राजधानी के कोर्ट में चली गोली फिर भी चुप क्यों गृह मंत्री अमित शाह? कांग्रेस ने किया वार

वल्लभ ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व ने असम चुनाव से पहले तमाम बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन अब उन वादों का क्या हुआ। उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ जब एक राज्य की पुलिस ने दूसरे राज्य के पुलिस बल पर गोलियां चलाई हों और पुलिसकर्मियों की हत्या की हो, इसके बावजूद गृह मंत्री चुप हैं।

Delhi Rohini Court
दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में गोलीबारी के बाद एक्शन मोड में पुलिस।

कांग्रेस ने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक अदालत में गोली चलने और असम में हुई गोलीबारी की घटना को लेकर केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर निशाना साधते हुए शनिवार को कहा कि वह चुप क्यों हैं। कांग्रेस के प्रवक्ता गौरव वल्लभ ने यह भी कहा कि क्या गृह मंत्री के पास असम में पैदा हुई समस्या सुलझाने का वक्त नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘‘देश में कानून-व्यवस्था की स्थिति खराब हो रही है। राष्ट्रीय राजधानी में अदालत कक्ष के भीतर गोलियां चल रही हैं, लोग मर रहे हैं। अदालत के भीतर 10-20 गोलियां चलीं। गृह मंत्री कहां हैं? उनका बयान कहां है।’’
वल्लभ ने कहा, ‘‘इसके लिए कौन जिम्मेदार है।’’ उन्होंने कहा कि क्या गृह मंत्री सिर्फ भाषण देने के लिए हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता ने पत्रकारों से कहा, ‘‘जब कानून-व्यवस्था की स्थिति इतनी खराब हो और देश का गृह मंत्री चुप हो तथा कोई बयान न दे रहा हो या कार्रवाई न कर रहा हो, तो ऐसे में मजबूर सरकार के संकेत मिलते हैं, किसी मजबूत सरकार के नहीं। भारत की जनता ने कभी मजबूर सरकार को बर्दाश्त नहीं किया है।’’

वल्लभ ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेतृत्व ने असम चुनाव से पहले तमाम बड़े-बड़े वादे किए थे, लेकिन अब उन वादों का क्या हुआ। उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में ऐसा कभी नहीं हुआ जब एक राज्य की पुलिस ने दूसरे राज्य के पुलिस बल पर गोलियां चलाई हों और पुलिसकर्मियों की हत्या की हो, इसके बावजूद गृह मंत्री चुप हैं।

वह असम-मिजोरम सीमा विवाद के संदर्भ में बोल रहे थे जहां जुलाई में दोनों राज्यों की पुलिस के बीच हुई गोलीबारी में सात लोग मारे गए थे और 50 अन्य घायल हुए थे। वल्लभ ने कहा, ‘‘देश के गृह मंत्री के पास असम जाने और बातचीत के जरिए मुद्दे का हल निकालने का वक्त नहीं है। उनके पास इस समस्या का समाधान करने का समय नहीं है। देश के गृह मंत्री कहां हैं, क्या वह भी अमेरिका गए हैं।’’ उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया से उन्हें पता चला है कि गृह मंत्री एक सहकारिता सम्मेलन में हिस्सा ले रहे हैं।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट