ताज़ा खबर
 

पक्षी से तेज टक्कर पर एयर इंडिया का प्लेन हुआ डैमेज, मुख्यमंत्री सहित 160 यात्री बाल-बाल बचे

एयर इंडिया के जिस विमान को पक्षी ने टक्कर मारी, उसमें मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन भी शामिल थे, उन्होंने बाद में ट्वीट कर एयरलाइंस प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया।

Author नई दिल्ली | January 20, 2018 6:36 PM
एयर इंडिया का विमान (फाइल फोटो)

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सहित 160 यात्री प्लेन हादसे का शिकार होते बाल-बाल बच गए। संयोग ठीक रहा कि पक्षी से तेज टकराव के बाद आंशिक रूप से डैमेज होने के बाद भी एयर इंडिया का विमान हादसाग्रस्त नही हुआ। घटना उस समय हुई जब गुवाहाटी एयरपोर्ट पर प्लेन को उतारा जा रहा था। मुख्यमंत्री सहित सभी यात्रियों को काफी मशक्कत के बाद गुवाहाटी एयरपोर्ट पर सुरक्षित उतार लिया गया। यह विमान नई दिल्ली से गुवाहाटी होते हुए इंफाल जा रहा था, मगर बर्ड हिट के चलते फ्लाईट गुवाहाटी से आगे नहीं बढ़ सकी। यात्रियों को दूसरे विमान से अगले दिन इंफाल रवाना किया गया। इस घटना के बाद मुख्यमंत्री ने एयर इंडिया मैनेजमेंट पर खराब प्रबंधन का आरोप लगाया। जिसके बाद एयर इंडिया ने सफाई पेश की। टक्कर काफी तेज थी, जिसके चलते विमान में छेद होने जैसी स्थिति सामने आई।

 

बर्डहिट की घटना के बाद मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन ने किये ट्वीट

 

मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन ने कहा कि- ‘‘ भगवान की कृपा से प्लेन सुरक्षित लैंड हो गया।बर्ड हिट तगड़ा था, बड़ी अनहोनी हो सकती थी। भगवान का शुक्रिया कि हम सभी 160 यात्री सकुशल गुवाहाटी में उतर गए। ”  दूसरे ट्वीट मे मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन ने एयर इंडिया मैनेजमेंट पर लापरवाही का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि एयरक्राफ्ट के भीतर तमाम यात्री भूख-प्यास से परेशान रहे।मौके पर एयर इंडिया के केवल तीन स्टाफ मौजूद रहे। मुख्यमंत्री के ट्वीट के बाद हड़कंप मच गया। एयरइंडिया के प्रवक्‍ता ने कहा- ‘‘ एयरलाइंस ने अपनी ओर से बेहतर प्रयास किया और प्लेन में फंसे यात्रियों को सभी सुविधाएं मुहैया कराईं। वहीं प्रवक्ता ने यह भी बताया कि इंजीनियर की एक टीम से परीक्षण कराने के लिए प्लेन को गुवाहाटी में उतारा गया। हादसे के बाद विमान को गुवाहाटी हवाई अड्डे पर ही रोक दिया गया। बाद में किसी तरह एयर इंडिया ने यात्रियों के ठहरने का इंतजाम किया, तब अगले दिन शनिवार को उन्हें गंतव्य रवाना किया गया।

Hindi News से जुड़े अपडेट और व्‍यूज लगातार हासिल करने के लिए हमारे साथ फेसबुक पेज और ट्विटर हैंडल के साथ गूगल प्लस पर जुड़ें और डाउनलोड करें Hindi News App