ताज़ा खबर
 

अरुणाचल गवर्नर राजखोवा का आरोप- मत्रियों ने गालियां दी, मारपीट की, राजभवन को जलाने की धमकी दी

राजखोवा ने दावा किया कि, जब प्रदर्शनकारियों ने राजभवपन के दरवाजे के बाहर एक मिथुन की कुर्बानी दी तो मंत्री भी उसमें शामिल हो गए।

Author नई दिल्‍ली | January 28, 2016 11:43 AM
अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल ज्‍योति प्रसाद राजखोवा।

अरुणाचल प्रदेश के राज्‍यपाल ज्‍योति प्रसाद राजखोवा ने केन्‍द्र को भेजी रिपोर्ट में तत्‍कालीन सीएम नबाम टुकी पर साम्‍प्रदायिक राजनीति का आरोप लगाया है। उन्‍होंने टुकी पर नयिसी आदिवासियों को भड़काने और सार्वजनिक प्रदर्शनों के लिए पैसे देने का आरोप भी लगाते हुए रिपोर्ट में कहा कि, उन्‍हें और उनके परिवार को खतरा है। उनका आरोप है कि कुछ मंत्रियों ने मारपीट की, गालियां दी और धमकी दी।

Read Also: राष्‍ट्रपति शासन के लिए गवर्नर ने ‘गोहत्‍या’ को बताया धराशायी होती कानून-व्यवस्‍था का प्रतीक, रिपोर्ट में लगाईं फोटोज

सूत्रों का कहना है कि राज्‍यपाल ने रिपोर्ट में राज भवन के लगातार घेराव और इसे जलाने की धमकी की ओर भी इशारा किया। राजखोवा ने दावा किया कि, जब प्रदर्शनकारियों ने राजभवपन के दरवाजे के बाहर एक मिथुन की कुर्बानी दी तो मंत्री भी उसमें शामिल हो गए। उन्‍होंने कहा कि जब राज्‍यपाल ऐसे हालातों में रह रहा हो तो एक आम आदमी कैसे सुरक्षित महसूस करेगा। उन्‍होंने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि, कई महीनों तक कानून व्‍यवस्‍था के पूरी तरह चरमरा जाने के पहले तक अल्‍पमत की सरकार राज्‍य को चला रही थी। उनका दावा है किे टुकी और उन के मंत्रियों ने सार्वजनिक मंच और प्रेस के जरिए इसकी निंदा नहीं करने दी।

Read Alsoअरुणाचल प्रदेश में राष्ट्रपति शासन: सुप्रीम कोर्ट ने केन्‍द्र सरकार को नोटिस दिया, 2 दिन में जवाब देने को कहा

सूत्रों के अनुसार राज्‍यपाल की रिपोर्ट में दावा किया गया कि उन्‍हें विकास विरोधी, आदिवासी विरोधी बुलाया गया और प्रदर्शनों के दौरान उनके असम से होने की बात को उठाया जाता। तीन विपक्षी विधायकों ने कहा कि उन पर टुकी का समर्थन करने के लिए एनएससीएन(के) ने दबाव डाला। उन्‍होंने आरोप लगाया कि ए‍क विधायक के रिश्‍तेदार का अपहरण कर लिया गया और एनएससीएन(के) का एक सदस्‍य उसे म्‍यांमार ले गया। इस मामले में एफआईआर भी दर्ज कराई गई लेकिन ठीक तरह से जांच नहीं हुई।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App