ताज़ा खबर
 

राज्यसभा उपसभापति चुनाव: जुड़ने लगे संपर्कों के तार, नीतीश ने ओडिशा सीएम को हरिवंश के लिए किया फोन

हरिवंश ने राज्यसभा के नेता थावरचंद गहलोत और राजग के सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल के नेता नरेश गुजराल की मौजूदगी में नामांकन पत्र दायर किया। संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू होगा और 1 अक्तूबर तक चलेगा।

Nitish Kumar, Naveen Patnaik,राज्यसभा उपसभापति चुनाव के लिए सीएम नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री नवीन पटनायक से बातचीत की। (फाइल फोटो)

जनता दल यूनाइटेड के सांसद हरिवंश ने बुधवार को राज्यसभा के उपसभापति पद के लिये भाजपा नीत राजग के उम्मीदवार के रूप में बुधवार को नामांकन पत्र भरा। राज्यसभा के चुनावी रण में उतरने के बाद  संपर्कों के तार जुड़ने लगे हैं। इसी कड़ी में  बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने ओडिशा के सीएम नवीन पटनयाक को फोन कर समर्थन की मांग की।

हरिवंश के इस बार भी निर्वाचित होने की संभावना है क्योंकि भाजपा के, सदन के प्रबंधकों को 140 सांसदों का समर्थन जुटाने का भरोसा है जिसमें वाईएसआर कांग्रेस, टीआरएस, बीजद शामिल हैं। गौरतलब है कि 245 सदस्यों वाले सदन में भाजपा नीत राजग के सदस्यों की संख्या 113 हो गई। वहीं, राजग के सदन प्रबंधक हरिवंश को सर्वसम्मति से चुने जाने के उद्देश्य से सभी दलों के साथ सहमति बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

बता दें कि हरिवंश ने राज्यसभा के नेता थावरचंद गहलोत और राजग के सहयोगी दल शिरोमणि अकाली दल के नेता नरेश गुजराल की मौजूदगी में नामांकन पत्र दायर किया। संसद का मानसून सत्र 14 सितंबर से शुरू होगा और 1 अक्तूबर तक चलेगा। राज्यसभा के उपसभापति का चुनाव संसद सत्र के पहले दिन होने की संभावना है।

नामांकन पत्र भरने की प्रक्रिया 7 सितंबर से शुरू हुई है ओर 11 सितंबर को समाप्त होगी। उपसभापति के चुनाव की जरूरत इसलिये हुई क्योंकि निवर्तमान हरिवंश का राज्यसभा के सदस्य के रूप में कार्यकाल इस वर्ष समाप्त हो गया। वर्ष 2018 में उन्होंने कांग्रेस के बी के हरिप्रसाद को पराजित किया था और उपसभापति चुने गए थे।

 

Hindi News के लिए हमारे साथ फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन, टेलीग्राम पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News AppOnline game में रुचि है तो यहां क्‍लिक कर सकते हैं।

Next Stories
1 नीरव मोदी के पक्ष में गवाही देंगे पूर्व सुप्रीम कोर्ट जज मार्कंडेय काटजू, कहा- भारत में नहीं मिलेगा न्याय
2 थाने पहुंच दो लड़कियां कहने लगीं- हम एक दूसरे के बिना नहीं रह सकतीं, सुरक्षा दो; जालंधर कोर्ट में शादी करने का दिया हवाला
3 मीडिया को नहीं है बोलने की आज़ादी का मंत्र जपने का हक: मार्कण्‍डेय काटजू
राशिफल
X