ताज़ा खबर
 

बिहार में बाढ़ः PM नरेंद्र मोदी ने किया ट्वीट, कांग्रेस-JD(S) ने घेर पूछा- बिहार के लिए प्यार! कर्नाटक के लिए नफरत क्यों थी?

कांग्रेस और जेडीएस ने कहा पीएम ने बाढ़ राहत कोष पर राज्य के साथ सौतेला व्यव्हार किया। आप बिहार के लिए प्यार जताते हैं और कर्नाटक के लिए नफरत क्यों रखते हैं।

narendra modiपीएम नरेंद्र मोदी। (फाइल फोटो)

बिहार में बाढ़ के प्रकोप पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ट्वीट पर कांग्रेस और जेडीएस ने कड़ी आलोचना की है। दोनों दलों का कहना है कि पीएम मोदी कर्नाटक के साथ बेरुखा बर्ताव करते हैं। कांग्रेस-जेडीएस ने कहा है कि पीएम ने बाढ़ राहत कोष पर राज्य के साथ सौतेला व्यव्हार किया। दरअसल पीएम मोदी ने ट्वीट कर बिहार को हर संभव मदद की पेशकश की है। पीएम ने ट्वीट किया ‘बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से राज्य में आई बाढ़ को लेकर बातचीत की। स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर एजेंसियां प्रभावितों तक मदद पहुंचा रही हैं। केंद्र हर संभव मदद देने के लिए तैयार है।’ पीएम के इसी ट्वीट पर कांग्रेस और जेडीएस हमलावर हैं।

इस संदर्भ में राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सिद्धारमैया कहते हैं ‘कर्नाटक में भीषण बाढ़ के प्रकोप के 60 दिन बीत जाने के बाद भी नरेंद्र मोदी सरकार की तरफ से शेल्टर होम, खाने-पीने की कोई व्यवस्था नहीं की गई। यहां तक कि राज्य में पशु मर रहे हैं और फसलें खराब हो चुकी हैं लेकिन केंद्र की तरफ से मदद न मिलने का मतलब कर्नाटक के लिए नफरत थी। मोदी कोई जवाब क्यों नहीं दे रहें, जबकि कर्नाटक के कई इलाके बाढ़ से गंभीर रूप से प्रभावित हुए हैं।’

सिद्धरमैया ने मोदी के ‘ट्वीट’ को ‘रीट्वीट’ करते हुए यह जानना चाहा कि कर्नाटक के लिए ‘‘नफरत’’ क्यों है? वहीं चित्रदुर्ग जिले में पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कहा मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा कह रहे हैं कि उनकी सरकार ने बाढ़ प्रभावित लोगों को 10,000 रुपए की मदद दी है। लेकिन उन्होंने पैसे जारी करने में भेदभाव किया है। ‘उन्होंने कांग्रेस को समर्थन देने वालों को पैसा नहीं दिया और केवल भाजपा समर्थकों को पैसा दिया।’

वहीं जेडीएस ने ट्वीट किया, ‘मोदी जी, आप कर्नाटक की मदद करने में इसी तरह की रुचि क्यों नहीं प्रर्दिशत कर रहे? आप चुनाव के दौरान कई बार कर्नाटक आए लेकिन आप अब लोगों के दुख में शामिल नहीं होना चाहते।’’

पप्पू यादव का नीतीश पर वार- राजधानी बना दी ‘नरकधानी’: सरकार के झूठे दावों, प्रशासनिक लापरवाही और नगर निगम में सफाई का निकम्मा तंत्र ने राजधानी का ‘नरकधानी’ बना दिया है। पानी में फंसे लोगों तक खाने-पीने की सामग्री पहुंचाने में सरकारी महकमा विफल साबित हो रहा है। वैसे में जन अधिकार पार्टी (लो) के पदाधिकारी और कार्यकर्ता अपने सीमित संसाधनों में अधिकतम लोगों तक राहत सामग्री पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं। पप्पू यादव ने कहा की हम खुद दिन-रात कहीं जेसीबी से तो कहीं ट्रैक्टर से राहत सामग्री पहुंचा रहे हैं। उसका वितरण कर रहे हैं। जरूरतमंद लोगों को आर्थिक मदद भी पार्टी की ओर से की जा रही है। इसमें किसी प्रकार का कोई भेदभाव नहीं बरता जा रहा है।

जरूरत के अनुसार खाने-पीने के सामान वितरित किये जा रहे हैं। इस काम में आम लोगों का सहयोग भी मिलने लगा है। पानी में फंसे हुए लोग हमारे कंट्रोल रूम के मोबाइल नंबर पर सहायता मांग रहे हैं और उन्हें सहायता उपलब्ध करवायी जा रही है। जन अधिकार पार्टी के अध्यक्ष पप्पू यादव ने आज पटना के बाजार समिति, राजेन्द्र नगर, कंकड़बाग के मलाही पकड़ी में जलजमाव प्रभावित लोगों के बीच खाना, दूध पानी और दवा का वितरण किया गया। साथ ही नवरात्र का समय में जो लोग ब्रत कर रहे लोगों को फल और दूध का वितरण किया। इस दौरान आज राहत सामग्री के तौर पर हमने 400 कार्टन पानी दो पिकप विस्किट सहित और दवा सहित जरुरत मंद लोगों के बीच पैसे का वितरण किया गया।

Next Stories
1 ‘JK में दी जरा भी ढील तो 370 पर भड़के कश्मीरी कर देंगे पूर्व मुख्यमंत्रियों की लिंचिंग’, BJP प्रवक्ता का बयान
2 Haryana Elections 2019: ‘मुझे टिकट मांगने की जरूरत नहीं, और किसी को दिलानी हो तो बताएं?’, बोले कांग्रेसी MLA
3 ममता बनर्जी के गढ़ में अमित शाह, बोले- दीदी कह रहीं NRC होने नहीं देंगी, हम चुन-चुन कर घुसपैठियों को करेंगे देश से बाहर
आज का राशिफल
X