ताज़ा खबर
 

कांग्रेस बोली- पाकिस्तान पर ‘जलेबी नीति’ में न उलझाएं पीएम मोदी, साफ करें रुख

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को पत्र भेजे जाने को लेकर कांग्रेस ने आज सरकार पर पाकिस्तान को लेकर ‘जलेबी जैसी नीति’ अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी को स्पष्ट करना चाहिए कि उनकी इस पड़ोसी देश को लेकर नीति क्या है।

Author August 20, 2018 6:17 PM
पीएम नरेंद्र मोदी। (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की ओर से पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को पत्र भेजे जाने को लेकर कांग्रेस ने आज सरकार पर पाकिस्तान को लेकर ‘जलेबी जैसी नीति’ अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि मोदी को स्पष्ट करना चाहिए कि उनकी इस पड़ोसी देश को लेकर नीति क्या है। पार्टी ने अपने नेता नवजोत सिंह सिद्धू के पाकिस्तानी सेना प्रमुख कमर जावेद बाजवा के गले मिलने के संदर्भ में कहा कि इस बारे में पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने रुख स्पष्ट कर दिया है। अमरिंदर सिंह ने सिद्धू के बाजवा से गले मिलने को अनुचित बताया है। कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘जब पाकिस्तान की बात आती है तो सभी दलों और देशवासियों को एक स्वर में बोलना चाहिए। लेकिन दिक्कत यह है कि इस सरकार की पाकिस्तान नीति जलेबी की तरह है। चैनलों पर भाजपा के प्रवक्ता कहते हैं कि पाकिस्तान को चीर देंगे, सबक सिखाएंगे, लेकिन फिर अचानक ही नीति बदल जाती है।

उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री को स्पष्ट करना चाहिए कि पाकिस्तान को लेकर उनकी नीति क्या है। एक बार वह सबक सिखाने की बात करते हैं, फिर बिना बुलाए शादी में पाकिस्तान चले जाते हैं और आईएसआई के लोगों को यहां बुला लेते हैं।’’ शेरगिल ने कहा कि भाजपा और मोदी सरकार को ‘राष्ट्रवाद का पाखंड’ करने की बजाय पाकिस्तान को लेकर अपनी नीति देशवासियों के समक्ष स्पष्ट करनी चाहिए।

पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के कश्मीर से जुड़े एक बयान पर शेरगिल ने कहा, ‘‘ पाकिस्तान कश्मीर को लेकर दिन में सपने देख सकता है, लेकिन सच यह है कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा था, है और सदा रहेगा। पाकिस्तान को कश्मीर पर दिन में सपने देखने की बजाय अपने यहां गरीबी दूर करने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।’’ सिद्धू के इमरान खान के शपथ ग्रहण में शामिल होने के संदर्भ में उन्होंने कहा, ‘‘ सिद्धू निजी और क्रिकेटर की हैसियत से गए थे। लेकिन अगर पाकिस्तान जाना देशद्रोह है तो सबसे पहले तो हमारे प्रधानमंत्री देशद्रोही हैं। राष्ट्रवाद का पाठ तब याद कराना चाहिए जब प्रधानमंत्री पाकिस्तान जाकर बिरयानी खाते हैं और उनके मंत्री पाकिस्तानी उच्चायोग में जाकर दावत खाते हैं।’’ बाजवा से सिद्धू के गले मिलने पर कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, ‘‘इस पर अमरिंदर सिंह ने रुख स्पष्ट कर दिया है।’’ भाषा हक

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App