cm jayalalitha passes away - Jansatta
ताज़ा खबर
 

मौत से 74 दिन लड़ीं जयललिता, 68 साल की उम्र में निधन

68 वर्ष की जयललिता को रविवार को अचानक दिल का दौरा पड़ा था।

तमिलनाडु की पूर्व सीएम जयललिता (फाइल फोटो)

तमिलनाडु की मुख्‍यमंत्री जे जयललिता के निधन की घोषणा हो गई है। सोमवार देर रात पार्टी  ने उनकी निधन की आधिकारिक घोषणा कर दी है। राज्य में तीन दिन के शोक की घोषणा की कर दी गई है। तीन दिन तक राज्य में स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे।  68 वर्ष की जयललिता को रविवार को अचानक दिल का दौरा पड़ा था। अस्‍पताल की एक्‍जीक्‍यूटिव डायरेक्‍टर संगीता रेड्डी ने कहा है कि ‘अपोलो और एम्‍स के डॉक्‍टर्स की एक बड़ी टीम सभी जीवनरक्षक उपाय कर रही है।’ इसके बाद सोमवार दोपहर के समय कुछ तमिल टीवी चैनलों ने जयललिता की मौत की खबर चलाई थी, जिसका अस्‍पताल ने खंडन किया है। अस्‍पताल के बाहर उनके हजारों समर्थक इकट्ठे हो रखे हैं। हालांकि बाद में देर रात करीब 12 बजे इस बात की पुष्टि कर दी गई।

बुखार एवं निर्जलीकरण की शिकायत के चलते जयललिता को 22 सितंबर को अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। करीब 74 दिन तक जयललिता मौत से लड़ती रही। कुछ दिन पहले अपोलो हॉस्पिटल्स के चेयरमैन प्रताप सी रेड्डी ने कहा था कि तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे जयललिता ‘‘पूरी तरह स्वस्थ हो गई हैं।’’ अस्‍पताल की ओर से चार दिसंबर को जारी बुलेटिन में कहा गया, ”कार्डियोलॉजिस्‍ट, पल्‍मोनोलॉजिस्‍ट और क्रिटिकल केयर स्‍पेशलिस्‍ट्स उनका ट्रीटमेंट और मॉनिटरिंग कर रहे हैं। वह एक्‍स्‍ट्राकार्पोरियल मेमब्रेन हर्ट असिस्‍ट डिवाइस पर हैं। लंदन से डॉक्‍टर रिचर्ड बैली से भी परामर्श लिया गया है।” पुलिस ने अब संभावित शोक को देखते हुए इंतजाम कर लिए हैं। हॉस्पिटल जाने वाले सारे रास्ते बंद कर दिए गए। प्रधानमंत्री मोदी ने भी ट्वीट करके दुख प्रकट किया है।

जयललिता 1982 में एआईएडीएमके की सदस्य बनकर राजनीति में आईं। 1983 में उन्हें पार्टी के प्रचार विभाग का सचिव बनाया गया। 1984 में एमजीआर ने उन्हें राज्य सभा का सांसद बनाया। हालांकि कुछ समय बाद ही एमजीआर से उनके मतभेद शुरू हो गए। जब 1987 में एमजीआर का देहांत हुआ तो पार्टी में विरासत की जंग छिड़ गई। पार्टी का एक धड़ा एमजीआर की पत्नी जानकी रामचंद्रन के साथ था तो दूसरा धड़ा जयललिता के साथ। इसके बाद से जयललिता तमिलनाडु की राजनीति के केंद्र में रही। 2016 में दूसरी बार विधानसभा का चुनाव जीतनी वाली वो एमजीआर के बाद दूसरी नेता बनी।

पढ़ें सीएम जयललिता को अस्पताल में भर्ती होने से अब तक का ब्योरा-

22 सिंतबर- को तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को बुखार और निर्जलीकरण की शिकायत पर
चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया।

24 सितंबर- अस्पताल ने कहा कि सीएम जयललिता “सामान्य आहार” ले रही हैं।

29 सितंबर- अस्पताल की मेडिकल बुलेटिन में कहा गया कि उन पर उपचार असर कर रहा है और उन्हें स्वस्थ होने में कुछ दिन लगेंगे।

एक अक्टूबर- एआईएडीएमके ने अफवाहों का खंडन करते हुए कहा सीएम जयललिता स्वस्थ हैं और अपना आधिकारिक दायित्व निभा रही हैं।

दो अक्टूबर- लंदन स्थित फेफड़ों के विशेषज्ञ डॉक्टर रिचर्ड बिएल से राय ली गई।

छह अक्टूबर- अखिल भारतीय आयर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के विशेषज्ञ इलाज के लिए चेन्नई पहुंचे।

तीन नवंबर- अपोलो अस्पताल ने कहा कि जयललिता पूरी तरह स्वस्थ हो चुकी हैं।

13 नवंबर- जयललिता के हस्ताक्षर वाले एक पत्र में कहा गया कि वो जल्द कामकाज दोबारा संभालना चाहती हैं।

19 नवंबर- जयललिता को गहन चिकित्सा कक्ष (आईसीयू) में स्थानांतरित किया गया।

4 दिसंबर- एआईएडीएमके ने कहा कि जयललिता जल्द ही घर वापस आएंगी लेकिन शाम को खबर आई कि सीएम जयललिता को कार्डिएक अरेस्ट हुआ है।

 

किस वर्ष जयललिता के साथ तमिलनाडु विधानसभा में हाथापाई हुई थी?

 

जयललिता से जुड़ी हर ख़बर के लिए यहां क्लिक करें...        

जयललिता का निधन: तमिलनाडु में अलर्ट घोषित, अस्पताल जाने वाले रास्ते बंद

वीडियोः लाइफ सपोर्ट सिस्टम पर जयललिता; राज्य में बस सेवा अस्थायी तौर पर बंद

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App