पंजाब में जारी है सियासी फेरबदल, कांग्रेस ने हरीश रावत को हटाकर हरीश चौधरी को बनाया प्रभारी

रावत ने पिछले दिनों कांग्रेस आलाकमान से आग्रह किया था कि उन्हें पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए। उनकी दलील थी कि वह अपने उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।

Punjab, Harish Chaudhary, incharge Punjab, Harish Rawat, Punjab Congress
पंजाब कांग्रेस के नए प्रभारी हरीश चौधरी। (फोटोः ट्विटर@Barmer_Harish)

कांग्रेस ने राजस्थान के कैबिनेट मंत्री हरीश चौधरी को पंजाब और चंडीगढ़ के लिए अपना नया प्रभारी नियुक्त किया है। वह उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत की जगह पंजाब का प्रभार देखेंगे। रावत को आखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के महासचिव एवं प्रभारी पद की जिम्मेदारी से मुक्त किया है। उन्हें कांग्रेस कार्य समिति का सदस्य बनाये रखा गया है।

कांग्रेस के संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की ओर से जारी बयान के मुताबिक पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी ने हरीश चौधरी की नियुक्ति की। वेणुगोपाल ने यह भी कहा कि पार्टी महासचिव के तौर हरीश रावत के योगदान की सराहना करती है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस में पिछले कई महीनों से चल रही उठापटक की पृष्ठभूमि में रावत ने पिछले दिनों कांग्रेस आलाकमान से आग्रह किया था कि उन्हें पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए। उनकी दलील थी कि वह अपने उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं।

सूत्रों का कहना है कि पंजाब में मची उठापटक के चलते यह कदम उठाया गया है। सियासी घमासान से आजिज हरीश रावत ने सार्वजनिक तौर पर नेतृत्व से पंजाब प्रभारी का पद छोड़ने की मांग की थी। उन्होंने यह भी कहा कि जब नवजोत सिंह सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के पद से इस्तीफा दे दिया था तो उसे मंजूर किया जाना चाहिए था। पंजाब को लेकर कांग्रेस नेतृत्व की मुश्किलें कम होने की बजाय बढ़ती जा रही हैं। राज्य के नेताओं के बीच घमासान जारी है। सिद्धू और सीएम चन्नी के बीच का आंकड़ा ठीक नहीं बताया जा रहा है। दोनों के बीच खींचतान बहुत ज्यादा बढ़ चुकी है।

पहले सिद्धू का इस्तीफा और फिर कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी से साफ है कि पंजाब में कांग्रेस की सियासत नित नए आयाम ले रही है। हालांकि, सिद्धू को मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी साधने में जुट गए हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी के नाम चिट्ठी जारी करने के बाद हरीश चौधरी की मध्यस्थता में ही चरणजीत सिंह चन्नी और सिद्धू के बीच बैठक हुई थी, जिसमें दोनों के बीच हरीश चौधरी ने गिले शिकवे दूर कराए।

सिद्धू का कहना है कि हमें पंजाब के हर गंभीर मुद्दों को हल करना है। इन मुद्दों पर यदि काम नहीं किया गया तो चुनाव की राह आसान नहीं होगी। एक तरफ सिद्धू और चन्नी के बीच खींचतान तो दूसरी ओर अमरिंदर सिंह का नई पार्टी का ऐलान कांग्रेस की मुश्किलें बढ़ा रहा है। ऐसे में नए प्रभारी हरीश चौधरी के लिए राहत आसान नहीं दिख रही है। उन्हें कई मोर्चों पर अपनी क्षमता को साबित करना होगा।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

Next Story
पंजाब ने डीजल, कोल्ड ड्रिंक व सिगरेट पर बढ़ाया करपेट्रोल, पेट्रोल की कीमत, पेट्रोल महंगा, डीजल, डीजल की कीमत, डीजल महंगा, पेट्रोल डीजल, पेट्रोल डीजल महंगा, petrol price, petrol price news, petrol price hike, petrol price hike latest news, petrol price in delhi, diesel price, diesel price hike, diesel price news, diesel price hike latest news, diesel price hike news, diesel price in delhi
अपडेट