ताज़ा खबर
 

आतंकियों के मददगार DSP पर बोले अधीर रंजन चौधरी- सिंह के बजाय देविंदर खान होते तो RSS…BJP ने यूं दिया जवाब

अधीर रंजन चौधरी ने देविंदर सिंह की गिरफ्तारी के बाद पुलवामा हमले का भी जिक्र किया। उन्होंने लिखा कि "अब सवाल उठेंगे ही कि पुलवामा हमले के पीछे साजिशकर्ता कौन थे? नए सिरे से इसकी जांच होनी चाहिए।"

Author Edited By नितिन गौतम नई दिल्ली | Updated: January 14, 2020 6:26 PM
जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी की गिरफ्तारी।

जम्मू कश्मीर पुलिस के डीएसपी देविंदर सिंह के आंतकी कनेक्शन में फंसने के बाद विपक्षी पार्टियों ने इस मामले को लेकर सरकार पर निशाना साधा है। कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी इस मामले में कुछ ट्वीट कर गंभीर सवाल उठाए हैं। कांग्रेस नेता ने अपने एक ट्वीट में लिखा कि “क्या होता अगर देविंदर सिंह देविंदर खान होता तो आरएसएस की ट्रोल रेजीमेंट की प्रतिक्रिया और ज्यादा स्पष्ट और मुखर होती। हमारे देश के दुश्मनों की रंग, पंथ और धर्म को देखे बिना निंदा की जानी चाहिए।”

चौधरी ने कहा कि आरएसएस-भाजपा देश में सांप्रदायिक सद्भाव बिगाड़ने की कोशिश कर रही हैं। कांग्रेस नेता ने अपने दूसरे ट्वीट में कहा कि “घाटी में हमारी सुरक्षा में चूक उजागर हो गई है। हम थोड़े बुद्धिमान और ज्यादा बेवकूफ होना वहन नहीं कर सकते।” अधीर रंजन चौधरी ने देविंदर सिंह की गिरफ्तारी के बाद पुलवामा हमले का भी जिक्र किया। उन्होंने लिखा कि “अब सवाल उठेंगे ही कि पुलवामा हमले के पीछे साजिशकर्ता कौन थे? नए सिरे से इसकी जांच होनी चाहिए।”

अधीर रंजन चौधरी के अलावा कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने भी डीएसपी की गिरफ्तारी को लेकर सवाल उठाए और ट्वीट करते हुए लिखा कि “देविंदर सिंह कौन है? 2001 के संसद हमले में उसकी क्या भूमिका है? पुलवामा हमले में उसकी क्या भूमिका है? क्या वह हिजबुल के आतंकियों को अपनी मर्जी से लेकर जा रहा था, या फिर वह सिर्फ एक मोहरा है और मुख्य साजिशकर्ता कोई और ही है? रणदीप सुरजेवाला ने इसे एक बड़ी साजिश करार दिया।”

वहीं कांग्रेस नेताओं के इस हमले पर भाजपा ने जवाब दिया है। पार्टी ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर शायराना अंदाज में एक ट्वीट किया है, जिसमें भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा के हवाले से लिखा गया है कि “रोज सहलाते हैं पाकिस्तान की पीठ को, खंजर भोंकते हैं, हिंदुस्तान की पीठ पर, फिर कहते हैं, हमें देशद्रोही न कहो, तुम पर छोड़ते हैं हम, बताओ इनको क्या कहें?”

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X
Next Stories
1 आंध्र प्रदेश में ANI को मिली बड़ी कामयाबी, टमाटर लदे ट्रक में छिपकर भाग रहे ISI के संदिग्ध एजेंट को किया गिरफ्तार
2 Allahabad: HC के आदेश के बावजूद 4 साल बाद भी नहीं लग पाई तेजाब की बिक्री पर रोक, कोर्ट ने मांगा सरकार से जवाब
3 UP के 21 जिलों में रह रहे हैं 32 हजार शरणार्थी, NGO रिपोर्ट पर BJP मंत्री ने किया दावा
ये पढ़ा क्या?
X