ताज़ा खबर
 

पति रॉबर्ट वाड्रा को लेने ईडी दफ्तर पहुंची प्रियंका गांधी, अधिकारियों ने की दिनभर मैराथन पूछताछ

लंबी गाड़ी में काला सूट पहने और गले में लाल स्टॉल लपेटे प्रियंका की गाड़ी ईडी दफ्तर के आगे आकर रुकी, उसके कुछ देर बाद ईडी दफ्तर के अंदर से रॉबर्ड वाड्रा भी निकले।

Author Updated: February 7, 2019 10:34 PM
ईडी दफ्तर के बाहर गाड़ी में प्रियंका गांधी और उनके पति रॉबर्ट वाड्रा। (फोटो-ANI)

करीब नौ घंटे चली लंबी पूछताछ के बाद रात 9 बजे के करीब प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने हाई प्रोफाइल व्यवसायी रॉबर्ट वाड्रा को छोड़ दिया। उन्हें ईडी दफ्तर से लेने कांग्रेस महासचिव और वाड्रा की पत्नी प्रियंका गांधी खुद आई थीं। लंबी गाड़ी में काला सूट पहने और गले में लाल स्टॉल लपेटे प्रियंका की गाड़ी ईडी दफ्तर के आगे आकर रुकी, उसके कुछ देर बाद ईडी दफ्तर के अंदर से रॉबर्ड वाड्रा भी निकले। इसके बाद दोनों गाड़ी से निकल गए। बता दें कि वाड्रा कल (बुधवार, 6 फरवरी) को पहली बार ईडी के सामने पेश हुए थे। उस दिन भी प्रियंका उन्हें छोड़ने आई थीं।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के बहनोई वाड्रा से विदेश में कथित तौर पर अवैध संपत्ति रखने के संबंध में धन शोधन से जुड़े एक मामले में आज (गुरुवार, 7 फरवरी) को दूसरी बार पूछताछ की है। वह सुबह करीब 11 बजकर 25 मिनट पर मध्य दिल्ली के जामनगर हाउस स्थित ईडी दफ्तर पहुंचे थे। इससे एक घंटे पहले उनके वकीलों की टीम वहां पहुंची थी। बुधवार को पहली बार वाड्रा से साढ़े पांच घंटे तक पूछताछ हुई थी और कल ही इस बात के संकेत मिल गए थे कि वाड्रा दोबारा पूछताछ के लिए ईडी के अधिकारियों के सामने पेश होंगे।

यह मामला लंदन में 12 ब्रायनस्टन स्क्वायर पर 19 लाख पाउंड (ब्रिटिश पाउंड) की संपत्ति की खरीद में कथित रूप से धनशोधन के आरोप से संबंधित है। यह संपत्ति कथित तौर पर रॉबर्ट वाड्रा की है। जांच एजेंसी ने अदालत से यह भी कहा था कि उसे लंदन की कई नयी संपत्तियों के बारे में सूचना मिली है जो वाड्रा की है। उनमें पचास और चालीस लाख ब्रिटिश पाउंड के दो घर तथा छह अन्य फ्लैट एवं अन्य संपत्तियां हैं।

ईडी ने पिछले साल दिसंबर में इस मामले में छापा भी मारा था और वाड्रा से जुड़ी कंपनी स्काईलाईट हॉस्पिटैलिटी एलएलपी के कर्मचारी मनोज अरोड़ा से पूछताछ की थी। जांच एजेंसी ने अदालत से कहा था कि उसने अरोड़ा के खिलाफ पीएमएलए का मामला दर्ज किया था क्योंकि भंडारी के खिलाफ 2015 के कालाधन कानून के तहत आयकर विभाग द्वारा एक अन्य मामले की जांच के दौरान उसकी भूमिका के बारे में जानकारी मिली थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

Next Stories
1 तकरार के चार दिन बाद ममता के पूर्व सांसद को CBI का समन, शारदा घोटाले में करोड़ों डकारने के हैं आरोप
2 अगर आप भी हैं इनमें शामिल तो नहीं मिलेंगे पीएम किसान योजना के 6000 रुपये
3 प. बंगाल: ममता बनर्जी के साथ धरना पर दिखने वाले अफसरों के मेडल छीन सकती है मोदी सरकार