CMIE का दावा, सुधर रहे हालात, सितंबर में रोजगार में 85 लाख की हुई वृद्धि

बेरोजगारी के आंकड़े जारी करने वाली संस्था सीएमआईई के एमडी और सीईओ महेश व्यास ने अपने विश्लेषण में कहा है कि सितंबर महीने के दौरान नौकरियों में 85 लाख की वृद्धि हुई।

सीएमआईई केअनुसार सितंबर महीने के दौरान नौकरियों में 85 लाख की वृद्धि हुई। (फाइनेंसियल एक्सप्रेस फाइल फोटो)

CMIE ने दावा किया है कि कोरोना के बाद अब रोजगार के क्षेत्र में भी सुधार हो रहा है। सीएमआईई के अनुसार सितंबर माह में रोजगार में 85 लाख की वृद्धि हुई है। इतना ही नहीं पिछले महीने के दौरान बेरोजगारी दर भी 8.3% से घटकर 6.9% हो गई है। इस दौरान वेतनभोगी नौकरियों की संख्या भी बढ़ी है।  

बेरोजगारी के आंकड़े जारी करने वाली संस्था सीएमआईई के एमडी और सीईओ महेश व्यास ने अपने विश्लेषण में कहा है कि सितंबर महीने के दौरान नौकरियों में 85 लाख की वृद्धि हुई। बेरोजगारी दर अगस्त के 8.3 प्रतिशत से घटकर सितंबर में 6.9 प्रतिशत रह गई, जो 20 महीनों में या मार्च 2020 में कोविड-19 के प्रकोप के बाद से सबसे अधिक है। श्रम भागीदारी दर भी 40.5 प्रतिशत से बढ़कर 40.7 प्रतिशत हो गई और रोजगार दर 37.2 प्रतिशत से बढ़कर 37.9 प्रतिशत हो गई।

विश्लेषण में कहा गया है कि सितंबर में रोजगार में वृद्धि की सबसे अच्छी बात वेतनभोगी नौकरियों में वृद्धि रही। इनमें 69 लाख की वृद्धि हुई है। वेतनभोगी नौकरियों में रोजगार सितंबर में बढ़कर 8.41 करोड़ हो गया, जो अगस्त में 7.71 करोड़ था। सभी प्रमुख व्यवसाय समूहों में, वेतनभोगी नौकरियों में सबसे बड़ी वृद्धि देखी गई। सितंबर में यह बड़ी छलांग वेतनभोगी नौकरियों को 2019-20 के उनके औसत के सबसे करीब लाती है, जो कि 8.67 करोड़ थी।

हालांकि पिछले दिनों सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) ने ही कहा था कि देश के कुल 181 लाख नौकरियों में से लगभग 59 लाख मई और अगस्त 2020 के बीच चार महीनों के लॉकडाउन में खत्म हो गई थी। साथ ही इसी संस्था ने कहा था कि इस साल मई में 11.9 प्रतिशत मासिक बेरोजगारी दर थी। इसमें शहरी क्षेत्रों में 14.73 प्रतिशत और ग्रामीण क्षेत्रों में 10.63 प्रतिशत बेरोजगारी रही।

पिछले दिनों श्रम मंत्रालय ने भी तिमाही रोजगार सर्वेक्षण के आंकड़े जारी किए थे। जिसमें दावा किया गया था कि 2021-22 के अप्रैल-जून तिमाही के दौरान 3.08 करोड़ लोगों को इन क्षेत्रों में रोजगार मिला। सर्वेक्षण में मैन्युफैक्चरिंग, कंस्ट्रक्शन, व्यापार, परिवहन, शिक्षा, स्वास्थ्य, आवास और होटल, आईटी, बीपीओ और फाइनेंशियल सेवाओं के नौ क्षेत्रों को शामिल किया गया।

पढें राष्ट्रीय समाचार (National News). हिंदी समाचार (Hindi News) के लिए डाउनलोड करें Hindi News App. ताजा खबरों (Latest News) के लिए फेसबुक ट्विटर टेलीग्राम पर जुड़ें।

अपडेट