ताज़ा खबर
 

अधीर के बयान पर कांग्रेस सदस्यों और स्मृति के बीच नोकझोंक

भोजनावकाश के बाद सदन की कार्यवाही आरंभ होने के बाद सरकार ने प्रतापन एवं कुरियाकोस से माफी की मांग की जिस पर पीठासीन अध्यक्ष मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी से उनकी पार्टी के दोनों सदस्यों में बुलाने और माफी मंगवाने के लिए कहा।

smriti iraniकेंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी फोटो- इंडियन एक्सप्रेस

मनोज मिश्र

उन्नाव में बलात्कार पीड़िता को जलाए जाने की घटना पर चर्चा के दौरान शुक्रवार को लोकसभा में कांग्रेस के कुछ सदस्यों और केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के बीच तीखी नोंकझोक हो गई । सत्ता पक्ष के सदस्यों ने कांग्रेस के दो सदस्यों टीएन प्रतापन एवं डीन कुरियाकोस के माफी मांगने की मांग की। इस विवाद के कारण पहले दो बाद सदन की कारवाई स्थगित करनी पड़ी लेकिन विवाद थमता न देख दोपहर बाद ढाई बजे दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई।

लोकसभा में इस नोकझोंक की शुरुआत उस वक्त हुई जब शून्यकाल के दौरान कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी ने उन्नाव की घटना का उल्लेख करते हुए कहा कि आज हम एक तरफ राम मंदिर बनाने वाले हैं दूसरी तरफ देश में ‘सीताएं जलाई जा रही हैं।’ वे अपनी बात कह कर सदन से कुछ समय के लिए चले गए और भोजन अवकाश के बाद दोबारा किसानों के मुद्दे पर होने वाली चर्चा के लिए सदन में आए। इस पर पलटवार करते हुए महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा कि बलात्कार जैसी घटनाओं पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। इसके बाद स्मृति और कांग्रेस के कुछ सदस्यों के बीच तीखी नोकझोंक हो गई और कांग्रेस के सदस्य को आक्रामक तेवर में आसन की ओर बढ़ते देखा गया। स्मृति ने भी उसी तेवर में जबाब दिया। बाद में भाजपा के अन्य सदस्य उनके पक्ष में खड़े हो गए।

लोकसभा के घटनाक्रम पर स्मृति ईरानी ने संसद भवन परिसर में संवाददाताओं से कहा, ‘बांह चढ़ाकर मारने की भावमुद्रा के साथ एक पुरुष सांसद मेरी तरफ आए, जिसके बाद एक युवा सांसद ने कहा कि मैं बोली ही क्यों… मैं इससे स्तब्ध हूं।’ उन्होंने कहा, ‘मैं भाजपा की कार्यकर्ता हूं। मैं देखना चाहूंगी कि सदन में सोमवार को महिला के पक्ष में बोलने की विपक्ष मुझे और क्या सजा देने वाला है।’ यह पूछे जाने पर कि कांग्रेस के दो सांसदों को माफी मांगनी चाहिए या उन्हें निलंबित किया जाना चाहित तो स्मृति ने कहा, ‘संसद में खड़ा होकर मैं मारूंगा का पोज लेता है, बांह चढ़ाकर मारने के लिए आता है तो उसके खिलाफ क्या करना चाहिए?’

भोजनावकाश के बाद सदन की कार्यवाही आरंभ होने के बाद सरकार ने प्रतापन एवं कुरियाकोस से माफी की मांग की जिस पर पीठासीन अध्यक्ष मीनाक्षी लेखी ने कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी से उनकी पार्टी के दोनों सदस्यों में बुलाने और माफी मंगवाने के लिए कहा। इसके बाद उन्होंने कार्यवाही दोपहर ढाई बजे तक के लिए स्थगित कर दी। संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा कि टीएन प्रतापन और कुरियाकोस सदन की एक महिला सदस्य (स्मृति) के साथ धमकी भरे रुख के साथ पेश आए। उनका आचरण निंदनीय है। दोनों सदस्यों को बिना शर्त माफी मांगनी चाहिए। चौधरी ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है क्योंकि वे उस वक्त सदन में मौजूद नहीं थे।

इसके बाद पीठासीन अध्यक्ष मीनाक्षी लेखी ने चौधरी से कहा कि वे अपने दोनों सदस्यों को बुलाएं और माफी मांगने के लिए कहें। उन्होंने दोपहर करीब 1:40 बजे कार्यवाही ढाई बजे तक के लिए स्थगित कर दी। ढाई बजे भी भाजपा सदस्यों की उसी मांग के कारण सदन दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई। इससे पहले, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा कि गंभीर टिप्पणी का जवाब गंभीर टिप्पणी से दिया जा सकता है, लेकिन सदस्य आसन की ओर नहीं बढ़ सकते। स्मृति ईरानी के बयान के दौरान ही कांग्रेस के टीएन प्रतापन एवं कुछ सदस्य विरोध करते हुए अपनी सीट से उठकर आसन की ओर बढ़ने लगे। इस पर स्मृति ने कहा कि उन्हें इस सदन का सदस्य होने के नाते अपनी बात रखने का अधिकार है। राकांपा की सुप्रिया सुले एवं कुछ अन्य सदस्यों को उत्तेजित कांग्रेस के सदस्यों को बैठाने का प्रयास किया, वहीं केंद्रीय मंत्रियों प्रह्लाद जोशी,अर्जुन राम मेघवाल एवं प्रहलाद पटेल ने स्मृति ईरानी को बैठने का आग्रह किया।

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 जिंदगी की जंग हार गई उन्नाव गैंगरेप पीड़िता, दिल्ली के अस्पताल में ली आखिरी सांस
2 VIDEO: बीच में बोले पैनलिस्ट तो भड़कीं एंकर, कहा- रखें जेब में हैंडकफ, बच्ची को आग लगा दी गई तब कहा थे?
3 Indian Railways की कार्रवाईः वक्त से पहले ही 32 अधिकारियों को कर दिया रिटायर, दिया ये कारण
IPL 2020 LIVE
X