ताज़ा खबर
 

कांग्रेस ने गुटबाजी से परेशान होकर अपने नेताओं को दी नसीहत- ट्वीट-ट्वीट ना खेलें पार्टी नेता

कांग्रेस के संचार विभाग ने वरिष्ठ नेताओं से कहा कि वे युवाओं का मार्गदर्शन करें और उनके लिए आगे का रास्ता तय करने में मदद करें।

Author Edited By कीर्तिवर्धन मिश्र नई दिल्ली | August 3, 2020 2:40 PM
Congress, Randeep Surjewala, INCकांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला (बीच में), अजय माकन (दाएं) और पार्टी के राजस्थान प्रभारी अविनाश पांडे। (फोटो- PTI)

इस साल की शुरुआत में मध्य प्रदेश और अब राजस्थान में मचे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस ने अपने नेताओं को कड़ी नसीहत दी है। पार्टी ने सीनियर और जूनियर नेताओं को आपस में न उलझने की सलाह देते हुए वरिष्ठ नेताओं से छोटों को गाइड करने के लिए कहा है। इसके अलावा पार्टी ने नेताओं से सोशल मीडिया पर बयानबाजी से बचने और अपनी बात को पार्टी फोरम पर रखने के लिए कहा है।

कांग्रेस के संचार विभाग के प्रमुख रणदीप सुरजेवाला ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा, “हम अपने उन सारे दोस्त जो ट्विटर-ट्विटर खेल रहे हैं और ट्विटर पर बयानबाजी कर रहे हैं उनसे कहना चाहेंगे कि आप पार्टी के आंतरिक प्लेटफॉर्म्स पर अपनी बात रख सकते हैं। क्योंकि हमारी पार्टी में लोकतंत्र है। हम जबरदस्ती लोगों को रिटायर नहीं करते।”

सुरजेवाला के इस बयान की टाइमिंग को काफी अहम माना जा रहा है। दरअसल, हाल ही में कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने राहुल गांधी के लिए एक सलाह ट्वीट की थी। इससे कांग्रेस के एक युवा सांसद काफी नाराज हो गए थे। इन युवा सांसद को राहुल का काफी करीबी माना जाता है। दरअसल, दिग्विजय ने कहा था कि राहुल अलग तरह से राजनीति करना चाहते हैं। हमें उन्हें यह करने देना चाहिए, पर हम चाहेंगे कि वे संसद में ज्यादा एक्टिव हों और लोगों की उन तक आसानी से पहुंच हो। दिग्विजय ने सलाह देते हुए कहा था कि शरद पवार के कहने के मुताबिक ही राहुल को भारत के दौरे पर निकलना चाहिए, क्योंकि यात्राएं लोगों से जुड़ने के लिए अहम होती हैं।

दिग्विजय के इस बयाने के बाद कई अन्य नेताओं ने भी अपनी भावनाएं ट्वीटर पर ही जाहिर करना शुरू कर दिया। लोकसभा सांसद मनिकराम टैगोर ने दिग्विजय को याद दिलाते हुए कहा कि राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह क सामना करने के लिए कई पदयात्राएं की थीं। टैगोर ने आगे कहा, “मुझे लगता है कि जो लोग पार्टी में उच्च पदों पर हैं, वे उनके (राहुल के) साथ खड़े हैं और पीठ पीछे उनकी आलोचना नहीं करते। हम ज्यादा समय विपक्ष में नहीं रहेंगे।” बाद में टैगोर ने यह ट्वीट डिलीट कर लिया था।

इसी पर सुरजेवाला ने कहा कि देश अभी मुश्किल परिस्थितियों से गुजर रहा है और सरकार कोरोना के बढ़ने के बावजूद लापता है। सरकार ने लोगों को अपनी लड़ाई लड़ने के लिए छोड़ दिया है। दूसरी तरफ आर्थिक संकट भी बढ़ता जा रहा है और व्यापार, उद्योग और फैक्ट्रियां बंद हो रही हैं, जिससे लोग अपना रोजगार खो रहे हैं। लोगों को अपनी तनख्वाह में 40 से 50 फीसदी की कटौती का सामना करना पड़ रहा है। वहीं एक ओर चीन है, जो भारत के क्षेत्र पर कब्जा किए बैठा है।

सुरजेवाला ने नेताओं को जिम्मेदारी याद दिलाते हुए कहा कि वरिष्ठ नेताओं के पास जिम्मा है कि वे युवा नेताओं का मार्गदर्शन करें। उनके भविष्य के लिए रास्ता बनाएं। इसलिए मेरा साथियों से अनुरोध है कि वे इस समय मोदी सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ एकजुट हो कर खड़े हों, ताकि सरकार देश को आर्थिक संकट से बाहर निकालने और चीन की हरकतों का जवाब देने लायक नीति तैयार करे। यही असली देशभक्ति होगी।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने डाला महादेव की आरती का VIDEO, लोगों ने कर दिया ट्रोल
2 Ram Mandir भूमि पूजन का 5 अगस्त का अशुभ मुहूर्त टाल दें- PM नरेंद्र मोदी से दिग्विजय सिंह का अनुरोध; MP के मंत्री ने बताया कांग्रेसी नेता को असुर
3 राम मंदिर की तर्ज पर विकसित होगा अयोध्या का रेलवे स्टेशन, 80 करोड़ से बढ़ाकर 104 करोड़ रुपए किया गया बजट
ये पढ़ा क्या?
X