ताज़ा खबर
 

संजय निरूपम ने कहा- सरकार बनाना कांग्रेस की नैतिक जवाबदेही नहीं, खड़गे बोले- शरद पवार से चल रही बात

निरूपम ने ट्वीट कर कहा 'अस्थिरता के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। यह बीजेपी और शिवसेना की नाकामी है जिसकी वजह से महाराष्ट्र में कभी भी राष्ट्रपति शासन लग सकता है।'

Author Updated: November 12, 2019 2:20 PM
कांग्रेसी नेता संजय निरुपम। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटोः गणेश तेंदुलकर)

महाराष्ट्र में सरकार गठन को लेकर चल रही खींचतान जारी है। कांग्रेस में ही इसपर दो फाड़ नजर आ रहे हैं। राज्य में शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाए या नहीं इस पर पार्टी में अलग-अलग मत है। इस बीच कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने कहा है कि सरकार बनाना उनकी पार्टी की नैतिक जवाबदेही नहीं है। महाराष्ट्र में राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के बाद कांग्रेस में सरकार गठन को लेकर असमंजस है।

निरूपम ने ट्वीट कर कहा ‘अस्थिरता के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार नहीं ठहराया जाना चाहिए। यह बीजेपी और शिवसेना की नाकामी है जिसकी वजह से महाराष्ट्र में कभी भी राष्ट्रपति शासन लग सकता है। सरकार गठन को लेकर कांग्रेस की कोई नैतिक जवाबदेही नहीं है।’ बता दें कि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज कोर कमेटी की बैठक बुलाई है। इस बैठक में भविष्य की रणनीति पर फैसला हो सकता है।

कांग्रेस नेताओं में इस बात को लेकर असमंजस की स्थिति बनी हुई है कि सरकार गठन में शिवसेना को समर्थन दें या नहीं। वहीं पार्टी के ही वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा है कि कांग्रेस की एनसीपी नेता शरद पवार से बातचीत जारी है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने एनसीपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा था लिहाजा जो भी फैसला लिया जाएगा वह दोनों दलों के बीच आपसी बातचीत के बाद ही लिया जाएगा।

वहीं, केसी पडवी ने कहा कि प्रक्रिया अभी भी चल रही है और अंतिम फैसला सकारात्म हो सकता है। उन्होंने कहा है कि शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी मिलकर सरकार बनाने जा रही है जिसमें शिवसेना का नेता ही मुख्यमंत्री होगा।

मालूम हो कि कांग्रेस वैचारिक रूप से अपनी प्रतिद्वंद्वी शिवसेना के साथ समझौते पर कोई फैसला जल्दबाजी में लेती प्रतीत नहीं हुई और उसने समर्थन देने के मुद्दे पर चुनाव पूर्व की अपनी सहयोगी एनसीपी के साथ आगे और बातचीत करने का फैसला किया। इससे राज्य में गैर-भाजपा सरकार बनाने के शिवसेना के प्रयासों को बड़ा झटका लगा।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 BJP विधायक ने की अयोध्या पर फैसला देने वाले जजों को भारत रत्न देने की मांग, ओवैसी को बताया ‘बाबर का इकलौता वंशज’
2 कांग्रेस सांसद शश‍ि थरूर के ख‍िलाफ वॉरंट, नरेंद्र मोदी की तुलना श‍िवल‍िंग पर बैठे ब‍िच्‍छू से करने का मामला
3 NDA के बुरे दिन? महाराष्ट्र के बाद एक और राज्य में हुई तकरार, पासवान बोले- अब अकेले लड़ेंगे चुनाव
जस्‍ट नाउ
X