ताज़ा खबर
 

मोबाइल नेटवर्क नहीं मिला तो 50 फुट ऊंचे झूले पर जा बैठे CM शिवराज के मंत्री, देखिए वीडियो

ब्रजेंद्र मूंगावली विधानसभा के विधायक हैं। क्षेत्र में मोबाइल नेटवर्क की बहुत दिक्कत हो रही है। यहीं कारण है कि मंत्री रोजाना 2 घंटे 50 फीट ऊंचे झूले पर बिताते हैं, ताकि वो लोगों की परेशानियों को सुनकर उन्हे सुलझा सकें।

mp news, brijendra singh yadav, mp cabinet minister, CM Shivraj Singh Chauhanशिवराज सरकार के मंत्री ब्रजेंद्र सिंह यादव (फोटो सोर्सःस्क्रीन शॉट ट्विटर वीडियो/@JournalistVipin)

MP की अजब तस्वीर सामने आई है। जनसमस्याएं हल करवाने के लिए शिवराज सरकार के मंत्री ब्रजेंद्र सिंह यादव को मोबाइल नेटवर्क नहीं मिलने के चलते 50 फुट ऊंचे झूले का सहारा लेना पड़ रहा है। बृजेंद्र सिंह यादव का कहना है कि मोबाइल नेटवर्क की दिक्कत के कारण हमें फोन पर बात करने के लिए झूला झूलना पड़ता है।

ब्रजेंद्र सिंह यादव मूंगावली विधानसभा के विधायक हैं और राज्य के मंत्री भी। उन्होंने जनसेवा की एक नई मिसाल पेश की है। प्रदेश सरकार के ये मंत्री आजकल सिर्फ इसलिए 2 घंटे जमीन से 50 फुट ऊपर बिता रहे हैं, क्योंकि क्षेत्र की जनता बेहद परेशान हैं और क्षेत्र में मोबाइल नेटवर्क की बहुत दिक्कत हो रही है। यहीं कारण है कि मंत्री रोजाना 2 घंटे 50 फुट ऊंचे झूले पर बिताते हैं, ताकि वो लोगों की परेशानियों को सुनकर उन्हे सुलझा सकें।

बृजेंद्र सिंह यादव का कहना है कि उनके गांव सुरेल के पास धार्मिक क्षेत्र आम खो में एक कथा का आयोजन किया गया था। इस कथा में वह खुद यजमान हैं। इस वजह से उनको 9 दिन यहीं रुकना पड़ रहा है। लेकिन गांव में उनको मोबाइल के सिगनल ही नहीं मिल रहे।

जनता की समस्या का समाधान करने के लिए ऐसी स्थिति में मंत्री मोबाइल पर बात करने के लिए पास में लगे एक झूले पर चढ़ते हैं, जिसकी ऊंचाई करीब 50 फुट है। इसी पर बैठकर वह मोबाइल से लोगों और अधिकारियों से बात करते हैं। उनका कहना है कि वह जान को जोखिम में डालकर लोगों का काम कर रहे हैं।

मंत्री जी के इस करतब पर सोशल मीडिया पर लोगों ने अपने विचार रखे। एक यूजर का कहना था कि जनप्रतिनिधि होने के नाते अपने क्षेत्र के लोगों की परेशानियों को सुनकर उनको सुलझाना एक अच्छे नेता की पहचान है और ऐसा ही ब्रजेंद्र सिंह यादव भी कर रहे हैं। लेकिन चुनाव के समय विकास के वादों को गिनाने वाले जनप्रतिनिधियो के लिए एक बड़ा सवाल भी है कि आखिर क्यों सहज तरीके से मिलने वाला मोबाइल सिगनल उस क्षेत्र की जनता को नहीं मिल पा रहा है।

Next Stories
1 Farmers protest: अपने ही बयान से पलटे राकेश टिकैत, अब किसानों से की ये अपील…
2 राज्यपाल केंद्र के प्रवक्ता नहीं होते, बंगाल के गवर्नर को एंकर की दो टूक; न-न करने लगे जगदीप धनखड़
3 मैट्रिक की परीक्षा देने गई छात्रा, प्रेमी को देखते ही तुरंत रचा ली शादी, खूब हुआ बवाल
यह पढ़ा क्या?
X