ताज़ा खबर
 

अमेरिकी संसद पर प्रदर्शन के दौरान तिरंगा लहराने वाले शख्स के खिलाफ केस दर्ज

कालकाजी थाने में विसेंट जेवियर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने वाले दीपक गुप्ता नाम के शख्स ने कहा कि हमने फेसबुक और ट्विटर से उसके अकाउंट को बंद करने का आग्रह किया है।  साथ ही भारत सरकार से भी इस मामले में कड़ी कारवाई की भी मांग की गयी है।

capitol hill , usa , trumpकैपिटल हिल में जबरन घुसे ट्रम्प समर्थक (फोटो क्रेडिट – रॉयटर्स)

दिल्ली के कालकाजी थाने में अमेरिकी संसद पर हुए उपद्रव के दौरान तिरंगा लहराने वाले शख्स के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है। तिरंगा लहराने वाले शख्स का नाम विसेंट जेवियर है जो अमेरिका में रहने वाला भारतीय मूल का नागरिक है।  विसेंट जेवियर अमेरिकी संसद कैपिटल हिल के बाहर मौजूद हज़ारों लोगों की उन्मादी भीड़ में शामिल था और डोनाल्ड ट्रंप के समर्थन में नारेबाज़ी कर रहा था।

कालकाजी थाने में विसेंट जेवियर के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने वाले दीपक गुप्ता नाम के शख्स ने कहा कि हमने फेसबुक और ट्विटर से उसके अकाउंट को बंद करने का आग्रह किया है।  साथ ही भारत सरकार से भी इस मामले में कड़ी कारवाई की भी मांग की गयी है।  

हिंसक भीड़ में तिरंगा लहराने वाले शख्स ने इस मामले में सफाई देते हुए अपने फेसबुक पोस्ट पर लिखा था कि वे किसी भी तरह की हिंसा में शामिल नहीं थे।  बल्कि वे वहां राष्ट्रपति चुनाव में हुई धोखाधड़ी के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में शामिल होने गए थे। इसके अलावा विसेंट ने अपने फेसबुक पेज पर लिखा था कि उन्हें ट्रम्प की रैलियों में खूब मजा आता है। केरल से आ रही मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार विसेंट कोच्चि का रहने वाला है। 

विसेंट के द्वारा कैपिटल हिल पर तिरंगा लहराए जाने को लेकर भाजपा नेता वरुण गाँधी और कांग्रेस नेता शशि थरूर के बीच जमकर ट्विटर वार हुआ। वरुण गाँधी ने ट्विटर पर लिखा कि वहां पर भारतीय झंडा क्यों है , यह एक ऐसी लड़ाई है जिसका भारत कभी हिस्सा नहीं बनना चाहता है। वरुण गाँधी के इस ट्वीट पर शशि थरूर ने जवाब देते हुए लिखा कि कुछ भारतीय भी डोनाल्ड ट्रम्प के समर्थकों के तरह की मानसिकता वाले हैं जो तिरंगे को एक हथियार की तरह इस्तेमाल करते हैं।  जिनके विचार उनसे मेल नहीं खाते हैं उसे देशद्रोही करार देते हैं. कैपिटल हिल पर तिरंगे का दिखना हम सब के लिए एक चेतावनी की तरह है।

आपको बता दूँ कि इसी हफ्ते ट्रंप समर्थकों ने अमेरिकी संसद कैपिटल हिल पर हमला कर दिया था।  ट्रंप समर्थकों ने इस दौरान कई कमरों पर कब्ज़ा भी कर लिया था जिसमें स्पीकर नैंसी पेलोसी का कमरा भी था। इस पूरे घटनाक्रम की तस्वीरों में कैपिटल में घुस आए ट्रंप समर्थकों को पेलोसी के कमरे और अन्य कक्षों में कब्जा जमाते, तस्वीरें खिंचवाते और सामान उठा कर ले जाते हुए देखा जा सकता है।  हालांकि बाद में पुलिस और सुरक्षाकर्मियों ने कैपिटल हिल और सांसदों को सुरक्षित करने के लिए गोली भी चलाई।  जिसमें अभी तक कम से कम चार लोगों के मारे जाने की पुष्टि हुई है।  वॉशिंगटन पुलिस के अनुसार एक महिला की पुलिस की गोली लगने से मौत हो गई साथ ही तीन और की मौत मेडिकल इमरजेंसी की वजह से हुई।  अब तक आई मीडिया रिपोर्टों के अनुसार इस मामले में अभी तक कुल 52 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Next Stories
1 कोरोना के बीच पैर पसार रहा Bird Flu! 800 मुर्गियों की मौत के बाद महाराष्ट्र 8वां प्रभावित सूबा, दिल्ली भी शिकार
2 Kerala Karunya Lottery KR 481 Today Results: लाखों का इनाम घोषित, यहां चेक करें आपकी लॉटरी लगी या नहीं?
3 कांग्रेस में बढ़ी कलह! पंचायत चुनाव से पहले झटका, रायबरेली के 35 नेताओं ने सोनिया को भेजा इस्तीफा
ये पढ़ा क्या?
X