ताज़ा खबर
 

मोदी सरकार पर बोले बिल गेट्स, ‘काबिल नहीं मगर कुछ कमाल की चीजें जरूर हुई हैं’

बिल गेट्स का मानना है कि भारत सरकार को पोषण और स्वास्थ्य को लेकर और भी ज्यादा गंभीर होने की जरूरत है। उ

Author November 20, 2017 4:02 PM
माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स (एपी फाइल फोटो)

माइक्रोसॉफ्ट के सह संस्थापक और दुनिया के सबसे अमीर व्यक्तियों में शुमार बिल गेट्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार को लेकर बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा है कि भारत सरकार काबिल नहीं है, लेकिन कुछ कमाल की चीजें जरूर हुई हैं। यह बात बिल गेट्स ने उनकी पहल ‘गिविंग प्लेज’ से इन्फोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणि और उनकी पत्नी रोहिणी के जुड़ने के बाद इकॉनोमिक टाइम्स से की गई बातचीत में कही। गेट्स से जब भारत सरकार से जुड़ा हुआ सवाल किया गया तब उन्होंने कहा, ‘यहां ग्लास का आधा भरा और आधा खाली होने वाली बात है। मैंने ज्यादातर लोगों को यह कहते सुना कि सरकार कुछ नहीं करती। क्या आपको पता है कि बाल मृत्यु दर पिछले 10 सालों में आधी हो गई है। ‘भारत सरकार कुछ नहीं कर सकती’ वाले मोड में चले जाना आसान है। भारत सरकार काबिल नहीं है, लेकिन कुछ कमाल की चीजें जरूर हुई हैं। हमें एक परिप्रेक्ष्य रखने की जरूरत है… मुझे आश्चर्य हुआ था जब मैंने ये देखा कि यहां के लोग सरकार को लेकर मेरे से ज्यादा नकारात्मक थे।’

बिल गेट्स का मानना है कि भारत सरकार को पोषण और स्वास्थ्य को लेकर और भी ज्यादा गंभीर होने की जरूरत है। उन्होंने कहा, ‘ये कुछ ऐसे सपने हैं जो जल्दी पूरे नहीं किए जा सकते हैं। भारत का आर्थिक भविष्य बहुत ही शानदार होगा, लेकिन क्या ये उतनी जल्दी होगा जितनी जल्दी इसे होना चाहिए। लोगों को इस बात का एहसास नहीं होगा, लेकिन खराब पोषण के कारण बच्चों के दिमाग का विकास सही तरीके से नहीं हो पाता और मैं इस परेशानी पर प्रकाश डालना चाहता हूं। मैं ये कहूंगा कि भारत सरकार पोषण और स्वच्छता को लेकर गंभीर है। कौन सी सरकार टॉयलेट की व्यवस्था नहीं होने पर बात करती है। इसलिए यहां ग्लास आधा भरा है आधा खाली नहीं।’

क्या है ‘गिविंग प्लेज’?
गिविंग प्लेज बिल गेट्स और अमेरिकी निवेशक वॉरेन बफे द्वारा शुरू की गई एक पहल है, जो दुनिया के अमीर लोगों को परोपकार करने का मौका देती है। 6 साल पहले इसकी शुरुआत हुई थी। इसमें साइन करने वाले लोगों को अपने जीते जी या अपनी वसीयत के द्वारा अपनी कुल संपत्ति का आधा हिस्सा परोपकार के लिए दान करना होता है। आपको बता दें कि गिविंग प्लेज पर अभी तक कुल 171 लोगों ने दस्तखत किया है। भारत में नंदन नीलेकणि और उनकी पत्नी रोहिणी के पहले विप्रो के चेयरमैन अजीम प्रेमजी, शोभा डिवेलपर्स के प्रमोटर पी एन सी मेनन और बायोकॉन की किरण मजूमदार शॉ इसे साइन कर चुके हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ लिंक्डइन पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App

X