ताज़ा खबर
 

उपराष्‍ट्रपति चुनाव: कांग्रेस ने वेंकैया नायडू के परिवार पर लगाया भ्रष्‍टाचार का आरोप

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आज संवाददाताओं से कहा कि पार्टी ने 24 जुलाई को नायडू एवं उनके परिजनों पर चार आरोप लगाए थे।

Author नई दिल्ली | July 26, 2017 6:17 PM
वेंकैया नायडू एवं उनके परिजनों पर लगाए गए कथित अनियमितताओं के आरोपों पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं।

कांग्रेस ने आज कहा कि भ्रष्टाचार एवं गलत कामों को बिल्कुल बर्दाश्त नहीं करने का दावा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उप राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार एम वेंकैया नायडू एवं उनके परिजनों पर लगाए गए कथित अनियमितताओं के आरोपों पर चुप्पी क्यों साधे हुए हैं। भाजपा के वरिष्ठ नेता नायडू ने अपने और अपने परिजनों के बारे में कांग्रेस पार्टी द्वारा दो दिन पहले लगाए गए कथित अनियमितताओं के आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया था और इनका बिंदुवार जवाब दिया था।

कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने आज संवाददाताओं से कहा कि पार्टी ने 24 जुलाई को नायडू एवं उनके परिजनों पर चार आरोप लगाए थे। इनके जवाब में नायडू एवं तेलंगाना की टीआरएस सरकार ने जो स्पष्टीकरण दिया है उससे और भी सवाल उठते हैं।
उन्होंने कहा ‘‘तेलंगाना सरकार ने नायडू की पुत्री दीपा वेंकट के स्वर्ण भारत ट्रस्ट को हैदराबाद महानगर विकास प्राधिकरण के कुल 2.46 करोड़ रूपये के विकास प्रभारों से छूट दी थी। इसके जवाब में नायडू ने कहा कि ऐसी छूट 16 और ट्रस्टों को दी गई। ’’ उन्होंने कहा कि तेलंगाना सरकार ने यह नहीं बताया कि अन्य ऐसे सैकड़ों गैर सरकारी संगठनों ने छूट पाने के लिए सरकार से आवेदन किया था लेकिन उनको छूट नहीं दी गई। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि स्वर्ण भारत ट्रस्ट को इसी सरकार ने 8 जुलाई 2017 को विदेशी योगदान (नियमन) कानून 2010 के तहत एक नोटिस दिया था।

सुरजेवाला ने तेलंगाना सरकार द्वारा पुलिस के वाहन खरीदने के मामले में आरोप लगाया कि नायडू के पुत्र के स्वामित्व वाली हर्ष टोयटा से 350 टोयटा वाहन बिना टेंडर के खरीदे गए जबकि राधा कृष्ण मोटर से टेंडर जारी करके वाहन खरीदे गए। उन्होंने कहा कि नायडू ने स्वीकार किया है कि भोपाल में जिस कुशाभाऊ ठाकरे स्मारक ट्रस्ट को मध्यप्रदेश सरकार ने 20 एकड़ जमीन दी थी, वह उस ट्रस्ट के तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष होने के कारण चेयरमेन थे। उन्होंने कहा कि इस सौदे पर उच्चतम न्यायालय ने कड़ी आपत्ति जताई थी। सुरजेवाला ने कहा कि नायडू ने इस बात से इंकार नहीं किया है कि आंध्रप्रदेश में गरीबों और वंचितों के उद्देश्य वाली 4.95 एकड़ जमीन उन्होंने हासिल की थी जिसे बाद में उन्हें लौटाना पड़ा था। उन्होंने कहा कि इन बिंदुओं पर प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा अध्यक्ष शाह को जवाब देना चाहिए।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App