D.K.Shivkumar?: 15 मई 1962 को मैसूर राज्य (अब कर्नाटक) स्थित कनकपुरा इलाके में जन्मे डी.के शिवकुमार दक्षिण भारतीय राज्य कर्नाटक में कांग्रेस के जाने-माने नेता है। कनकपुरा से कांग्रेसी विधायक को कांग्रेस चीफ सोनिया गांधी का करीबी माना जाता है। वह इसके अलावा कर्नाटक में एच.डी.कुमारस्वामी के नेतृत्व वाली तत्कालीन जेडी(एस)-कांग्रेस के गठबंधन की सरकार में अहम भूमिका निभा चुके हैं। शिवकुमार इस सरकार में सिंचाई मंत्री थे, जबकि इससे पहले सिद्धारमैया सरकार में उनके जिम्मे ऊर्जा मंत्रालय था।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 ‘रोटी और नमक’ प्रकरण: पत्रकार पर FIR, UP के अधिकारी की सफाई- फोटो लेता, वीडियो क्यों बनाया?
2 हरियाणा: ट्रैफिक रूल तोड़ने पर कटा 23,000 रुपये का चालान, स्‍कूटर ही छोड़ गया
3 दलित विधायक को गणपति पंडाल में घुसने से रोका, की धक्कामुक्की! सामने आया VIDEO
ये पढ़ा क्या?
X