ताज़ा खबर
 

अमित शाह के प्रहार पर कांग्रेस का पलटवार, ‘MLA चुराने में महारथी है BJP, दिए 20-20 करोड़’

कांग्रेस की इस प्रतिक्रिया से पहले बीजेपी अध्यक्ष ने कर्नाटक चुनाव के बाद अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। उन्होंने उसमें कहा था, "बीजेपी कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। यही कारण है कि उसने सरकार बनाने का दावा पेश किया। शाह ने इसी के साथ दावा किया था कि अगर राज्य में विधायक बंधक न बनाए जाते तो वहां सरकार बीजेपी की ही होती।

Author Updated: May 21, 2018 9:23 PM
कांग्रेसी नेता आनंद शर्मा ने बीजेपी की हालत खिसियानी बिल्ली जैसी बताई। (फाइल फोटो)

कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के प्रहार पर पलटवार किया है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता आनंद शर्मा ने बीजेपी के लगाए आरोपों को बेबुनियाद ठहराते हुए उसकी हालत खंभा नोंचने वाली खिसियानी बिल्ली जैसी बताई है। शर्मा ने कहा है कि बीजेपी को दूसरे पार्टियों के विधायक चुराने में महारत हासिल है। बीजेपी ने अपनी कर्मों के कारण इस चुनाव में अपने चेहरे पर कालिख पोती है।

कांग्रेस की ओर से यह प्रतिक्रिया तब आई है, जिससे ठीक पहले बीजेपी अध्यक्ष ने कर्नाटक चुनाव के बाद अपनी पहली प्रेस कॉन्फ्रेंस की थी। उन्होंने उसमें कहा था, “बीजेपी कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी। यही कारण है कि उसने सरकार बनाने का दावा पेश किया। बीजेपी ने जब दावा पेश किया था, जब कांग्रेस और जेडीएस का गठबंधन नहीं हुआ था।” शाह ने इसी के साथ दावा किया था कि अगर राज्य में विधायक बंधक न बनाए जाते तो वहां सरकार बीजेपी की ही होती।

अमित शाह ने बताया, BJP ने कर्नाटक में क्यों पेश किया था सरकार बनाने का दावा

सोमवार (21 मई) को शर्मा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे थे। वह बोले, “कांग्रेस ने अपने विधायकों को बीजेपी से बचाया है। केंद्र सरकार ने उन्हें तोड़ने में अपनी पूरी ताकत झोंक दी थी। चूंकि बीजेपी सबसे अमीर पार्टी है। बीजेपी ने विधायकों को 20 करोड़ रुपए दिए। क्योंकि वह काले धन का कुबेर है।”

उन्होंने आगे बताया, “बीजेपी के नियम और मान्यताएं हर चुनाव के साथ बदलती हैं। कहीं तो स्थिर रहें। आपने अपने मुंह पर स्वयं कालिख लगाई है। यह आपका काम है। गलती है। चुनाव कर्नाटक में हो रहे हैं। ऐसे में जिन्ना और टीपू सुल्तान कहां से आ गए? जबकि बात रोजगार और महंगाई पर होनी चाहिए। वे इन मुद्दों पर बात नहीं करते।”

बकौल शर्मा, “हमेशा सरकार प्रचार में रहती है। 26 मई के बाद केंद्र सरकार प्रचार में चली जाएगी। प्रधानमंत्री प्रपोगेंडा के मास्टर हैं। ये कुछ भी कर लें, लेकिन इनकी चाल, चेहरा और चरित्र सबके सामने आ जा जाएगा।”

बीजेपी अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए बोले, “शाह को संविधान की जानकारी नहीं है और अगर है भी, तो वह उसे मानते नहीं हैं। बीजेपी अक्सर बातों को तोड़-मरोड़ कर परोसती है। कर्नाटक विस चुनाव में तकरीबन साढ़े छह हजार करोड़ रुपए पानी की तरह बहाए गए। 20-20 करोड़ प्रचार में खर्च करने को दिए गए, जबकि चार हजार करोड़ रुपए विधायकों की खरीद-फरोख्त के लिए रखे गए थे।”

 

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 लोकसभा चुनाव 2019: महा-जनसम्‍पर्क अभियान चलाएगी भाजपा, ये है प्‍लान
2 भारत ने ब्रह्मोस मिसाइल का सफल परीक्षण किया, रक्षा मंत्री ने दी बधाई
3 अमित शाह ने बताया, बीजेपी ने कर्नाटक में क्यों पेश किया था सरकार बनाने का दावा