ताज़ा खबर
 

अर्णव चैट लीक केस में बोले पूर्व रक्षा मंत्री, सैन्य गतिविधियों की ऐसी जानकारी पर मिले दंड

पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि 'इस व्हाट्सएप बातचीत में जो बातें सामने आई है, वो बहुत दुखद है। गंदी राजनीति से न्यायपालिका को दूर रखा जाना चाहिए...

A K ANTONYपूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी। फाइल फोटो। फोटो सोर्स – सोशल मीडिया

‘Republic Bharat’ के एडिटर अर्णब गोस्वामी से जुड़े चैट लीक केस पर देश के पूर्व रक्षा मंत्री ए के एंटनी की प्रतिक्रिया सामने आई है। पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा है कि मिलिट्री ऑपरेशन से जुड़ी गोपनीय बातों को लीक करना राजद्रोह है। इसमें जो लोग भी शामिल हैं उन्हें दंड जरुर मिलना चाहिए। न्यूज एजेंसी ‘PTI’ के मुताबिक ए के एंटनी ने आगे कहा कि एयरस्ट्राइक और राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर जिस तरह से बातें लीक हो गईं उसकी तुरंत जांच करानी चाहिए।

पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि ‘राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ी और बहुत संवेदनशील जानकारी कुछ ऐसे लोगों के पास थी जिनके पास नहीं होनी चाहिए। शहीद जवानों के बारे में जिस भाषा का इस्तेमाल किया गया उससे मैं बहुत दुखी हूं।’ पूर्व रक्षा मंत्री ने सवाल किया, ”सरकार में शीर्ष पदों पर बैठे सिर्फ चार-पांच लोगों को इस तरह के अभियान के बारे में पता होता है, ऐसे में बालाकोट एयर स्ट्राइक से कुछ दिनों पहले एक पत्रकार को इस बारे में कैसे पता चला।?’

ए के एंटनी के अलावा कांग्रेस के कुछ अन्य बड़े नेताओं ने भी इस लीक व्हाट्सऐप चैट को लेकर अपनी बात रखी है। पूर्व कानून मंत्री सलमान खुर्शीद ने कहा कि ‘इस व्हाट्सएप बातचीत में जो बातें सामने आई है, वो बहुत दुखद है। गंदी राजनीति से न्यायपालिका को दूर रखा जाना चाहिए..इस बातचीत में पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली के बारे में जो बातें की गई हैं वो बहुत दुखद हैं। ये बातें बहुत विचिलित करती हैं।’

कांग्रेस के एक अन्य नेता पवन खेड़ा ने कहा कि ’73 साल के इतिहास में राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ ऐसा खिलवाड़ होते हुए इस देश ने नहीं देखा। आजाद हिंदुस्तान के प्रधानमंत्री, उनके कार्यालय, गृहमंत्री एवं पूरी सरकार की मर्यादा को छिन्न-भिन्न होते हुए भी यह देश देख रहा है।’

आपको बता दें कि रिपब्लिक टीवी के एडिटर अर्णब गोस्वामी (Arnab Goswami) और BARC के पूर्व सीईओ पार्थो दासगुप्ता (Partho Dasgupta) की बीच की कथित व्हाट्सएप (WhatsApp) चैट्स वायरल हो रहे हैं। 14 फरवरी 2019 को पुलवामा के करीब एक CRPF काफिले पर आतंकी हमला हुआ था। इसमें 40 जवान शहीद हो गए थे। उस दिन पार्थो दासगुप्ता के साथ अपनी कथित बातचीत में गोस्वामी से पहले कहते हैं कि उनका चैनल कश्मीर में साल के सबसे बड़े आतंकी हमले पर 20 मिनट आगे थे। फिर गोस्वामी कथित तौर पर अपने चैनल की कवरेज पर कहते हैं कि इस हमले पर हम जीत गए हैं।

Next Stories
1 ‘हंसी के बादशाह’ नवजोत सिंह सिद्धू को पसंद नहीं था मज़ाक, बताई कहानी- जब मनिंदर सिंह पर फेंक दिया गर्म चाय का कप
2 किसान आंदोलनः CJI की सख़्त टिप्पणी, पैनल के लोग योग्य, बदनाम न करें
3 Kerala Akshaya Lottery AK-481 Today Results: नतीजे जारी, यहां चेक करें 70 लाख रुपये तक के रिजल्ट
यह पढ़ा क्या?
X