ताज़ा खबर
 

पुदुचेरीः चुनाव से पहले कांग्रेस को झटका! 4 MLAs के इस्तीफे बाद सरकार अल्पमत में

पार्टी के साथ ऐसा तब हुआ है, जब खुद पूर्व कांग्रस चीफ 17 फरवरी को पुदुचेरी का दौरा करने पहुंचेंगे।

Author Edited By अभिषेक गुप्ता पुदुचेरी | Updated: February 16, 2021 1:18 PM
Puducherry, Congress, Electionsकबीना मंत्रियों की मौजूदगी में मंगलवार को बैठक करते हुए सीएम नारायणसामी। (फोटोः फेसबुक/CMPuducherry)

पुदुचेरी में विधानसभा चुनाव से चंद माह पहले कांग्रेस सरकार को बड़ा झटका लगा है। पार्टी के चार विधायकों (पिछले दो दिनों के भीतर दो ने) द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद सरकार अल्पमत में आ गई।

दरअसल, 30 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के कुल 15 विधायक थे, जबकि डीएमके दो एमएलए के समर्थन के जरिए कांग्रेस बहुमत में थी। पर हालिया इस्तीफों के बाद सरकार और विपक्ष का आंकड़ा 14 पर आ पहुंचा। ऐसे में कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई। फिलहाल पार्टी के 10 सदस्य ही बताए जा रहे हैं।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, कामराज सीट से कांग्रेस विधायक ए.जॉन कुमार ने मंगलवार को इस्तीफा दे दिया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी से असंतोष का हवाला देते हुए यह कदम उठाया। उन्होंने स्पीकर वी शिवकोलंथु को इस्तीफा सौंपा। कुमार के बीजेपी शामिल करने की अटकल हैं। इनसे पहले, कांग्रेसी विधायक मल्लदी कृष राव, नमिचीवम और थिपनदान इस्तीफे दे चुके हैं।

पार्टी के साथ ऐसा तब हुआ है, जब खुद पूर्व कांग्रस चीफ 17 फरवरी को पुदुचेरी का दौरा करने पहुंचेंगे। राजनीतिक एक्सपर्ट्स की मानें तो विस चुनाव के मद्देनजर राहुल केंद्र शासित प्रदेश में चुनावी कैंपेन का आगाज कर सकते हैं। वे उस दौरान कुछ रैलियां भी करेंगे।

उधर, कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश इकाई के वरिष्ठ नेता सतीश अजमानी को कोषाध्यक्ष और पूर्व मंत्री नसीमुद्दीन सिद्दीकी को राज्य इकाई के मीडिया एवं संचार विभाग का प्रमुख नियुक्त किया है।

पार्टी के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से मंगलवार को जारी एक बयान के मुताबिक, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अजमानी को प्रदेश कांग्रेस कमेटी का कोषाध्यक्ष और सिद्दीकी को मीडिया एवं संचार विभाग का प्रमुख नियुक्त किए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की।

अजमानी प्रदेश संगठन में पहले कई जिम्मेदारियां निभा चुके हैं। सिद्दीकी उत्तर प्रदेश में बसपा की पूर्ववर्ती सरकारों में कैबिनेट मंत्री रहे हैं और मायावती के करीबी माने जाते थे। करीब तीन साल पहले वह कांग्रेस में शामिल हो गए।

Next Stories
1 Gujarat RS By-Elections: दिनेश भाई प्रजापति, रामभाई मोकरिया को BJP ने बनाया कैंडिडेट
2 मोदी सरकार ने निजीकरण के लिए छांटे 4 बैंक, आगे बड़े बैंकों का भी हो सकता है प्राइवेटाइजेशन!
3 पेट्रोल पर आधा सच बोल रही भारत सरकार, पाकिस्तान में है यहां से करीब आधा दाम
ये पढ़ा क्या?
X